चहेते को रास्ता देने के चक्कर में अन्य किसानों के रास्ते किये बंद व खड़ी फसल पर चला दिए प्रशासन ने टेक्ट्रर
September 26th, 2019 | Post by :- | 105 Views

जयपुर/आमेर,(सुरेन्द्र कुमार सोनी) । जयपुर राजधानी के ग्राम चौप के नला की ढाणी में रास्ते के नाम पर अपने चहेते पर आमेर प्रशासन मेहरबान होता दिखाई पड़ा। जहाँ पर रास्ता निकालने के नाम पर रास्ते के दोनों ओर तार बाउंड्री कर अन्य किसानों के रास्ते पर लगाम लगा दी।

जानकारी के अनुसार बुधवार सुबह ग्राम चौप के नला पार की ढाणी में खसरा नंबर 332 कृषि भूमि से रास्ता उपखंड अधिकारी आमेर के आदेश पर निकाला गया। जहाँ पर पुलिस के जाप्ते के साथ गिरदावर सुभाष सेपट मौजूद रहे। वहीं मौके पर भू स्वामी बाबूलाल सैनी ने प्रशासन पर आरोप लगाते हुए कहा कि प्रशासन ने अपने चहेते को रास्ता देने के चक्कर में बैंक रहन कृषि भूमि पर रास्ता निकाल दिया। तथा रास्ते की आड़ में तार बाउंड्री कर हमें हमारे खेतों में जाने से रोक लगा दी। वहीं ग्यारसीलाल सह खातेदार ने बताया कि निकाले गए रास्ते की भूमि पर दो बैंकों से ऋण ले रखा है। वहीं पूरे प्रकरण में प्रशासन ने अपने चहेते के लिए पूरी चाक चौबंद व्यवस्था कर कई किसानों को खेत में जाने से रोक लगा दी। वहीं दूसरी ओर मामले को लेकर प्रशासन ने तार बाउंड्री करवाने को लेकर अपनी सफाई पेश की, जबकि प्रशासन की मौजूदगी में तार बाउंड्री का कार्य चल रहा था। वहीं हैरानी वाली बात यह रही कि एक चहेते के वास्ते प्रशासन ने किसान की खड़ी फसल पर ट्रैक्टर चला कर नष्ट करने से भी नहीं चूके। आपको बता दें कि चौंप पंचायत मेंं बुधवार को बाजरे की खड़ी फसल को नष्ट कर रास्ता खुलवाने का मामला सामने आया हैै। पीडि़त पक्ष ने इसका विरोध भी किया गया। लेकिन प्रशासन ने एक भी नहीं सुनी। जानकारी के अनुसार चौंप खसरा संख्या 2505/332 गैर मुमकिन रास्ते के नाम से दर्ज है।

मौके पर बाजरे की फसल खड़ी थी। जिस पर मौके पर बगवाड़ा गिरदावर सुभाष सेपट व चौंप पटरवारी राजकुमार ने पुलिस से जाप्ता लेकर ट्रैैक्टर से बाजरे की फसल को नष्ट करवाकर रास्ते पर तारबंदी करवाई। हालांकि मौके पर एक पक्ष ने विरोध किया, लेकिन पुलिस की मौजूदगी होने के दौरान कब्जा ले लिया गया।

कृपया अपनी खबरें, सूचनाएं या फिर शिकायतें सीधे editorlokhit@gmail.com पर भेजें। इस वेबसाइट पर प्रकाशित लेख लेखकों, ब्लॉगरों और संवाद सूत्रों के निजी विचार हैं। मीडिया के हर पहलू को जनता के दरबार में ला खड़ा करने के लिए यह एक सार्वजनिक मंच है।