पॉलीथिन फ्री ग्राम पंचायत का सरपंच बनेगा ” चैम्पियन सरपंच “ग्राम पंचायतो को पॉलीथिन फ्री बनाने के लिए चलेगा विशेष अभियान
October 11th, 2019 | Post by :- | 154 Views
बीकानेर (रामलाल लावा )  जिले की जो ग्राम पंचायत पॉलिथीन फ्री होगी उस ग्राम पंचायत के सरपंच को ’चैम्पियन सरपंच’ से नवाजा जाएगा। जिले में पॉलिथीन मुक्त ग्राम पंचायतें बनाने के लिए विशेष अभियान चलाया जाएगा। इस अभियान में मदद करने वाले जनप्रतिनिधि, कर्मचारी, समाज सेवी व विद्यार्थियों को सम्मानित किया जाएगा।
जिला कलक्टर कुमार पाल गौतम ने चयनित ग्राम पंचायतों के सरपंचों, ग्राम विकास अधिकारी तथा पीईईओ के साथ सिंगल यूज प्लास्टिक फ्री ग्राम पंचायत (पीएफजीपी) अभियान के शुभारंभ के अवसर पर शुक्रवार को कलेक्टेªट सभागार में आयोजित चर्चा ’काॅफी विद कलक्टर ’ में यह बात कही। उन्होंने कहा कि ओडीएफ में बीकानेर सदैव पायोनियर जिला रहा है, पॉलिथीन मुक्ति के लिए भी सरपंच एक बार फिर अनुकरणीय कार्य कर शहरों के लिए प्रेरक बनें कि जब गांव पॉलिथीन मुक्त हो सकते हैं तो शहर क्यूं नहीं। यह समुदाय के सहयोग से ही संभव है, इसके लिए जागरूकता सबसे अहम है। जागृति से ही व्यवहार परिवर्तन संभव है।
गौतम ने कहा कि वर्तमान में ग्रामीण विकास और पंचायती राज विभाग में जो जनप्रतिनिधि हैं उनका कार्यकाल समाप्ति की ओर है ऐसे में अगर वे लोग पूरी क्षमता के साथ पॉलिथीन मुक्त ग्राम पंचायत बनाने के लिए कार्य करें तो यह एक मिसाल बनेगी। जनप्रतिनिधियों के कार्यकाल के लिए भी यह उपलब्धि एक माइलस्टोन होगा, जिससे ग्राम पंचायत भी पॉलिथीन मुक्त हो सकेगी।
कपड़ों के बैग बनाकर वितरित करवाएं
जिला कलक्टर ने उपस्थित सभी सरपंचों से आग्रह किया कि वे अपनी-अपनी ग्राम पंचायत में बने स्वयं सहायता समूह से बातचीत कर उन्हें पुराने कपड़े उपलब्ध करवाएं और इन कपड़ों के बैग बनाकर विपणन का कार्य करवाएं। इससे स्थानीय महिलाओं को रोजगार मिलेगा और उनको आर्थिक सम्बलन भी मिल सकेगा। उन्होंने कहा कि सभी सरपंच अपनी-अपनी ग्राम पंचायत के मुख्य मार्ग पर यह पोस्टर भी चिपका दें कि हमारी ग्राम पंचायत पॉलिथीन मुक्त ग्राम पंचायत है अगर यहां कोई व्यक्ति पॉलिथीन का उपयोग करता हुआ पाया गया तो उस पर जुर्माना लगेगा तथा कानूनी कार्रवाई अमल में लाई जाएगी।
बनेगा पाॅलिथीन बैंक
गौतम ने कहा कि दुग्ध डेयरी द्वारा तथा चाय की स्टाल पर भी पॉलिथीन का उपयोग होता है साथ ही विभिन्न प्रकार के खाद्य सामग्री जो पॉलिथीन पैकिंग में आती है उस पर भी प्रतिबंध लगाया जाएगा। जब तक पूर्ण प्रतिबंध ना लगे तब तक के लिए एक पॉलिथीन बैंक की स्थापना की जाएगी और इस बैंक में पुराना पॉलिथीन जमा करवाया जाएगा सभी जगह से पॉलिथीन एकत्रित होने के बाद इस पॉलिथीन को सीमेंट फैक्ट्रियों में भेजा जाएगा जहां इन्हें नष्ट किया जा सके।
