सीएम के आदेशों की धज्जियां उड़ा रहे हैं हरियाणा के बस चालक ।
February 13th, 2018 | Post by :- | 55 Views

कुरुक्षेत्र,( शिवचरण ) । मुख्यमंत्री के आदेश राज्य परिवहन के चालकों के लिए कोई मायने नही रखते। चालक सभी कायदे कानूनों को ताक पर रखकर मनमर्जी कर रहे है। जिसका नजारा राष्ट्रीय राजमार्ग पिपली चौंक पर रोजाना देखने को मिल रहा है। बस चालक लाल बत्ती की भी परवाह नही करते। वे सड़क के बीचों बीच बसें रोक कर सवारियों को उतारे व बैठाने का काम करते है। इसी दौरान सड़क पर जाम की स्थिति बन जाती है। हालांकि यातयात नियमों की पालना करवाने के लिए यातायात पुलिस कर्मी मौके पर मौजूद रहते है, मगर वे भी बस चालकों को नियंत्रित करने में बेबस नजर आते है।
#पिछले दिनों मुख्यमंत्री मनोहर लाल ने पैराकीट मॉटल में आयोजित जनता दरबार के बाद हाईवे बस अड्डे का औचक निरीक्षण किया था। निरीक्षण के दौरान मुख्यमंत्री ने परिवहन विभाग के महांप्रबधक व जिला प्रशासन को आदेश दिए थे कि राष्ट्रीय राजमार्ग से गुजरने वाली बसें बस अड्डे के अंदर जांएगी। इसके साथ-साथ बसों के ठहराव के लिए स्थान निश्चित करने के आदेश दिए थे। मु यमंत्री के आदेश के बाद चंडीगढ से दिल्ली जाने वाली बसें तो बस अड्डे के अंदर जाने लग गई। दूसरी ओर जिला पुलिस और परिवहन विभाग के महांप्रबधक द्वारा ठहराव के लिए निश्चित किए गए स्थानों का बसें न ठहरने के चलते रोजाना व्यवस्था बिगड़ रही है। बस चालक अम्बाला रोड पर तय किए गए स्थान पर बसें न रोक कर पिपली चौंक पर ही बसें रोक कर यात्रियों को उठाने व बैठाने का काम करते है। दूसरी ओर करनाल रोड पर बसें रोकने के लिए केवल कुरुक्षेत्र से आने वाली बसों के लिए ही ठहराव के आदेश थे। मगर सभी निर्देशों को नजरअंदाज करके परिवहन विभाग व प्राईवेट बस चालक यहां पर काफी समय तक बस रोक कर खड़े रहते हैं। इसके चलते करनाल व अम्बाला रोड पर रोजाना जाम की स्थिति बनी रहती है। यातायात व्यवस्था को सुचारू रुप देने के लिए मौके पर मौजूद यातायात पुलिस कर्मी बस चालकों के सामने बेबस नजर आते हैं।
___________________________
-क्या कहते हैं यातायात प्रभारी
#इस बारे में जिला यातायात प्रभारी देवेंद्र कुमार से बातचीत की गई तो उन्होंने ने बताया कि पुलिस ने बस चालकों पर नकेल कसने के लिए कई बसों के चालान भी किए है। बस चालक आदेशों की पालना करने की धज्जिया उड़ाते हैं। अगर पुलिस कर्मी उन्हें रोकते है तो वे झगड़ा करने पर उतारू होते हैं। पुलिस इसके बावजूद रोजाना बस चालकों पर कार्यवाही करती है।