उपभोक्ताओं को उठानी पड रही भारी परेशानी, केनरा बैंक के गेट पर भरा है गंदा पानी |
September 26th, 2019 | Post by :- | 148 Views

हसनपुर पलवल (मुकेश वशिष्ट) :-  जिले के कस्बा हसनपुर में स्थित केनरा बैंक के गेट के बाहर गंदा पानी भरा होने के कारण बैक कर्मचारियों के साथ-साथ बैंक उपभोक्ताओं को काफी परेशानियों सामना करना पड रहा है। बैंक अधिकारियों व उपभोक्ताओं ने कई बार संबंधित विभागीय अधिकारियों से शिकायत की है, लेकिन इस ओर कोई देखने को तैयार नहीं है। इस अनदेखी के चलते उपभोक्ताओं व कस्बे के लोगों में भारी रोष व्याप्त है।
कस्बा हसनपुर में स्थित सबसे पुरानी व सरकारी केनरा बैंक में लगभग 26 हजार उपभोक्ताओं ने अपने खाते खोले हुए है और यह बैंक मार्केट कमेटी हसनपुर के अधीन है। यहां रोजाना पेंशन, खाता खुलवाने, वजीफा खाते के अलावा बैंक से संबंधित अपने कार्यों के लिए सैकडों उपभोक्ताओं का आवागमन होता है। बैंक में पहुंचने से पहले उपभोक्ताओं को बैंक के गेट के बाहर भरे गंदे पानी में से होकर निकलना पडता है। इसके अलावा कई बार तो इस गंदे पानी में पेंशन लेने आने वाले बुजुर्ग व बच्चे भी गिर चुके हैं। बैंक के गेट पर भरे इस गंदे पानी को देखकर कई बार तो बैंक में कार्य से आने वाले उपभोक्ता बैंक के बाहर से ही लौट जाते हैं।

इसके अलावा कई बार तो बरसात के समय में यह पानी बैंक के अंदर तक प्रवेश कर जाता है जिसका खामियाजा बैंक उपभोक्ताओं व कर्मचारियों को चुकाना पउता है। बैंक उपभोक्ता वेद शर्मा, रघुराज, मनोज  कुमार, वकील, सुखाराम, महावीर, रमेश कुमार, दिनेश, मोहन, सरोज, बवलू, प्रवीन, आकाश, कपिल कुमार के अलावा अन्यों का कहना है कि बैंक के बाहर भरे इस गंदे पानी की शिकायत कई बार बैंक मैनेजर से की है, लेकिन वह यह कहकर टाल देते ही की यह जिम्मेंदारी मार्केट कमेटी की है। बैंक उपभोक्ताओं में इस ओर अनदेखी के चलते भारी रोष व्याप्त है। इस मामले में बैंक मैनेजर अनूप गोयल का कहना है कि बैंक ने मार्केट कमेटी से किराए पर बिल्डिंग ली हुई है। कई बार मार्केट कमेटी अधिकारियों से इस मामले की शिकायत की जा चूकी है, लेकिन इस समस्या की ओर कोई ध्यान नहीं देता।
क्या कहते हैं मार्केट कमेटी सचिव :- इस मामले में मार्केट कमेटी के सचिव सेलेंद्र बंसल का कहना है कि वह अपने कर्मचारियों को मौके पर भेजकर उस पानी को निकलवाएंगे और उपभोक्ताओं को इस समस्या से निजात दिलाएंगे।

कृपया अपनी खबरें, सूचनाएं या फिर शिकायतें सीधे editorlokhit@gmail.com पर भेजें। इस वेबसाइट पर प्रकाशित लेख लेखकों, ब्लॉगरों और संवाद सूत्रों के निजी विचार हैं। मीडिया के हर पहलू को जनता के दरबार में ला खड़ा करने के लिए यह एक सार्वजनिक मंच है।