आशुतोष राजन ने 2021 -22 के बारे में अधिकारियों एवं ठेकेदारों से सुझाव मांगे।
February 4th, 2021 | Post by :- | 134 Views

अम्बाला:(अशोक शर्मा)
कलैक्टर, स्टेट एक्साईज, हरियाणा आशुतोष राजन ने आबकारी विभाग के तीन जिलों के अधिकारियों एवं ठेकेदारों की एक बैठक सैक्टर 9 स्थित आबकारी एवं कराधान विभाग के कार्यालय में ली। यहां पहुंचने पर आबकारी एवं कराधान आयुक्त अम्बाला आलोक पासी ने मुख्य अतिथि का पुष्प गुच्छ देकर स्वागत किया। बैठक के दौरान कलेक्टर ने 3 जिलों के आबकारी विभाग के कार्य एवं एक्साईज डयूटी कोलैक्शन व पैनेल्टी कोलैक्शन की विस्तार से समीक्षा की एवं आगामी आने वाली आबकारी नीति 2021-22 के बारे में अधिकारियों एवं ठेकेदारों से सुझाव मांगे। समीक्षा बैठक के दौरान यह बात उभरकर सामने आई कि गत वर्ष 2020-21 में पिछले वर्षों की अपेक्षा अम्बाला जिले में लगभग 23 प्रतिशत अधिक आबकारी शुल्क की प्राप्ति सरकारी कोष में दर्ज की गई है, अम्बाला जिले के तहत वर्ष 2019 में दूसरी तिमाही के तहत 441.60 करोड़ की एवज में 543.25 करोड़ रूपये आबाकारी शुल्क के रूप में राजस्व प्राप्त हुआ है। इसी प्रकार कुरूक्षेत्र जिले में 58.97 करोड़ के एवज में 85.06 करोड़ प्राप्त हुआ है जोकि आबकारी शुल्क 44.25 प्रतिशत अधिक है की प्राप्ति हुई।
इस मौके पर आबकारी एवं कराधान आयुक्त अम्बाला आलोक पासी ने बताया कि गत वर्ष पिछले वर्षों की अपेक्षा शराब का अतिरिक्त कोटा अधिक मात्रा में उठाया गया है एवं इस पर सरकार को अतिरिक्त आबकारी शुल्क की प्राप्ति हुई है। अम्बाला जिला में वर्ष 2019-20 में शराब का अतिरिक्त कोटा शुन्य उठाया गया था जबकि वर्ष 2020-21 में 8.90 लाख पी.एल. अभी तक उठाया जा चुका है जिससे सरकार के राजस्व में अतिरिक्त 3.40 करोड़ रूपये प्राप्त हुए हैं। इसी प्रकार जिला कुरूक्षेत्र में अब तक 6.36 लाख पी.एल. अतिरिक्त कोटा एवं कैथल जिले में 13.45 लाख पी.एल. कोटे का उठान हुआ है, जिसके तहत क्रमश: 1.98 करोड़ एवं 4.64 करोड़ रूपये अतिरिक्त राजस्व प्राप्त हुआ है। तीनों जिलों का कुल अतिरिक्त आबकारी डयूटी 10.02 करोड़ रूपये पिछले वर्षों की तुलना में अधिक प्राप्त हुए हैं।
इसके अतिरिक्त विगत वर्ष 2019-20 की तुलना में आबकारी नियम व नीतियों की उल्लंघना हेतू लगाये गये जुर्माने भी इस वर्ष अधिक रहे हैं जिसमें अम्बाला जिले में वर्ष 2019-20 में 18.06 लाख रूपये जुर्माना लगाया था जोकि इस वर्ष अब तक 4.58 करोड़ रूपये का जुर्माना लगाया जा चुका है जिसमें से 1.59 करोड़ रूपये अभी तक वसूल भी किए जा चुके हैं। यही स्थिति कैथल एवं कुरूक्षेत्र जिले की भी है। इसके अतिरिक्त कोविड सैस के द्वारा भी सरकार को अतिरिक्त राजस्व की प्राप्ति हुई है एवं पिछले वर्षो की अपेक्षा इस वर्ष अधिक आबकारी शुल्क की प्राप्ति सरकारी खजाने में दर्ज की गई है।
बैठक के दौरान कलैक्टर आशुतोष राजन ने अम्बाला जिले में शराब की डिस्टलरीज के बारे में कड़ा संज्ञान लेते हुए यह निर्देश दिये गये कि डिस्टलरियों के बाहर आबकारी विभाग (पुलिस) की एक अतिरिक्त चौकी लगाई जाए जोकि सीसीटीवी कैमरे से युक्त हो ताकि डिस्टलरिज से बाहर निकलने वाली गाडियों पर पैनी नजर रखी जा सके। इसके अलावा आबकारी विभाग का कर्मचारी एवं एक आबकारी पुलिस का कर्मचारी 24 घंटे डयूटी पर तैनात रहे ताकि हर गतिविधि पर नजर रखी जा सके। उन्होंने हर सप्ताह डिस्टलरियों में लगे सीसीटीवी कैमरों की फीडबैक/गतिविधियों की जानकारी फीड के माध्यम से डीईटीसी के कार्यालय में जमा करवाने के भी निर्देश दिये एवं उसकी रिपोर्ट हर 15 दिन बाद मुख्यालय को भिजवाई जाने बारे भी निर्देश दिये। उन्होंने सम्बन्धित अधिकारियों को यह भी कहा कि इस कार्य में किसी प्रकार की लापरवाही सहन नहीं की जायेगी।
समीक्षा बैठक में कलैक्टर ने तीन जिलों के आबकारी एवं कराधान आयुक्तों (आबकारी) के कार्य पर संतुष्टि जाहिर की एवं अधिकारियों और कर्मचारियों को और अधिक कुशलता से अपने कार्य को करने के लिए प्रेरित किया। अंत में कलैक्टर ने अधिकारियों एवं कर्मचारियों को निर्धारित मापदंडों की पालना करते हुए राजस्व में बढ़ौतरी के बेहतर प्रयास करने के लिए निर्देश दिये।
इस मौके पर आबकारी एवं कराधान आयुक्त अम्बाला आलोक पासी, कुरूक्षेत्र से राजकुमार व कैथल से सम्बन्धित विभाग के अधिकारीगण मौजूद रहे।

कृपया अपनी खबरें, सूचनाएं या फिर शिकायतें सीधे editorlokhit@gmail.com पर भेजें। इस वेबसाइट पर प्रकाशित लेख लेखकों, ब्लॉगरों और संवाद सूत्रों के निजी विचार हैं। मीडिया के हर पहलू को जनता के दरबार में ला खड़ा करने के लिए यह एक सार्वजनिक मंच है।