बैंक मैनजेर में महिला पर कसा तंज तुम इतनी सुंदर हो तुम्हे क्या जरूरत है लोन की। मासिक कष्ट निवारण समिति की बैठक में बैंक अधिकारी के खिलाफ मुकदमा दर्ज करवाने के आदेश
January 12th, 2018 | Post by :- | 101 Views
QR:  बैंक मैनजेर में महिला पर कसा तंज तुम इतनी सुंदर हो तुम्हे क्या जरूरत है लोन की। मासिक कष्ट निवारण समिति की बैठक में बैंक अधिकारी के खिलाफ मुकदमा दर्ज करवाने के आदेश
कैथल, लोकहित एक्सप्रैस, (ब्यूरो चीफ  विशाल चौधरी ) ।एक तरफ तो देश के प्रधानमंत्री नरेंदर मोदी ने बेटियों को बचाने के लिए एक सार्थक पहल की है लेकिन अपना व्यवसाय स्थापित करने के लिए इन  बेटियों को बैंको कर्मचारियों की मनमानी का सामना करना पड़ रहा है।  ऐसे की एक मामले जिला मासिक कष्ट निवारण समिति की बैठक में आया जंहा गांव कैलरम की एक महिला ने बैंक मैनजेर पर आरोप लगाया कि जब वह गांव के बैंक से दो लाख रुपए का लोन लेने गई महिला से मैनेजर ने यहां तक बोल दिया कि तुम इतनी सुंदर हो  तुम्हे क्या जरूरत है लोन की। जिस पर समिति की अध्यक्षा उपायुक्त कैथल में बैंक मैनजेर के खिलाफ मुकदमा दर्ज करने के आदेश दिए जायगे।
 एक तरफ तो देश के प्रधानमंत्री देश  ने युवाओ को स्वरोजगार में बढ़ावा देने के लिए अनेको योजना चलाई हुई है लेकिन बैंक कर्मचारी इन योजनाओ को पलीता लगाने पर अमादा हैं।  लोन  न मिलने के कारण जरुरतमंदों को काफी परेशानी का सामना करना पड़ रहा है। सरकार द्वारा बेरोजगार युवाओं को रोजगार देने के लिए चलाई गई कल्याणकारी ऋण योजनाओं में जिले के बैंकर्स की कोई रुचि नहीं हैं। योजना के अंतर्गत फार्म भरने के बाद बैंक आवेदकों को लोन के लिए टालमटोल का रवैया अपनाये हुए हैं। लोन लेने वाले जरुरमंदों का आरोप है, बैंक कर्मी लोन देने के नाम पर काफी परेशान करते हैं।  प्रशासनिक सूत्रों ने बताया कि जिला प्रशासन के पास ऐसी शिकायतें पहुंची हैं, जिसमें केस रिजेक्ट करने के बड़े अजीब कारण बताए जा रहे हैं। मसलन सूअर पालन के लिए शैक्षणिक योग्यता की शर्त लगाकर केस रिजेक्ट कर दिया गया। गौरतलब है कि 6  मई 2017 को तत्कालीन उपायुक्त संजय जून ने भी बैंक अधिकारियो की इस बारे फटकार लगाई थी।
 पीएमईजीपी(प्रधानमंत्रीरोजगार सृजन योजना) के तहत लोन लेने के लिए बेरोजगार युवाओं को बैंक मैनेजरों की मनमानी का सामना करना पड़ रहा है। योजना के तहत काफी लोगों को लोन नहीं मिल रहा। कई महिलाएं बैंक अधिकारियों की अभद्रता झेल रही हैं। गांव कैलरम में तो बैंक से दो लाख रुपए का लोन लेने गई महिला से मैनेजर ने यहां तक बोल दिया कि तुम्हारा इतना सुंदर हो, तुम्हे क्या जरूरत है लोन की। महिला ने मैनेजर द्वारा किए गए व्यवहार की शिकायत डीसी को देकर कार्रवाई की मांग की थी । जिसका मामला आज की मासिक कष्ट निवारण समिति में रखा गया था जिसकी सुनाई के उपरांत समिति की अध्यक्षा ने कहा  पुलिस अधीक्षक की इन मैनजेर के खिलाफ मुकदमा दर्ज के आदेश दिए जायगे ।
  गांव कैलरम की महिला ने डीसी को दी शिकायत में बताया था कि उसका पति 15 साल से घर से बाहर रहता है और घर चलाने बच्चों के पालन पोषण के लिए खर्च नहीं देता। रेडिमेड कपड़ों का कार्य शुरू करने के लिए उसे पीएमईजीपी के तहत दो लाख रुपए का लोन चाहिए था। बैंक क 6-7 चक्कर लगाने के बाद भी लोन नहीं मिला तो उसने मैनेजर से कहा कि घर कार्य का निरीक्षण करने के बाद लोन क्यों नहीं मिल रहा? आरोप है कि इसके जवाब में मैनेजर ने दुर्व्यवहार करते हुए कमेंट किए। बोला- तुम इतनी सूंदर हो तुम्हे लोन कि क्या जरूरत है। जब मैनेजर को दुर्व्यवहार की शिकायत करने की बात कही तो वह लोन आवेदन वापस भेजने की धमकी देने लगा। महिला ने डीसी से भी पूछा था कि खुबसूरती और लोन का क्या संबंध हैं?