आचार्यकुल ने भारत रत्न विनोबा भावे की 126वीं जयंती पर समारोह आयोजित किया
September 11th, 2021 | Post by :- | 58 Views

चंडीगढ़ (मनोज शर्मा) सेक्टर 43-ए, चंडीगढ़ के कम्युनिटी  सेंटर में “आचार्यकुल चण्डीगढ़“ द्वारा भारत रत्न विनोबा भावे की 126वीं जयंती पर हर वर्ष की भांति समारोह किया गया। समारोह का आरम्भ विनोबा भावे की तस्वीर पर पुष्प अर्पित करने तथा भजन गाकर किया गया। समारोह की मुख्य अतिथि श्रीमती चंद्रावती शुक्ला, पार्षद नगर निगम चंडीगढ़ ने अपने संबोधन में बताया कि विनोबा जी का जन्म 11 सितंबर 1895 को गगोदा गांव में हुआ। उन्होंने ही आचार्यकुल संस्था की स्थापना की। उनका बचपन का नाम नरहर भावे था। उन्होंने दलितों, भूमिहीनों तथा जरूरतमंदों की सदा सहायता की। कार्यक्रम की अध्यक्षता अशोक नारंग, अध्यक्ष सरस्वती वेलफेयर संस्था पानीपत तथा नलिन आचार्य, प्रेसिडेंट चण्डीगढ़ क्लब ने की। अशोक नारंग ने अपने संबोधन में विनोबा जी के द्वारा किए गए कार्यों के विभिन्न पहलुओं पर बात की तथा सभी को उनके आदर्शों पर चलने के लिए प्रेरित किया। नलिन आचार्य ने विनोबा जी द्वारा डाकुओं के समर्पण के बारे में बताया जो समर्पण के पश्चात विनोबा जी के चलाए रास्ते पर चले। विशिष्ट अतिथि प्रतिश गोयल, प्रेसिडेंट रोटरी चण्डीगढ़ सिटी ब्यूटीफुल, ने बताया कि विनोबा विभिन्न भाषाओं के ज्ञाता थे जिसमें गणित उनका प्रिय विषय था,जरूरतमंदों के लिए विनोबा के मन में सदा मदद का भाव रहता था। मुख्य वक्ता, इतिहासकार प्रोफेसर एम. एम. जुनेजा ने  विनोबा जी के जीवन पर रोशनी डालते हुए बताया कि वह राष्ट्रपिता महात्मा गांधी के प्रथम अनुयायी थे तथा उन्हें अपना आदर्श मानते थे। संस्था के वरिष्ठ उपाध्यक्ष प्रेम विज ने विनोबा जी द्वारा भूदान आंदोलन के बारे में बताया। उन्होंनें भूदान आंदोलन चलाकर लगभग 44 लाख एकड़ जमीन जिमिंदारों  से मदद के रूप में एकत्रित कर भूमिहीनों में बांटी। संस्था के अध्यक्ष  के. के. शारदा  ने बताया कि किस प्रकार उन्होंनें भारत में ही नहीं बल्कि पाकिस्तान में जाकर भी भूमिहीनों के लिए बहुत कार्य किया। उन्होंने बताया कि जय जगत नारा भी विनोबा जी की ही देन है। शारदा ने बताया कि संस्था समय-समय पर जरूरतमंद लोगों की सहायता के लिए कार्य करती रही है तथा आगे भी करती रहेगी। फिर वह कार्य भूखों की मदद करना हो या अशिक्षित को शिक्षा प्रदान करने का कार्य हो।

60 जरूरतमंद लोगों को कंबल, चादरें व मास्क दिए आचार्यकुल ने

कृपया अपनी खबरें, सूचनाएं या फिर शिकायतें सीधे editorlokhit@gmail.com पर भेजें। इस वेबसाइट पर प्रकाशित लेख लेखकों, ब्लॉगरों और संवाद सूत्रों के निजी विचार हैं। मीडिया के हर पहलू को जनता के दरबार में ला खड़ा करने के लिए यह एक सार्वजनिक मंच है।

समारोह में अचार्यकुल संस्था की ओर से 60 जरूरतमंद लोगों को कंबल, चादरें व मास्क दिए गए। अध्यक्ष महोदय जी ने कहा कि जरूरतमंदों की मदद करना ही विनोबा जी को सच्ची श्रद्धांजलि होगी। समारोह में रमेश बल, डॉ प्रज्ञा शारदा, विक्रम अरोड़ा, तिलक चुग, अशोक तनेजा, मुक्तेश्वर जोशी, संजय भारतीय, राकेश शर्मा, गुरपाल सिंह, ओंकार चंद, हरेंद्र सिन्हा,सुशील हसरत नरेलवी तथा अशोक नादिर भी उपस्थित थे।

आप अपने क्षेत्र के समाचार पढ़ने के लिए वैबसाईट को लॉगिन करें :-
https://www.lokhitexpress.com

“लोकहित एक्सप्रेस” फेसबुक लिंक क्लिक आगे शेयर जरूर करें ताकि सभी समाचार आपके फेसबुक पर आए।
https://www.facebook.com/Lokhitexpress/

“लोकहित एक्सप्रेस” YouTube चैनल सब्सक्राईब करें :-
https://www.youtube.com/lokhitexpress

“लोकहित एक्सप्रेस” समाचार पत्र को अपने सुझाव देने के लिए क्लिक करें :-
https://g.page/r/CTBc6pA5p0bxEAg/review