मंत्री अनिल विज की अनुपस्थिति में डीसी ने ली बैठक, 12 शिकायतों में से 8 शिकायतों का मौके पर निपटान
September 14th, 2018 | Post by :- | 33 Views

कैथल,  ( सज्जन सिंह ढुल )      ।         उपायुक्त  धर्मवीर सिंह ने उप निदेशक पशुपालन को निर्देश दिए कि वे विभाग में कार्यरत लिपिक संजय कुमार द्वारा किए गए एक्सग्रेसिया के पैसों के गबन की विभागीय जांच करके लिपिक के खिलाफ उचित कार्रवाई करते हुए एफआईआर भी दर्ज करवाई जाए।

इस संबंध में संबंधित व्यक्ति को उसके पूरे पैसे भी शीघ्र दिलवाए जाएं। धर्मवीर सिंह शुक्रवार को लघु सचिवालय स्थित सभागार में जिला कष्ट निवारण समिति की बैठक की अध्यक्षता कर रहे थे। इस बैठक में कुल 12 शिकायतें आई,जिनमें से 8 शिकायतों का मौके पर निपटान कर दिया गया। बैठक में कैथल निवासी विक्रम चहल द्वारा दी गई शिकायत पर कड़ा संज्ञान लेते हुए उपायुक्त ने पशुपालन विभाग के अधिकारियों को निर्देश दिए कि पीडि़त पक्ष की जितनी भी राशि देय बनती है, उसे जल्द दिलवाए। इतना ही नही लिपिक संजय कुमार के खिलाफ विभागीय कार्रवाई करते हुए उसकी निलंबन की अनुशंसा उच्चाधिकारियों को जल्द भेजी जाए। विभाग के अधिकारियों ने बताया कि लिपिक से उसके वर्तमान पद से चार्ज वापिस ले लिया गया है और विभाग के उच्चाधिकारियों को आवश्यक कार्रवाई हेतू लिख दिया गया है। इसके साथ-साथ संबंधित व्यक्ति को लिव इन कैशमेंट की राशि देने बारे की भी जांच की जा रही है। उपायुक्त ने गुहला खंड के गांव बाउपुर निवासी सुखविंद्र द्वारा उसके खेतों में लगाई गई आग के कारण फाने तथा तीन एकड़ में खड़े सफेदों की जलने की शिकायत पर पुलिस विभाग द्वारा देर से की गई कार्रवाई करने की बात कही गई। पुलिस विभाग के अधिकारियों ने बताया कि शिकायतकर्ता के मामले पर कार्रवाई करते हुए मामला दर्ज कर लिया गया है और मामला कोर्ट में विचाराधीन है। शिकायतकर्ता की बात को सुनते हुए उपायुक्त ने कहा कि इस मामले में लापरवाही करने वाले अधिकारी व कर्मचारी के विरूद्ध विभागीय जांच करने के आदेश दिए।  गांव भैणीमाजरा निवासी रमेश की शिकायत थी कि उसने बिजली चोरी के मामले में हुए जुर्माने की 16 हजार 780रुपए की राशि जमा करवा दी थी, परंतु उसके बाद पुन: पुलिस विभाग के माध्यम से दोबारा नोटिस मिला है। इस पर बिजली विभाग के अधिकारी ने स्थिति को स्पष्ट करते हुए बताया कि संबंधित व्यक्ति के घर बिजली चोरी की शिकायत पर विभाग द्वारा 31अक्तूबर 2015 को छापा मारा गया, जिस पर विभाग द्वारा 15 हजार 815 रुपए जुर्माना किया गया। उसके बाद विभाग की विजीलैंस टीम द्वारा 20 नवंबर 2015 को दोबारा से छापा मारा गया, जिस पर बिजली चोरी पकड़ी गई और 18 हजार 780 रुपए का जुर्माना किया गया, परंतु संबंधित व्यक्ति ने विजीलैंस टीम को पहले किए गए जुर्माने के बारे में अवगत नही करवाया तथा दूसरी बार किए गए जुर्माने की राशि जमा करवा दी गई। उन्होंने बताया कि इतने कम अंतराल में दो बार जुर्माना नही हो सकता। संबंधित व्यक्ति के द्वारा जमा की गई जुर्माना राशि में से पहले किया गया जुर्माना काट दिया जाएगा। अब संबंधित व्यक्ति के खिलाफ दर्ज की गई एफआईआर कैंसिल करने के लिए लिख दिया जाएगा। उपायुक्त ने इस मामले को अगली बैठक तक निपटाने का समय दिया।

कष्ट निवारण समिति में कैथल के वार्ड नंबर 29 के पार्षद वीरेंद्र कुमार ने शिकायत दी कि बरसाती पानी की निकासी हेतू बनाए जा रहे नाले के कार्य को बीच में ही बंद कर दिया गया है। विभाग के अधिकारियों द्वारा कहा जाता है कि वार्ड के कुछ निवासियों ने इस कार्य को लोक अदालत में रखकर के रूकवा दिया गया है। लोक निर्माण विभाग के अधिकारी ने बताया कि 120 मीटर नाले का निर्माण हो चुका है और 180 मीटर नाले का निर्माण किया जाना है, परंतु यह मामला लोक अदालत में चला हुआ है। इस पर उपायुक्त ने निर्देश दिए कि इस कार्य पर कोई स्टे नही है। लोक अदालत में ठीक पैरवी करके नाले का निर्माण शुरू किया जाए। इस मामले को अगली बैठक तक लंबित रखा गया है। गांव पोबाला निवासी गुरूचरण ने शिकायत दी कि गुमथला गढु से जडौला की तरफ पानी की दो किलोमीटर लंबी पाईप लाईन बिछाने का कार्य शुरू नही हुआ। विभाग के अधिकारियों द्वारा बताया गया कि निशानदेही की जा चुकी है तथा वन विभाग को पेड़ काटने के लिए लिखा जा चुका है। अप्रैल 2019 के बाद सरकार की नीति के तहत कार्य शुरू किया जाएगा। इस मामले का सहमती होने पर निपटान कर दिया गया है। गांव प्यौदा निवासी दरिया ने बस्ती के गंदे पानी की निकासी की शिकायत दी तथा विभाग के अधिकारियों ने बताया कि गंदे पानी की निकासी का कार्य शुरू कर दिया गया है। शिकायतकर्ता के संतुष्ट होने पर मौके पर ही इस मामले का निपटान कर दिया गया।

इस मौके पर एसडीएम कमलप्रीत कौर, कलायत एसडीएम जगदीप सिंह, संजय कुमार, नगराधीश विजेंद्र हुड्डा,पुलिस उपाधीक्षक जोगिंद्र श्योराण, डीडीपीओ कंवर दमन, चीका एसएचओ अजीत राय, जीएम रोडवेज रामकुमार सिंह, नहरी विभाग के अधीक्षक अभियंता आरएस मित्तल, कार्यकारी अभियंता बनारसी दास, जिला सूचना अधिकारी दीपक खुराना, बीडीपीओ सुमित चौधरी, केवल कृष्ण गढ़ी सहित जिला कष्ट निवारण समिति के मनोनित सदस्य तथा अधिकारी व कर्मचारी मौजूद रहे।