मिनिमम बैलेंस न रखने वालों के लिए यह है बड़ी खबर, जानिए क्या है माजरा
January 4th, 2018 | Post by :- | 19 Views
QR:  मिनिमम बैलेंस न रखने वालों के लिए यह है बड़ी खबर, जानिए क्या है माजरा

नई दिल्ली, ( लोकहित एक्सप्रैस )  ।   अपने बैंक खातों में मिनिमम बैलेंस न रखने वालों के लिए यह एक बड़ी खबर है। मिनिमम बैलेंस न रखने के कारण बैंक उनके कुछ पैसे काट लेता है। देश के सबसे बड़े भारतीय स्टेट बैंक ने खाते में मिनिमम बैलेंस न रखने वाले लोगों से 1,771 करोड़ रुपए की राशि वसूल की है। यह राशि बैंक ने पिछले 9 महीने में वसूल की है। यह राशि यह बैंक के एक तिमाही की कमाई से भी ज्यादा है। यह राशि बैंक की जुलाई-सितंबर की कमाई से भी ज्यादा है।

स्टेट बैंक ने साल 2016-17 में अपने खाता धारकों से मिनिमम बैलेंस मेंटेन नहीं करने पर कोई चार्ज नहीं लिया था। स्टेट बैंक में 42 करोड़ खाता धारक हैं। स्टेट बैंक में 13 करोड़ बेसिक सेविंग अकाउंट और प्रधानमंत्री जन धन योजना अकाउंट हैं। इन दोनों पर मिनिमम बैलेंस मेंटेन नहीं करने का कोई चार्ज नहीं लगता है। इसके अलावा जिन खातों में मिनिमम बैलेंस नहीं था उनसे चार्ज वसूला गया। स्टेट बैंक के बाद पंजाब नेशनल बैंक ने अपने खाता धारकों से मिनिमम बैलेंस मेंटेन नहीं करने के चार्ज वसूले हैं। पीएनबी ने साल 2017-18 में 97.34 करोड़ रुपए वसूले हैं। वहीं साल 2016-17 में पीएनबी ने 130.64 करोड़ रुपए वसूले थे। इसके बाद सेंट्रल बैंक वित्तीय वर्ष 2017-18 में अपने ग्राहकों से 68.67 करोड़ रुपए वसूल कर चुका है।

पंजाब एंड सिंध बैंक एक ऐसा बैंक है जिसने 2016-17, और 2017-18 में अब तक कोई चार्ज नहीं वसूला है। स्टेट बैंक ऑफ इंडिया ने ने नए साल का तोहफा देते हुए सोमवार (1 जनवरी) से अपने बेस रेट में कटौती की। एसबीआई के इस कदम से तकरीबन 80 लाख लोगों को फायदा होने वाला है। 30 बेसिस पॉइंट की कटौती के बाद अब एसबीआई का बेस रेट 8.65 प्रतिशत हो गया है। यह बाकी बैंकों के मुकाबले सबसे कम है। बेस रेट वह न्यूनतम दर है जिस पर बैंक ग्राहकों को लोन दे सकते हैं। रिजर्व बैंक यह निगरानी करता है कि कोई भी बेस रेट से कम पर किसी भी कस्टमर को लोन न दे पाए।

एसबीआई से ज्यादातर लोग होम और एजुकेशन लोन लेते हैं। जिन लोगों ने अप्रैल 2016 से पहले होम लोन लिया होगा उसको इससे फायदा होगा। बेस रेट के साथ-साथ बैंक ने प्राइम लेंडिंग रेट को भी उसके पिछले बेंचमार्क 13.70प्रतिशत से 13.40 प्रतिशत कर दिया है। होम लोन प्रोसेसिंग फीस पर चल रही छूट को भी 31 मार्च 2018 तक के लिए बढ़ा दिया गया है। यह स्कीम नया होम लोन लेने की चाह रखने वालों और पहले से चल रहे अपने होम लोन को एसबीआई में शिफ्ट करने वालों के लिए है।