लिंगानुपात को लेकर कुरुक्षेत्र प्रदेश के अग्रणी जिलों में हुआ शुमार : सुमेधा

कुरुक्षेत्र, ( सुरेश पाल सिंहमार )   ।  उपायुक्त सुमेधा कटारिया ने कहा कि बेटी बचाओ-बेटी पढ़ाओं अभियान के तहत कुरुक्षेत्र जिले के अधिकारियों ने कड़ी मेहनत से लिंगानुपात को 922 तक पहुंचा दिया हैं। इससे पहले कुरुक्षेत्र का लिंगानुपात 800 से भी कम था। इस उपलब्धि पर मुख्यमंत्री मनोहर लाल, शहरी निकाय मंत्री कविता जैन और हरियाणा के मुख्य सचिव डीएस ढेसी ने उपायुक्त सहित तमाम अधिकारियों की प्रंशसा की हैं।
वे शुक्रवार को देर सायं मुख्यमंत्री मनोहर लाल की वीडियो कान्फेंसिंग के बाद अधिकारियों को सम्बोधित कर रही थी। इससे पहले मुख्यमंत्री मनोहर लाल ने वीडियों कान्फेंसिंग के जरिए हरियाणा प्रदेश के सभी उपायुक्तों व सम्बन्धित विभागों के अधिकारियों को सम्बोधित कर रहे थे। उन्होंने अधिकारियों को निर्देश दिए कि हरियाणा प्रदेश का शहरी क्षेत्र खुले से शौच्मुक्त से मुक्त हो चुका है और 25 सितम्बर तक सभी जिलों के गा्रमीण क्षेत्रों को भी खुले से शौचमुक्त करना हैं। इसके अलावा कुरुक्षेत्र के शाहबाद और लाडवा क्षेत्र पहले से ही कैटल फ्री हो चुके है और 10 सितम्बर तक थानेसर व पिहोवा को भी कैटल फ्री बनाने के आदेश दिए हैं।
उपायुक्त ने कहा कि प्रधानमंत्री नरेन्द्र मोदी और मुख्यमंत्री मनोहर लाल ने वर्ष 2015 में पानीपत की धरा से जब बेटी बचाओ-बेटी पढाओं अभियान का शुभारम्भ किया तब कुरुक्षेत्र का लिंगानुपात 800 से कम होने के कारण प्रदेश के जिलों में सबसे निचले पायदान पर था। इसके पश्चात स्वास्थ्य विभाग के अधिकारियों के साथ-साथ अन्य विभागों के विशेष प्रयासों से कार्य किया गया जहां कई लोगों के खिलाफ पीएनडीटी एक्ट में मुकदमें दर्ज किए गए और कई लोगों को सराहनीय कार्य करने पर सम्मानित भी किया गया। इन तमाम प्रयासों के कारण आज कुरुक्षेत्र का लिंगानुपात 922 पर पहुंच गया है और अब यह जिला प्रदेश के लिंगानुपात वाले अग्रणी जिलों में शामिल हो गया हैं। इसलिए मुख्यमंत्री मनोहर लाल ने जिला कुरुक्षेत्र के प्रशासनिक अधिकारियों की प्रंशसा की हैं।
डीसी ने कहा कि खुले से शौचमुक्त के मामले में कुरुक्षेत्र हरियाणा का पहला जिला है जो सबसे पहले ग्रामीण और शहरी क्षेत्र के रुप में खुले से शौचमुक्त हुआ हैं। हालांकि मुख्यमंत्री ने बाकी जिलों को 25 सितम्बर 2017 तक खुले से शौचमुक्त करने के आदेश दिए हैं। इसके अलावा मुख्यमंत्री ने कुरुक्षेत्र जिला को 10 सितम्बर 2017 तक पूर्णत: कैटल फ्री बनाने के आदेश दिए है। इन आदेशों के साथ नगर परिषद व पशुपालन विभाग द्वारा तेजी से कार्य शुरु कर दिया गया हैं। इस मौके पर अतिरिक्त उपायुक्त पार्थ गुप्ता, सीएमओ डा. एसके नैन सहित अन्य अधिकारी मौजूद थे।

Leave a Reply

Your email address will not be published. Required fields are marked *