पुलिस जवानों के 20 नामजद सहित 32 नाम किये हत्या में शामिल , शव को जांच पूरी होने तक नहीं दफनाया जायेगा (खबर की विडियो जरूर देखें )
August 9th, 2018 | Post by :- | 926 Views
नूंह मेवात ,( लियाकत अली )  ।   मंगलवार को साहिब की पुलिस रेड के दौरान हुई हत्या के बाद दो दिन से अनाज मंडी पुन्हाना में चल रहे अनिश्चितकालीन धरने के दवाब में आकर एसपी नाजनीन भसीन ने नगर पालिका कार्यालय पुन्हाना में चली कमेटी की बैठक में शव का पोस्टमार्टम सफदरजंग दिल्ली या किसी अन्य अस्पताल से कराने,  साथ ही हत्या मामले में अज्ञात के खिलाफ दर्ज हुई एफआईआर में सीआईए पुन्हाना , सिटी चौकी पुन्हाना स्टाफ के अलावा उतराखंड पुलिस के 20 नामजद तथा 10 -12 अन्य जवानों का नाम शामिल करने पर सहमति बन गई ,लेकिन जब तक मामले की जांच चलती रहेगी , तब तक न तो शव को दफनाया जायेगा और अनिश्चितकालीन धरना इसी तरह सुबह से शाम तक जारी रहेगा। इसके अलावा दोनों मामलों की जांच के लिए एसआईटी गठित की गई। एसआईटी में दो डीएसपी , दो इंस्पेक्टर , दो अन्य अधिकारी शामिल किये गए हैं। कई दिन से चले आ रहे इस मामले में अभी पूरी तरह संकट के बादल अभी छटे नहीं हैं ,लेकिन कुछ राहत की खबर जरूर मिली है। पुलिस जवानों की फ़िलहाल गिरफ्तारी की बात जांच की वजह से अमल में नहीं आई ,लेकिन खाकी वालों की मुसीबत बढ़ गई है। दूसरी तरफ 41 नामजद सहित करीब 125 अन्य लोगों पर दर्ज की गई एफआईआर को भजि रद्द नहीं किया गया। पुलिस जवानों के नाम जोड़ने वाली हत्या की एफआईआर हो या फिर ग्रामीणों पर दर्ज हत्या का प्रयास सहित विभिन्न धाराओं के तहत दर्ज मामला हो , दोनों केसों को अब एसआईटी खंगालेगी। एसपी ने एसआईटी के सहयोग के लिए लोगों से अपील की है।
  गुरुवार को दोपहर बाद करीब चार बजे कुछ मांगों पर पंचायत के सहमत होने के बाद धरना समाप्त कर दिया गया , लेकिन शुक्रवार को धरना जारी रहेगा। पुलिस ने पोस्टमार्टम की तैयारी शुरू कर दी है ,लेकिन दिल्ली में पोस्टमार्टम होने की वजह से शुक्रवार तक ही शव पोस्टमार्टम होने की उम्मीद है। आपको बता दें कि गुरुवार सुबह दस बजे तक का अल्टीमेटम बुधवार शाम को ही पुलिस को मिल गया था , जिसे देखते हुए न केवल बुधवार देर रात एसपी नाजनीन भसीन पुन्हाना पहुंची और कमेटी में शामिल नेताओं से बातचीत की बल्कि गुरुवार को भी वे सुबह सात बजे दलबल के साथ पुन्हाना में डेरा डालकर बैठ गई।
एक बार तो पंचायत में दो डीएसपी वीरेंद्र सिंह , सुखबीर सिंह इत्यादि अधिकारी बातचीत के लिए भेजे गए , लेकिन जनता के विरोध के चलते उन्हें बैरंग लौटना पड़ा। कुछ देर बाद कमेटी के लोगों ने जनता के मूड को देखते हुए नगरपालिका कार्यालय में एसपी नाजनीन भसीन के साथ बैठक करनी पड़ी। एक बार में जब बात नहीं बनी तो एसपी नाजनीन पुन्हाना थाना लौट आई , लेकिन कुछ देर बाद पंचायत से उनकी नपा कार्यालय में ही बात चली। कमेटी और एसपी ने अपने -अपने पक्ष रखे। काफी मशक्कत के बाद एसपी नाजनीन ने कमेटी की शव का पोस्टमार्टम दिल्ली में कराने की बात मान ली , साथ ही रेड करने गत मंगलवार को रेड मारने पटाकपुर गांव गई उतराखंड – हरियाणा पुलिस के जवानों को हत्या मामले में नामजद करने की मांग मान ली। हालाकि एसपी नाजनीन भसीन ने सुबह करीब 11 बजे घटनास्थल का दौरा किया था। पत्रकारवार्ता में एसपी नाजनीन भसीन ने कहा कि कमेटी से कुछ बातों पर सहमति बनी है। शव का पोस्टमार्टम कराने की प्रक्रिया शुरू कर दी गई है। बाकि दोनों मामलों की जांच एसआईटी करेगी। जिसके बाद नामों को जोड़ने हटाने पर काम होगा। एफआईआर  जोड़ने की खबर से जवानों का मनोबल टूटता दिखाई दिया , तो ग्रामीणों को भी दर्ज एफआईआर में फ़िलहाल कोई राहत की खबर नहीं है।
