गोविंदराम की हत्या में शामिल दो बदमाश ओर दबोचे। चार बदमाशों ने दिया था वारदात को अंजाम
February 13th, 2020 | Post by :- | 25 Views
नूंह मेवात , ( लियाकत अली )  ।  पुन्हाना शहर में करीब आठ दिन पहले सर्राफा व्यापारी गोविंद राम की हत्या मामले में बुधवार को दो और आरोपियों की गिरफ्तारी पुलिस ने की है । इससे पहले मंगलवार को पुलिस दो आरोपियों को पहले ही गिरफ्तार कर चुकी है । गोविंद राम की हत्या में चार आरोपी शामिल थे , जो अब पुलिस के शिकंजे में हैं । बुधवार को पकड़े गए दो आरोपी को पुलिस ने कोर्ट में पेश कर रिमांड पर लिया है , ताकि लूटे नकदी व जेवरात इत्यादि की बरामदगी हो सके । डीएसपी अशोक कुमार पुनहाना ने पत्रकारों से बातचीत के दौरान कहा कि पुलिस ने निजामुद्दीन एवं मुनशरीफ निवासियान पटपड़बास को गिरफ्तार कर लिया है । दोनों गिरफ्तार आरोपियों को फिरोजपुर झिरका की अदालत में पेश किया गया है , जहां से उन्हें रिमांड पर लिया गया है । डीएसपी ने बताया कि इससे पहले दो आरोपी गिरफ्तार हो चुके हैं । जिनसे वारदात में इस्तेमाल हुए दोनों हथियार – कारतूस बाइक इत्यादि पुलिस ने बरामद कर ली थी । जिन्हें भोंडसी जेल भेजा जा चुका है । कई टीमों ने इस कामयाबी को हांसिल किया है। वे सभी जवान बधाई के पात्र हैं , जिन्होंने कम समय मे ब्लाइंड लूट – हत्या की गुत्थी को सुलझा दिया।
कैसे रची साजिश ;-  डीएसपी  ने पत्रकारों को बताया कि चारों बदमाशों ने सबसे पहले सर्राफा व्यापारी को लूटने के लिए गत 28 -29 जनवरी को योजना बनाई , लेकिन बात नहीं बनी। उसके बाद बदमाशों ने गत गत 3 फरवरी को लूट की योजना बनाई , लेकिन इनका एक साथी नहीं पहुंच सका। जिसके चलते इन्हें फिर निराशा हाथ लगी। गत 4 फरवरी को तीसरी और अंतिम बार योजना में बदमाश कामयाब हो गए और इसी लूट के चक्कर में हत्या कर दी। जिले के इतिहास की शायद यह पहली घटना थी। जिसमें लूट के बाद हत्या की वारदात को अंजाम दिया गया। डीएसपी ने बताया कि बदमाश किस्म के व्यक्ति हैं , लेकिन पूछताछ में खुलासा होगा की इन्होंने कितनी वारदातों को कब और कहां – कहां अंजाम दिया है।
क्या काम करते थे आरोपी ;-  डीएसपी  ने पत्रकारों को बताया कि लूट – हत्या की वारदात को अंजाम देने वाले चार बदमाशों में से एक मोबाइल रिपेयर का काम करता था , तो एक टैक्सी चलाता था। उनके जल्दी अमीर होने की फितरत ने उन्हें अपराधी बना दिया। नई उम्र में लूट – हत्या की वारदात को अंजाम देने वाले चारों अपराधियों की पूरी उम्र जेल की चारदीवारी में ही गुजर सकती है। बदमाशों की सजा तो कोर्ट तय करेगा , लेकिन सर्राफा व्यापारी को जान से मारने वाले अब अपने सही ठिकाने पर पहुंच चुके हैं।
सीआईए नूह टीम को मिली कामयाबी ;- लूट – हत्या के ब्लाइंड मर्डर को सुलझाना पुलिस के लिए किसी चुनौती से कम नहीं था। सीआईए नूह प्रभारी इंस्पेक्टर विपिन कुमार की अगुवाई वाली टीम ने पूरी गंभीरता दिखाते हुए काम किया और बदमाशों के गिरेबान तक खाकी के हाथ पहुंच गए।