बाबा साहेब ने संकीर्ण सोच से ऊपर उठकर जीना सिखाया-कुलभूषण
April 15th, 2018 | Post by :- | 12 Views
चंडीगढ, ( महिन्द्र पाल सिंहमार ) ।    द पंचकूला अंबेडकर मिशन सोसाइटी की ओर से भारत के संविधान निर्माता डॉ. भीमराव अंबेडकर जयंती समारोह का आयोजन शनिवार को किया गया। जिसमें इंडियन नेशनल लोकदल हरियाणा प्रदेश व्यापार प्रकोष्ठ के अध्यक्ष कुलभूषण गोयल बतौर मुख्य अतिथि पहुंचे। इस दौरान पूर्व विधायक चौधरी लहरी सिंह विशेष अतिथि रहे। इस अवसर पर सोसाइटी के प्रधान अशोक रंगा, महासचिव शीशपाल ने कुलभूषण गोयल का स्वागत किया। इसके बाद बाबा साहेब जी की प्रतिमा पर पुष्प अर्पित किये गये और उनके द्वारा दिखाये मार्ग पर चलने का प्रण लिया।
कुलभूषण गोयल ने कहा कि डॉ. भीमराव अंबेडकर आधुनिक भारत के सबसे शिक्षित व्यक्ति थे तथा गैर बराबरी व समाज में व्याप्त छुआ-छुत जैसी कुरीतियों को समाप्त करने में उनके अहम योगदान को हमेशा याद किया जाएगा। उन्होंने कहा कि डॉ. अंबेडकर को संविधान निर्माता के रूप में भी याद किया जाता है। कुलभूषण गोयल ने कहा कि अम्बेडकर जी एक अमर ज्योति है, जो अंधकारग्रस्त सामाजिक मानवता के लिए अविच्छिन्न आलोक स्रोत बन गई। डॉ. अम्बेडकर भारत के भव्य भाल पर एक सुरम्य तिलक हैं। वे सामाजिक जीवन की लोग कल्पना करते हैं। कुछ चिंतन, कुछ मनन करते हैं। कुछ नए मूल्यों, नए आदर्शों एवं कई आस्थाओं का सृजन करते हैं।
उन्होंने कहा कि डॉ. अम्बेडकर न्याय के प्रहरी थे। वे दलित मानव कल्याण के मूलभूत सिद्धांत को अपनाकर, उनमें जागृति पैदा कर समाज के प्रतिनिधि बन गए। सच तो यह है कि पद, सत्ता, यश आदि से उन्हें आसक्ति नहीं थी। वे समाज कल्याण हेतु कार्य करना अपना कर्तव्य समझते थे। मनुष्य में महान कार्यों के संपादन के लिए आत्मविजय तथा आत्मविश्वास परम आवश्यक है। बाबा साहेब अम्बेडकर ने संकीर्ण सोच से ऊपर उठकर जीना सिखाया। जीवन तो सभी जीते हैं किंतु वास्तव में वह सर्वाधिक जीवंत है, जो सर्वाधिक चिंतन करता है, सर्वाधिक अनुभव करता है और सर्वोत्कृष्ट कार्य करता है।
इस दौरान द पंचकूला अंबेडकर मिशन की ओर से बाबा साहेब डॉ भीमराव अंबेडकर की एक मूर्ति चौक पर लगाने के लिए कुलभूषण गोयल के समक्ष मांग रखी गई। जिस पर उन्होंने अपनी तरफ से पूर्ण सहयोग देने का आश्वासन दिया। इस अवसर पर धर्मपाल, अजय रूहीनिया, मोहनलाल, अशोक कुमार, प्रमोद सिंह, रिकी राम, सिम्मी ढींगरा, बाऊरी लाल, जसवीर सिंह भी उपस्थित थे।