कमेटी की बैठक से लेकर धरनास्थल पर विधायक चौधरी जाकिर हुसैन , विधायक नसीम अहमद , पूर्व मंत्री आजाद मोहमद , पूर्व मंत्री मोहमद इलियास , पूर्व विधायक हबीबुर्रहमान , चौधरी जावेद खानपुरिया , एजाज खान , अख्तर हुसैन , सुभान खान , साहब खान , अमन अहमद , मामन खान इंजीनियर , तारीफ खुर्शीद , चौधरी शौकत घुड़चढ़ी , मकसूद शिकरावा, सफी मोहमद , रमजान चौधरी एडवोकेट , मुमताज एडवोकेट , रसीद एडवोकेट , महताब अहमद , आजाद किसान नेता इत्यादि ने भाग लिया तो , मौलाना याहया तिरवाड़ा जमीयत नेता ने धरने की सदारत की। इस अवसर पर शमसुद्दीन चैयरमेन , शाहिद पतरिया , वीरेंद्र सिंह डीएसपी , सुखबीर सिंह डीएसपी , अशोक कुमार गोयत डीएसपी , सूरज चावला एसएचओ सहित कई पुलिस अधिकारी मौजूद थे।
क्या है मामला ;- देहरादून में मोबाइल शोरूम लूट के आरोप में उतराखंड पुलिस पटाकपुर गांव के शब्बीर को पकड़ने आई थी। उतराखंड पुलिस के साथ पुन्हाना पुलिस ने संयुक्त रेड कर शब्बीर को दबोच लिया था। भीड़ ने शब्बीर को एक बार नहीं बल्कि कई बार पुलिस से छुड़ाया। ग्रामीणों और पुलिस के बीच खूब झगड़ा हुआ। फायरिंग भी खूब हुई , उसी दौरान साहिब के सीने में एक गोली लगी। जिससे उसकी मौत हो गई। घटना मंगलवार देर शाम की है। पुलिस के जवानों ने फायरिंग कर खेतों में छुपते हुए अपनी जान बचाई। जैसे ही यह खबर इलाके में फैली तो घटना के दिन से ही पंचायतों का सिलसिला शुरू हो गया। बुधवार को अनाज मंडी  अनिश्चितकालीन धरना शुरू हुआ , जिसमें इलाके के सभी दलों के नेताओं ने भाग लिया।  बुधवार शाम करीब 6 बजे धरना स्थगित करके गुरुवार सुबह दस बजे तक सभी मांगों पर अल्टीमेटम दे दिया। गुरुवार को दस बजे तो नहीं परंतु करीब बारह बजे तक धरना अपने असली रूप में आ गया। जिसके चलते पुलिस अधिकारियों को बातचीत करने के लिए मजबूर होना पड़ा।
किन – किन जवानों के नाम किये शामिल ;- परमेश्वर एसआई , सुमेश एसआई , बच्चू सिंह सिटी चौकी इंचार्ज , जितेंद्र सिंह एसआई सीआईए पुन्हाना इंचार्ज , विजेंद्र एसआई , धर्मेंद्र एसआई , जगदीश एएसआई , मुकेश सिंह एएसआई , सतबीर सिंह एएसआई , अमर सिंह , जीतराम , हरिओम , मनोज , धर्मेंद्र , राजेश , राजू , महेंद्र सिंह , महेंद्र सिंह होमगार्ड , एसपीओ जिले सिंह के अलावा सीआईए पुन्हाना , पुन्हाना चौकी स्टाफ , उतराखंड पुलिस के 10 -12 अन्य जवानों को शामिल किया गया है।
एफएसएल की टीम पहुंची जायजा लेने ;– हत्याकांड को सुलझाने के लिए गुरुवार को एफएसएल की टीम के अधिकारी पुन्हाना पहुंचे। उन्होंने घटनास्थल से कुछ नमूने लिए हैं , जो जांच में पुलिस के लिए काफी अहम साबित होंगे। पुलिस एसपी नाजनीन भसीन ने कहा कि मामले की सभी पहलुओं से तेजी से जांच कराई जाएगी , ताकि सच्चाई का पता चल सके।