साइबर धोखेबाजों और वित्तीय अपराधियों से निपटने के लिए अकादमी में कार्यशाला आयोजित
October 3rd, 2019 | Post by :- | 152 Views

चंडीगढ़, ( महिन्द्र पाल सिंहमार ) ।     चंडीगढ 3 अक्तूबर –  हरियाणा पुलिस अकादमी मधुबन  में राज्य अपराध शाखा, हरियाणा के सहयोग से साइबर धोखाधड़ी और वित्तीय अपराध विषय पर दो दिवसीय कार्यशाला आरम्भ हुई। इसका शुभारम्भ राज्य अपराध शाखा हरियाणा के डीजीपी, पीके अग्रवाल ने अपने संबोधन के साथ किया।

                मुख्य अतिथि डीजीपी पीके अग्रवाल ने अपने संबोधन में कहा कि डिजिटल तकनीक का तेजी से प्रसार हो रहा है। सामान्य व्यक्ति भी अब स्मार्ट फोन का प्रयोग करता है, एटीएम और इंटरनेट बैंकिंग के माध्यम से बेंकिग सेवाएं प्राप्त करता है । जानकारी के अभाव में लोग इंटरनेट, एटीएम पर सुरक्षा सावधानियों के बारे में ज्यादा जागरूक नहीं हैं, जिसका  फायदा साइबर का इस्तेमाल करते हुए धोखाधड़ी करने वाले उठाते हैं। हमें नागरिकों को साइबर धोखेबाजों से बचाना है। उन्होंने कहा कि पुलिस अनुसंधान अधिकारियों साइबर क्षेत्र में अपनी क्षमता का विकास करते रहना होगा तभी वे नागरिकों को साइबर धोखेबाजों से सुरक्षित रखने तथा साइबर अपराधियों को सजा दिलवाने की चुनौतियों पर पार पाने में सफल होंगे।  वर्तमान में कम्प्यूटर को न जानने वाला व्यक्ति अनपढ़ जैसा है।  सीखने की इच्छाशक्ति के आगे उम्र कोई बाधा नहीं होती इसके अनेक उदाहरण हैं। पुलिस को भी अपने आस-पास होने वाले आर्थिक और टेक्रॉलाजी परिवर्तनों के अनुरूप अपने को उपयोगी बनाए रखने के लिए निरंतर कुछ नया करने कुछ नया सीखने के लिए समर्पित रहना चाहिए।  उन्होंने विश्वास व्यक्त किया कि इस कार्यशाला में प्रतिभागी जो जानकारी वित्तीय अपराधों और साइबर के माध्यम से की जाने वाली धोखाधड़ी के अन्वेषण के बारे में जानेंगे वे उन्हें न केवल अपने कार्य में प्रयोग करेंगे बल्कि अपने साथियों को भी इस जानकारी का लाभ देंगे। उन्होंने कार्यशाला के आयोजन में सक्रिय भागीदारी के लिए कार्यशाला के नोडल अधिकारी एवं जींद के एसएसपी अश्विन शेणवी की प्रशंसा की तथा इस विषय पर जानकारी देने वाले विद्वानों की उपलब्धता के लिए सीबीआई अकादमी गाजियाबाद के आईजी शरद अग्रवाल तथा महाराष्ट्र पुलिस के साइबर विभाग के आईजी बृजेश सिंह तथा व्यवस्था सहयोग के लिए हरियाणा पुलिस अकादमी के निदेशक श्रीकांत जाधव का आभार व्यक्त किया।

                इस से पूर्व कार्यशाला के नोडल अधिकारी एवं जींद के एसएसपी अश्विन शेणवी ने मुख्य अतिथि का स्वागत किया तथा कार्यक्रम की रूपरेखा प्रस्तुत करते हुए कहा कि कार्यशाला के प्रथम दिन साइबर एवं वित्तीय अपराधों की विवेचना, क्रिप्टोकरंसी, बिट क्वॉयन जैसे वित्तीय अपराध के नये स्वरूपों के बारें मेंं तथा दूसरे दिन बैकिग फ्रॉड मामलों में बचाव इन मामलों में की जाने वाली कार्यवाही पर जानकारी दी जाएगी। उन्होंने मुख्य अतिथि को स्मृति चिन्ह भी भेंट किया।

                शुभारम्भ अवसर पर अकादमी के पुलिस अधीक्षक वसीम अकरम ने अकादमी की ओर से मुख्य अतिथि, उपस्थिति प्रतिभागियों का आभार व्यक्त किया। इस अवसर पर स्पेशल टॉस्क फोर्स हरियाणा के डीआईजी के सतीश बालन, एसपी जश्रदीप सिंह रंधावा व एसपी राजेश दुग्गल भी उपस्थित रहे।  कार्याशाला में आगामी सत्र में सीबीआई अकादमी गाजियाबाद के प्रशिक्षक डीएसपी संजय गौतम व प्रशिक्षक निरीक्षक मुकेश कुमार ने प्रतिभागियों का ज्ञानवर्धन किया।