जनता से इतना वोट मिलने के बाद भी विकास देखने को तरस रहा मथुरा : ठा संजीव कुमार सिंह
August 29th, 2021 | Post by :- | 61 Views

मथुरा,(राजकुमार गुप्ता)  राष्ट्रीय नेता, इंडियन नेशनल कांग्रेस एआईसीसी पर्यवेक्षक प्रभारी, बिहार झारखंड उत्तर प्रदेश एवं उत्तर प्रदेश कांग्रेस कमेटी, एडवोकेट सुप्रीम कोर्ट ऑफ इंडिया, सदस्य इंटरनेशनल काउंसिल ऑफ ज्यूरिस्ट्स सचिव, कांग्रेस किसान एवं औद्योगिक प्रकोष्ठ, कानूनी सलाहकार सदस्य, चुनाव प्रचार समिति बिहार झारखंड उत्तर प्रदेश पश्चिम बंगाल और आसाम एवं लोकसभा चुनाव 2024 में प्रधानमंत्री पद के दावेदार ठाकुर संजीव कुमार सिंह ने कहा कि
कोंग्रेस देश के संपूर्ण विकास के लिए सभी समाज सभी जाति धर्म का हित रखती है। हमेशा सर्व समाज के विकास की राजनीति करती है। उत्तर प्रदेश में 2022 में सरकार बनते ही आम जन मानस के हित के सभी कार्य कराए जाएंगे। ठाकुर जी से आशिर्वाद लेकर मथुरा से चुनाव प्रचार आरम्भ किया और मथुरा के गांव – गांव में जाकर मजदूर,किसान, बेरोजगार युवाओं और महंगाई की मार दुखी ग़रीब जनता से मिलकर उनकी समस्याएं सुनकर आगामी 2022 के विधानसभा चुनाव में मतदान करके उत्तर प्रदेश में कांग्रेस की सरकार बनवाने की अपील कर रहे हैं। उत्तर प्रदेश में बसे ब्रज क्षेत्र को ब्रज प्रदेश के रूप में भी जाना जाता है। जैसा कि आप जानते हैं। ब्रज क्षेत्र भाजपा के लिए काफी महत्वपूर्ण रहा है। 2014 और 2019 लोकसभा चुनाव के साथ ही साल 2017 में हुए विधानसभा चुनाव में ब्रज ने भाजपा का भरपूर साथ दिया। इसी लिए ब्रज प्रांत की कुल 65 सीटों में से 57 पर भाजपा का कब्जा है। वहीं, इसके बाद भी आज ब्रज विकास कार्यों को तरस रहा हैं। द्वापुर युग में भगवान श्रीकृष्णा ने अपने बचपन के दिन इस ब्रज में बिताये थे, जिस कारण यहां की मिट्टी को बेहद ही पावन माना जाता है। भले ही, ब्रज की जमीन एक राजनीतिक रूप से परिभाषित क्षेत्र नहीं है, फिर भी यह उत्तर प्रदेश का एक महत्वपूर्ण अंग है। भगवान श्री कृष्ण और महाभारत से सम्बंधित ब्रज की भूमि हिंदुयों के लिए खासा महत्व रखती है। भारतीय पर्यटन उद्योग के स्वर्ण त्रिभुज में में स्थित, ब्रज भूमि पर्यटकों और श्रधालुयों के बीच लोकप्रिय जगहों में से एक है। कई मंदिरों, प्राचीन इमारतों, धार्मिक स्थलों और प्राकृतिक स्थानों के साथ,यह उत्तर भारत के सबसे सम्रद्ध भागों में से एक है। मथुरा में पर्यटकों के देखने के लिए कई भ्रमण स्थल है, जिनमे वृंदावन, केशव देव मंदिर, श्री कृष्ण जन्मभूमि और बांके बिहारी मंदिर शामिल है। वर्तमान में ब्रजभूमि के कुछ शहर उत्तर प्रदेश के प्रमुख शहरों में शुमार हैं। मथुरा ब्रज प्रदेश की मुख्य राजधानी भी कहा जाता है। यह भगवान कृष्ण को समर्पित और संबंधित कई मंदिरों और स्थान है, जिनकी मौजूदगी के कारण मथुरा हिंदू धर्म के सबसे पवित्र स्थानों में से एक है। भगवान कृष्ण के जन्मस्थान होने के नाते, मथुरा को कृष्ण जन्मभूमि के रूप में जाना जाता है और इसलिए हर साल लाखों की संख्या में पर्यटक और हिंदू भक्त मथुरा भगवान श्रीकृष्ण जन्भूमि और अन्य जगहों की यात्रा करते हैं। जनता से इतना