श्री परशु राम धर्मशाला में चार द्विवसीय कथा का शुभारंभ
April 16th, 2018 | Post by :- | 37 Views

नीलोखेडी- 16 अप्रैल (राजिन्द्र मिडडा-9034685383)
श्री परशु राम धर्मशाला में ब्राहमण सभा द्वारा चार द्विवसीय कथा का आयोजन किया गया। इस अवसर पर जोत प्रज्जवलित कर जयन्ती को शुभारंभ किया।
प्रवचन करते हुए साध्वी मुक्ता भारती ने भगवान परशु राम जी के जीवन पर प्रकाश डालते हुए कहा कि भगवान परशुराम ने समाज की भलाई के लिए दुष्ट और राक्षसों का नाश किया। परशुराम जन्म से ब्रहमण जरूर थे लेकिन उन्होने क्षेत्रिय की तरह लोगो ंकी सेवा की । उन्होने कहा कि वर्तमान में भगवान परशुराम के सिद्धांतों और आदर्शो को आत्मसात करने की जरूरत है। हम सभी को गरीब ,जरूरतमंद और असहाय लोगों की मदद करनी चाहिए।
साध्वी मुक्ता भारती ने प्रवचन करते हुए कहा कि कथा श्रवण करने से कई जन्मों को पाप धुल जाते है । कथा का श्रवण भाग्यशाली लोगों को प्राप्त होती है। भगवान भक्त की श्रद्धा का भूखा होता है । भगवान को पाने के लिए नौ प्रकार के भक्ति के रास्ते बताए गए है । परमात्मा संगीत द्वारा बहुत जल्दी प्रभावित होते है । भक्त नर सिंह ने कीर्तिन द्वारा भगवान को अपनी और आकर्षित किया था। मनुष्य को जब भी समय मिले परमात्मा का नाम लेना चाहिए। भगवान अपने ाक्त की अवश्य सुनता है और उसकी हर दुख को हर लेता है । इस अवसर सभा के अध्यक्ष सुरेन्द्र शर्मा,कार्यकारिणी के सदस्य सुरेश प्रभाकर,नरेन्द्र शर्मा,कर्ण शर्मा,उपमण्डल अभियंता सुरेन्द्र शर्मा, पवन शर्मा,बलबीर शर्मा,अमरजीत शर्मा,राम चन्द्र शर्मा,कृष्ण लाल शर्मा,युवराज बक्शी,राजेन्द्र शर्मा जयपाल देवगण,कुलदीप शर्मा उपस्थित थे।