ईमानदारी से नौकरी नही कर सकते तो त्याग-पत्र दे दे अधिकारी कर्मचारी – लोकेश सुजानपुरा
December 7th, 2017 | Post by :- | 5 Views

टोडाभीम, लोकहित एक्सप्रेस, (कामिनी धीमान) :– ज़िले भर में बढ़ते भ्रष्टाचार एवं जनसमस्याओं के निस्तारण नही होने पर राष्ट्रीय मानवाधिकार एवं महिला बाल विकास आयोग के ज़िला अध्यक्ष लोकेश सुजानपुरा ने ईमानदारी से अपने पद का निर्वहन नही करने वाले अधिकारियों और कर्मचारियों से  पद से त्याग-पत्र देने को कहा। करौली ज़िले के लगभग सभी विभाग में भ्रष्टाचार चरम पर हैं ऐसे में कोई भी कार्यवाही में ईमानदारी का होना सम्भव नही लगने से आहत महसूस करते हुए सुजानपुरा ने बताया कि आज कर्मचारी अधिकारियों द्वारा क़ानूनी और नियम के कार्य भी नही किये जा रहे हैं चन्द नेताओ के दबाव में सरकारी नियम की कार्यवाही को टाल दिया जाता हैं और जाँच के नाम पर जनसमस्याओं को ठन्डे बस्ते में डाल दिया जाता हैं। अगर आज कर्मचारी अधिकारी सिर्फ अपनी जेब के लिए ईमानदारी होने के ढोंग कर नौकरी कर रहे हैं तो ऐसी नौकरी करने से भला हो त्याग पत्र दे दे।आज सड़क टूटी पड़ी, चरागाह और सिवायचक भूमि पर अतिक्रमण हो रहे हैं, विद्युत के मीटर में बिना बिजली आये ही बिल आ रहे हैं।पेयजल के संसाधनों का निजी उपयोग हो रहा हैं, देर तक शराब की दुकान खुल रही हैं और मनमानी दामों में बेचीं जा रही हैं, पुलिस तो सिर्फ जेब के लिए कार्य कर रही हैं, कोई भी कर्मचारी समय पर ईमानदारी से अपना कार्य नही कर रहा हैं, बिना रिश्वत लिए जनता की जनरल समस्याओं पर कार्य नही हो रहा हैं, जंगलात भूमि भी अब गायब हो रही हैं, अवैध माइंस, और पहाड़ों को तौडा जा रहा हैं। ऐसे में कर्मचारियों के द्वारा किसी भी जाँच में ईमानदारी नही की जा रही हैं एवं कार्यवाही के नाम पर सिर्फ कागजों को दफ्तर के चक्कर लगा रहे हैं ऐसे में अधिकारियों के आदेशो को भी दरकिनार किया जा रहा हैं और भ्रष्टाचार में लिप्त जनप्रतिनिधियों के मौखिक आदेशों की पालना ऐसे करते हैं जैसे उन्हें सिर्फ जनता की सेवा के लिए जनप्रतिनिधियों की ख़िदमत के लिए नौकरी मिली हो।ऐसे भ्रष्टाचार में लिप्त कर्मचारी अधिकारियों को अब नौकरी से त्याग पत्र दे ही देना चाहिए। क्योंकि जो निजी स्वार्थ के लिए देशहित को अनहित में बदल दे ऐसे भ्रष्ट अधिकारी कर्मचारी को नौकरी करने का कोई हक नही हैं।