वोट मिलने के बाद भी ब्रज विकास को तरस रहा हैं। केंद्र और यूपी में मोदी योगी सरकार होने के बाद भी गन्दगीं, साफसफाई, गड्डा युक्त सड़के, खरा पानी,10 घंटे बिजली,जल भराव जैसे समस्याओं से आमजन मानस जूझ रहा हैं, जबकि जिला मथुरा में 3 कैविनेट मंत्री, 1 सांसद, 5 विधायक, भाजपा मेयर, पार्षद एवं नगर पालिका में भी भाजपा के ही लोग हैं। फिर भी यहां चहुंओर गन्दगीं व बदहाली का मंजर हैं। ये चाहते तो विकास की गंगा बहा सकते थे। पर चुनाव फिर आ गया लेकिन व्यवस्था अभी भी वेंटिलेशन पर हैं। अब मथुरा की जनता से और क्या उम्मीद शेष है? अब तो केवल प्रियंका गांधी आना शेष है। अब सोचने का नहीं, कुछ कर गुजरने का समय है। बहुत हुआ सांसदों – विधायकों का सम्मान। अब इन्हें सार्वजनिक रूप से जनता के बीच लेकर सवाल-जवाब का समय है। सांसदी और विधायकी किसी की भी बपौती नहीं , वल्कि ज़िम्मेदारी है। जो जनता सौंपती है और उसको निभाने में ये जनप्रतिनिधि नाकाम ही नजर आए। अब सोचिये मत। हमें आपसी मतभेद भुलाकर ये नेक काम तुरन्त अमल में लाना होगा। मंत्री,
सासंद, विधायक,नगर निगम महापौर और पार्षद होने के बाबजूद मथुरा जिले,तहसीलो, ब्लाको की जनता बेहाल हैं। हर रोज सफाई के नाम पर लाखो रूपये बर्बाद किये जा रहा है। अधिकारियो की सरपरस्ती मे अधिकारियो पडे भारी सांसदो विधायको पर अधिकारियो की निरंकुशता एंव हठ धर्मिता के चलते हर संभावित जगहो के नागरिको के नही मिल पा रहा है। मथुरा विकास के अभाव में मजाक बना हुआ हैं। सांसदो विधायको को सत्ता की मदहोश नींद से जागने की फुर्सत नही हैं। व्यापारियो के प्रतिष्ठानो के उदघाटन मे फीते काटने की,जनहित हुआ नदारद सत्ताधारी नेताओ के मन मस्तिक से जनता प्रसासन के नही राम भरोसे हैं। मथुरा को सिर्फ लूटा गया हमें वोट बैक समझा गया। आज हमारी यमुुना मां दम तोड़ रही है। कारखाने पलायन कर रहें हैं। पर्यटन उद्योग भी दम तोड़ चुका है। उसके वाबजूद वर्षों से एक ही राजनैतिक दल के प्रतिनिधियों को चुनते आ रहे है। अगर इन जनप्रतिनिधियों को हमारे शहर से प्यार होता तो यह सार्वजनिक रूप से अपने पदों से त्यागपत्र दे देते पर यह सत्ता के लालचियों को कुर्सी ज्यादा प्यारी है शहर नहीं। आज इन नेताओं की पार्टियों की गुलामी ने ही ग़रीब जनता,मजदूर,किसान छोटे व्यापारियों को याचक व भिखारी बना रखा है?

कृपया अपनी खबरें, सूचनाएं या फिर शिकायतें सीधे editorlokhit@gmail.com पर भेजें। इस वेबसाइट पर प्रकाशित लेख लेखकों, ब्लॉगरों और संवाद सूत्रों के निजी विचार हैं। मीडिया के हर पहलू को जनता के दरबार में ला खड़ा करने के लिए यह एक सार्वजनिक मंच है।

आप अपने क्षेत्र के समाचार पढ़ने के लिए वैबसाईट को लॉगिन करें :-
https://www.lokhitexpress.com

“लोकहित एक्सप्रेस” फेसबुक लिंक क्लिक आगे शेयर जरूर करें ताकि सभी समाचार आपके फेसबुक पर आए।
https://www.facebook.com/Lokhitexpress/

“लोकहित एक्सप्रेस” YouTube चैनल सब्सक्राईब करें :-
https://www.youtube.com/lokhitexpress

“लोकहित एक्सप्रेस” समाचार पत्र को अपने सुझाव देने के लिए क्लिक करें :-
https://g.page/r/CTBc6pA5p0bxEAg/review