फ़ूड सप्लाई विभाग के 20 करोड़ के अनाज घुटाले में आया नया मोड़ ,42 हज़ार बैग बरामदगी मामले में एफ़ सी आई ने लगाया विराम ।
September 2nd, 2021 | Post by :- | 237 Views
जंडियाला गुरु के फ़ूड सप्लाई विभाग के 20 करोड़ की घपलेबाजी में आया नया मोड़ ,

42 हज़ार गेंहू के फूड सप्लाई विभाग द्वारा बरामदगी के मामले में एफ़ सी आई ने लगाया विराम ,कहा इसमें कोई सच्चाई नही ।
जंडियाला गुरु कुलजीत सिंह
जंडियाला गुरु में फ़ूड सप्लाई विभाग में जंडियाला ने तैनात रहे इंस्पेक्टर जसदेव सिंह द्वारा करीब 87 हज़ार क्विंटल गेंहू का  गबन किया गया था जिसकी कीमत करीब 20 करोड़ रुपये है। इंसपेक्टर जसदेव सिंह जो कि अभी भी पुलिस की ग्रिफ्त से बाहर विदेश में ।पुलिस के पास यह मामले रहते समय इंसपेक्टर जसदेव के करिंदो पर कोई कार्रवाई नही की गई जिससे इस मामले में और सफेदपोश का नाम का खुलासा हो सकता था। अब यह मामला एस एस पी विजिलेंस अमृतसर परमपाल सिंह के पास चला गया। जो अब इस मामले की जांच करेंगे ।
एस एस पी विजिलेंस का कहना है कि अब यह मामला उनके ध्यान में आ गया है वह इस मामले की बारीकी  से जांच कर आरोपियों को जेल भेजेंगे ।
विभाग की विजिलेंस द्वारा कुछ दिन पहले  जंडियाला गुरु की अनाज मंडी में छापेमारी कर रिकॉर्ड खंगाला गया था लेकिन इस मामले आढ़ती या अन्य कोई शामिल है इस बात का खुलासा हुआ बाकी है ।
बता दे कि गत दिनों मीडिया में यह मामला सामने आया था कि गुम हुए गेंहू के बैगों में से 42 हज़ार गेहूं के बैग एफ़ सी आई के गुदामों में मिल गए है।
इस मामले पर एफ एस आई  अमृतसर के।डी एम ने इस पर विराम लगाते हुए कहा कि फ़ूड सप्लाई विभाग पंजाब द्वारा जो मीडिया में यह दावा किया जा रहे है कि 42 हज़ार बैग एफ सी आई के गुदामो में मिले है वो सरासर गलत है। उन्होंने कहा कि अगर फ़ूड सप्लाई विभाग के पास ऐसा सबूत है तो वह इस मामले में एफ़ आई आर दर्ज कराए इसलिए  कि सच्चाई सामने आ सके लेकिन फ़ूड सप्लाई विभाग द्वारा ऐसा नही किया गया ।इस मामले में फ़ूड सप्लाई विभाग के अधिकारियों को बजो कठघरे में खड़ा कर दिया है। जब इस मामले में अमृतसर के डी एफ़ एस सी राज ऋषि मेहरा से  पूछा गया तो उन्होंने यह कहकर अपना पल्ला झाड़ लिया कि यह मामला अब विजिलेंस के पास चला गया है।

कृपया अपनी खबरें, सूचनाएं या फिर शिकायतें सीधे editorlokhit@gmail.com पर भेजें। इस वेबसाइट पर प्रकाशित लेख लेखकों, ब्लॉगरों और संवाद सूत्रों के निजी विचार हैं। मीडिया के हर पहलू को जनता के दरबार में ला खड़ा करने के लिए यह एक सार्वजनिक मंच है।

आप अपने क्षेत्र के समाचार पढ़ने के लिए वैबसाईट को लॉगिन करें :-
https://www.lokhitexpress.com

“लोकहित एक्सप्रेस” फेसबुक लिंक क्लिक आगे शेयर जरूर करें ताकि सभी समाचार आपके फेसबुक पर आए।
https://www.facebook.com/Lokhitexpress/

“लोकहित एक्सप्रेस” YouTube चैनल सब्सक्राईब करें :-
https://www.youtube.com/lokhitexpress

“लोकहित एक्सप्रेस” समाचार पत्र को अपने सुझाव देने के लिए क्लिक करें :-
https://g.page/r/CTBc6pA5p0bxEAg/review