काम निकालने के बाद भट्टा मालिक ने दर्जनों मजदूरों को किया बेघर, मजदूर भूखे-प्यासे दर-दर की ठोकरें खाने को मजबूर|
June 6th, 2020 | Post by :- | 50 Views

पलवल हसनपुर (मुकेश वशिष्ट) 06 जून :- होडल-हसनपुर मार्ग गांव खिरबी के निकट स्थित एक ईंट भट्टा मालिक ने अपना काम निकल जाने के बाद दर्जनों मजदूरों को उनके परिवार सहित भट्टे से बाहर निकाल दिया। मजदूर अपने छोटे-छोटे बच्चों के साथ भूखे-प्यासे दर-दर की ठोकरें खाने को मजबूर हैं। मजदूरों ने मामले की शिकायत होडल थाना पुलिस की है। पुलिस भट्टा मालिक से पूछताछ करने में जुटी है। खबर लिखे जाने तक पुलिस ना तो भट्टा मालिक के खिलाफ मामला दर्ज कर सकी है और ना ही उन मजदूरों को उनकी मजदूरी दिलाने व उनको उनके घरों तक पहुंचाने के कोई इंतजाम कर सकी है।

गांव खिरबी के निकट स्थित भारती भट्टा के मालिक कोसीकलॉ निवासी यशपाल ने मजदूरों से अपना काम निकलवाने के बाद दर्जनों मजदूरों को मजदूरी दे बगैर ही उन्हें भट्टे से निकाल बाहर कर दिया। मजदूर अपने परिवार की महिलाओं व बच्चों के साथ दर-दर की ठोकरें खाने पर मजबूर हो रहे हैं। शनिवार को भट्टे के दर्जनों मजदूर होडल थाने में पहुंचकर भट्टा मालिक के खिलाफ शिकायत दी। मजदूरों ने यहां पुलिस को दी शिकायत में भट्टा मालिक पर आरोप लगाते हुए कहा कि मालिक ने पिछले कई महीनों से हमारी मजदूरी नहीं दी है और ना ही हमें खाना-पानी दे रहा है। जब भी भट्टे पर मौजूद मुनीम से मजदूरी मांगते हैं तो वह हमें गालियां देकर वहां से भगा देता है।

इसके अलावा मालिक भी उनसे गाली-गलौच से बात करता है। मजदूरों ने बताया कि भट्टा मालिक से जब हम जाने के लिए कहते हैं तो वह लॉकडाउन की बात कहकर हमें खाना व मजदूरी दे बगैर ही हमसे जबरदस्ती कार्य कराता है। उन्होंने बताया कि आज हम कैसे-कैसे भट्टा मालिक के चूंगल से आजाद होकर थाने तक पहुंचे हैं। हमने थाना प्रभारी को शिकायत देकर भट्टा मालिक से मजदूरी दिलाने व उनको उनके घरों तक पहुंचाने की गुहार लगाई है। इस मामले में थाना प्रभारी मोहम्मद इलियाश का कहना है कि मजदूरों की शिकायत उन्हें मिल चुकी है। उन्होंने भट्टा मालिक को थाने में बुलाकर मजदूरों को उनके घर पहुंचाने के लिए फटकार लगाई है। उन्होंने कहा कि अगर भट्टा मालिक ने मजदूरों को उनके घर तक नहीं पहुंचाया तो उसके खिलाफ कानूनी कार्यवाही की जाएंगी।

कृपया अपनी खबरें, सूचनाएं या फिर शिकायतें सीधे editorlokhit@gmail.com पर भेजें। इस वेबसाइट पर प्रकाशित लेख लेखकों, ब्लॉगरों और संवाद सूत्रों के निजी विचार हैं। मीडिया के हर पहलू को जनता के दरबार में ला खड़ा करने के लिए यह एक सार्वजनिक मंच है।