बोधिसत्व बाबासाहब डॉ भीमराव अम्बेडकर का देश के विकाश में योगदान……
February 10th, 2020 | Post by :- | 56 Views

भारत में पहले लड़कियों को कोई अधिकार नहीं थे. पढ़ने,नौ करी के बारे में तो छोड़िये उन्हें घर से बहार निकलने की भीपा बन्दी थी. बस घर और चूल्हा यही उनकी हद थी।

1.उन्होंने भारत में प्रथम लड़कियों को स्त्रियों को पुरुषो केबबराबरी के हक़ देने के लिए हिन्दू कोड बिल लिखा.

२.भारत में प्रथम नोकरदार गर्भवती अौरतों को वेतनी छुट्टियों का हक़ दिया।

३.लड़कियों को लड़को के बराबर समानता मिलाके दी। लड़कियों को पढ़ने का हक़ दिलाया.

4.लड़कियों को प्रॉपर्टी में लडको के बराबर की हिस्सेदारी दी। लड़कियों को नौकरी में भागीदारी दी।

5. गर्भावस्था में छुट्टी का अधिकार वो भी पूरे वेतन के साथ मिला के दिया।

6. एक पति के लिए एक पत्नी का अधिकार और दूसरी पत्नी के आते ही अपने पति से हिस्से का अधिकार प्राप्त करके दिया।

7. लड़कियों को आज़ादी से जीने का अधिकार दिया।

8.अपने शोषण के खिलाफ आदालत में जाने का अधिकार दिया।

9. अपनी मर्ज़ी से शादी का अधिकार दिया।

10. वोट देने का अधिकार दिया।

11. भारत में प्रथम अर्थशाश्त्र की नीव रखी.

12. भारत में प्रथम जलनीति तैयार की।

१3. भारत में प्रथम परिवार नियोजन का नारा दिया।

14. भारत के हर एक नागरिक को मतदान का हक़ दिया।

15. भारत में बालमजुरी पर रोक लगायी.

16. भारत से उच्च नीच जातिवाद की गुलामी से मुक्त किया।

17. भारत से सावकारी, वेठ्बिगारी पद्धत को बंद किया।

18. देश की घटना लिख के सामाजिक एवम भौगोलिकबविविधता वाले देश को एक बनाये रखा।

19. देश के 85% जनता को समानता का अधिकार दिया।

20. देश की 85% जनता को उच्च वर्ग के साथ लाके खड़ा कर दिया।

21. दलितों पर से अलग अलग तरह के प्रतिबंद हटाये। सभी को समान अवसर एवम सुविधा उपलब्ध करायी।

22. सभी को अपना धर्म चुनने की आजादी दी।

23. सभी को शिक्षा का अवसर प्रदान किया।

24. रिजर्व ऑफ इंडिया की स्थापना उन्ही के संकल्पना में हुयी, इस बैंक की स्थापना में उनका ही महत्वपूर्ण योगदान रहा।
उन्ही के लिखित ”दि प्राब्लेम ऑफ दी रुपी” इस प्रबंध के आधार पर रिझर्व बँक ऑफ इंडिया के रूल्स और रेग्युलेशन बनाये गए..

25. महाराष्ट्र राज्य के निर्माण मे इनका महत्व पुर्ण योगदान है।

26. हीराकुण्ड बांध,भाखड़ा बांध, दामोदर बांध और सन प्रकल्प के निर्माते भी वही थे,
कोसी नदी पे धरना बांधो बिहार में कभी बाढ़ नहीं आएगी ये बताने वाले भी वही थे.

