निरंतर पंचकर्म चिकित्सा की जाए तो अधिक लाभ मिलता है-डॉक्टर संदीप मलिक
September 27th, 2019 | Post by :- | 74 Views
  अंबाला :अशोक शर्मा
आयुर्वेदिक जिला अधिकारी डॉक्टर सतपाल जी द्वारा डॉक्टर संदीप मलिक योगाचार्य पंकज बक्शी व स्नेहा सहगल को योग कक्षा का कार्यभार सौंपा  व सुबह 5 से 6:30 बजे की योग कक्षा आरंभ हो गई शुरुआत में 20 लोग योग कक्षा में अा रहे थे देखते ही देखते लोगों की संख्या बढ़ने लगीं और 70 दिनों में ही लोगों की संख्या बढ़कर 516 हो गई इस समय योगशाला में योग की पांच कक्षाएं चल रही है और बड़ी संख्या में लोग अपना नाम दर्ज करवा रहे हैं
 बच्चो के लिए विशेष रूप से शाम की कक्षा को रखा गया है ताकि अंबाला के बच्चे स्वस्थ्य लाभ के साथ साथ एक अच्छे खिलाडी भी बन सके शाम की क्लास में लगभग 35 बच्चे योगाभ्यास के लिए अा रहे हैं व आयुष विभाग की और से भी अंबाला के स्कूलों में जा कर प्रिंसिपल से मिलकर योग अवेयरनेस सेमिनार लगाए जा रहे हैं ताकि  बच्चो को योग प्रतियोगिता में हिस्सा दिलवाया जा सके जिस से जिला स्तरीय, राष्ट्रीय स्तरीय व अंतरराष्ट्रीय स्तर पर प्रदेश का नाम रोशन कर सके
  अंबाला योग एसोसिएशन का गठन भी हो चुका है जिस के प्रेसिडेंट राजिंदर विज जी को बनाया गया व उनके मार्ग दर्शन में योगशाला में सप्ताह में एक बार हैल्थ सम्बन्धी विषयों की जानकारी के लिए आयुर्वेदा, यूनानी, होमोपेथी, के डॉक्टर  बुलाए जा रहे हैं  वीरवार का दिन विशेष रूप आयुर्वैदिक कक्षा के लिए निर्धारित किया गया है सुबह व शाम 6 बजे से 6:30 बजे का समय रखा गया है जिस में आयुष विभाग से डॉक्टर चंदन दुआ जी ने आज ज्वाइंट पेन (संधिवात)के बारे में विस्तार पूर्वक बताया उनके अनुसार बडी संख्या में लोग घुटनों के दर्द से परेशान है आयुर्वेदिक चिकित्सा में जॉइंट पेन का इलाज संभव है यदि निरंतर पंचकर्म चिकित्सा की जाए तो अधिक लाभ मिलता है उन्होंने बताया जैसे जैसे उमर व मोटापा बड़ता है तो घुटनों में कार्टिलेज खत्म होने लगती हैं आयुर्वेदिक चिकित्सा अपनाकर हम स्वस्थ्य लाभ ले सकते है आज की आयुर्वैदिक कक्षा में बडी संख्या में लोग उपस्थित थे और उन सभी ने हृदय से स्वस्थ्य मंत्री श्री अनिल विज जी व डॉक्टर चंदन दुआ, डॉक्टर संदीप मलिक, योगाचार्य पंकज बक्शी, व स्नेहा सहगल का आभार व्यक्त किया कि अंबाला के लोगों को एक नई रौशनी दिखाई

कृपया अपनी खबरें, सूचनाएं या फिर शिकायतें सीधे editorlokhit@gmail.com पर भेजें। इस वेबसाइट पर प्रकाशित लेख लेखकों, ब्लॉगरों और संवाद सूत्रों के निजी विचार हैं। मीडिया के हर पहलू को जनता के दरबार में ला खड़ा करने के लिए यह एक सार्वजनिक मंच है।