पाॅलिथीन से माफी
जिला कलक्टर ने उपस्थित जनप्रतिनिधियों व अधिकारियों से कहा कि वह अपने-अपने क्षेत्र में दुकानदारों से भी बातचीत कर उन्हें समझाइश करें कि जिस तरह वे अपनी दुकान पर उधार माफी आदि से जुड़े बोर्ड लगाते हैं उसी तर्ज पर पाॅलिथीन से माफी जैसे बोर्ड भी लगवाएं तथा दुकानदार भी ग्राहकों से समझाइश रें तो सामूहिक सहयोग से इस दिशा में किया गया कार्य ही परिणाम दे सकेगा और ग्राम पंचायत पॉलिथीन मुक्त हो जावेगी। गौतम ने कहा कि जनप्रतिनिधि अपनी इस उपलब्धि को माइल स्टोन के रूप से में स्थापित कर सकते हैं और लोग इस कार्य को याद रखेंगे।
स्कूली बच्चों का सहयोग लें
जिला कलक्टर ने सभी सरपंचों से कहा कि इस कार्य में वे अपने क्षेत्र की स्कूलों में पढ़ रहे बच्चों का भी सहयोग लें। प्रार्थना के समय प्लास्टिक से होने वाले दुष्प्रभाव के बारे में बताया जाए यदि बच्चा यह बेहतर तरीके से समझ गया तो वह अपने पेरेंट्स को भी प्लास्टिक के इस्तेमाल ना करने की सलाह दे सकेगा। अधूरी होगी दीपावली की सफाई
गौतम ने कहा कि आने वाले दिनों में दीपावली का महापर्व हम सब लोग मनाएंगे। इस पर्व से पहले हम अपने घर और संस्थानों की साफ-सफाई का कार्य भी करते हैं। हमें यह भी शपथ लेनी होगी कि अब हम घर की सफाई करने के साथ-साथ पॉलिथीन का उपयोग भी नहीं करेंगे। अगर पॉलिथीन का बहिष्कार नहीं हुआ तो हमारे घर की सफाई भी अधूरी ही रहेगी। पूरी सफाई के लिए पॉलिथीन का पूरी तरह से बहिष्कार, ही हमारा लक्ष्य होना चाहिए। इस अवसर पर भारतीय प्रशासनिक सेवा के प्रशिक्षु अधिकारी अभिषेक सुराना, मुख्य कार्यकारी अधिकारी जिला परिषद नरेंद्रपाल सिंह, उप निदेशक जनसंपर्क विकास हर्ष सहित विभिन्न सरपंचों व शाला प्रधानों ने भी विचार रखे। जिला कलेक्टर द्वारा इस अवसर पर कांच के एक मग का लोकार्पण किया गया। यह मग जिला स्वच्छता मिशन ग्रामीण बीकानेर द्वारा बनाया गया है, जिस पर स्वच्छ भारत मिशन और जन्मदिन व शादियों में प्लास्टिक के गुब्बारे नहीं लगाए जैसे संदेश लिखे गए हैं। यह मग सभी सरपंचों को प्रदान किए गए। कार्यक्रम में बीकानेर पंचायत समिति की शेरेरां, हेमेरा, नालबड़ी, श्रीडूंगरगढ़ की पूनरासर, मोमासर, सावंतसर, जोधासर,  पांचू पंचायत समिति की काहिरा, किसानासर, शोभाणा,कोलायत पंचायत समिति की कोलायत, गजनेर, खारी चारणान, बज्जू, नोखा पंचायत समिति की चरकड़ा, मुकाम, नोखा गांव, लूणकरनसर पंचायत समिति की कालू, सहजरासर, ढाणी पाण्डूसर, खाजूवाला पंचायत समिति की खाजवूाला, 2 केडब्ल्यूएम, करणीसर भाटियान के सरपंचों ने भाग लिया।