26. उन्होंने देश के मजूर मंत्री रहते वक़्त शिष्यवृत्ति योजना बनायीं। इससे हजारो टेक्निकल विद्यार्थी विदेश में पढ़ने जाते
है।

27. मजूरों को पहले 12 घंटे काम करना पड़ता था। उसे घटाकर उन्होंने 8 घंटे कर दिया और इसके ऊपर के काम के लिए घंटे के
हिसाब से अलग पैसे देने का प्रावधान किया।

28. ऊर्जा निर्मिति व्यवस्था के लिए उन्होंने “सेन्ट्रल टेक्निकल पॉवर बोर्ड CTPB की स्थापना की थी।

29. उन्हीने अपनी बुद्धि और परिश्रम से सिंचन और बंधारो के लिए आयोग की स्थापना की थी। क्यों की इनपे आर्थिक भर रहता है।

30. पानी के व्यवस्थापन के लिए, नैसर्गिक संसाधन, कोयला खान प्रकल्प के लिए उनका ही परिश्रम कारणीभूत है..

31. खेती, उद्योग, कारखानो के विकास और पुनर्वसन के लिए RCC reconstruction committee council की स्थापना की
गयी थी वे वह सभासद थे। इसमें उनका योगदान महत्वपूर्ण रहा।

32. उन्होंने ही पहले ही बिहार और MP के दो पटना रांची और दक्षिण उत्तर ऐसे भाग करने को कहा था। ताकि इन राज्यों का विकास हो सके. 45 साल बाद छत्तीसगढ़ और झारखण्ड
अलग किये गए।

33. शिक्षक देश की रीढ़ की हड्डी है इसलिए उन्हें ज्यादा वेतन तनख्वाह मिले ये भी उन्हीने कहा था।

34. देश में कोयले की बिजली नहीं चलेगी उसके बदले सौरऊर्जा का इस्तेमाल करके जल विद्युत प्रकल्प खड़े करने को कहा था।

35. उनके बेटे ने भ्रष्टाचार किया तो खुद के पेपर में खुद के बेटे पे निंदा टिपणी करके भ्रष्टाचार विरोधी होने का सबूत दिया।

36. लड़कियों का गर्भपात न करे ये बताने वाले भी वही थे।

37. किताबों के लिए स्पेशल घर बांधने वाले भी वही थे।

38. देश को उपराजधानी चाहिए ये बताने वाले भी वही थे।

39. मुझे कायदे मंत्री नहीं बनाना मुझे कृषि मंत्री बनके किसानों को न्याय मिलाके देना है. किसानो का राज्य लाना है ये कहने वाले भी वही थे।

40. कोकण में खोती का आंदोलन करने वाले भी वही थे।

41. तिलक के बेटे ने आत्महत्या की थी. उस समय भविष्य में कोई आत्महत्या न करे इस्पे भावपूर्ण स्वर में लेख लिख के श्रंद्धांजलि
देने वाले भी वाही थे।

42. तीन लष्करी प्रमुख कभी एक साथ न मिले ये लोकशाही के लिए घातक है ये बताने वाले भी वही थे।

43. वो एकमात्र ऐसे भारतीय थे जिन्हे गोलमेज परिषद में आने के लिए विशेष आमंत्रण दिया जाता। वो एक मात्र नेता है।

44. लड़कियों के हक़ के लिए उनके सम्मान के लिए अपने मंत्र पद से इस्तीफा दिया था।

45. दुनिया की सबसे बड़ी अर्थव्यवस्था वाला अमेरिका देश भी उनके लिखित अर्थशास्त्र पर चलता है.
वो एक अच्छे व्होलीयोन वादक भी थे. एक शिल्पकार, चित्रकार भी थे ये बात तो बहुत से लोगों को भी पता नहीं।

46. उन्हें टोटल आठ भाषाए आती थी. हिंदी, अंग्रेजी, मराठी, संस्कृत, गुजरती, पारसी, जर्मन, फ्रेंच. इसके आलावा उन्होंने पाली व्याकरण और शब्दकोष भी लिखी थी.

47. उन्होंने संसद में पेश किए हुए विधेयक महार वेतन बिल, हिन्दू कोड बिल, जनप्रतिनिधि बिल, खोती बिल, मंत्रीओं का वेतन बिल, मजदूरों के लिए वेतन (सैलरी) बिल, रोजगार विनिमय सेवा, पेंशन बिल, भविष्य निर्वाह निधी (पी.एफ्.). इनके अलावा मानवी अधिकारों के लिए कई सत्याग्रह किये.
मिशन अंम्बेडकर