छत्तीसगढ़ में गौ सेवा केवल कागजों पर और सुविधाएं है केवल दिखावे के जिकसे चलते हर रोज प्रदेश मै सैकड़ों गाय मर रहे है सड़कों पर।
August 10th, 2021 | Post by :- | 191 Views

छत्तीसगढ़ में गौ सुरक्षा केवल कागजों पर केवल दिखावे के है सेवा। जिसके चलते हर रोज प्रदेश में सड़कों पर मर रहे हैं सैकड़ों गाय फिर भी प्रशासन है मौन आखिरकार क्या है वजह जो गौ सुरक्षा और शेवा के नाम पर वाहवाही लूटते हुए कर रहे हैं भ्रष्टाचार।

जांजगीर चांपा के जनपद पंचायत बिर्रा के सिलादिह पुल पर दो गाय मृत पड़े मिले सुबह से शाम हो गई मगर इनको दफनाने के लिए कोई नही आया इन गायों को बड़ी गाड़िया द्वारा कुचलकर मार दिया जाता है जिसके बाद वहां से गाड़ी नौ दो ग्यारह हो जाता है गाय का कहीं ठिकाना नहीं रहता जिससे गाय सड़क पर बैठे नजर आते हैं बड़े गाड़ी ड्राइवर सड़क पर बैठे गायों को कुचल कर चले जाते हैं उसके बाद उस गाय का क्या हुआ है पीछे मुड़कर नहीं देखा जाता और गाड़ियां फर्राटे भरते रहते हैं इन फर्राटे भरने वाले गाड़ियों पर कार्रवाई नहीं होती है जिससे तेज रफ्तार गाड़ी चलाने वालों के हौसले बुलंद है सड़क पर बैठी गायों को बिना उठाए उनके ऊपर गाड़ी चढ़ा दिया जाता है।

कृपया अपनी खबरें, सूचनाएं या फिर शिकायतें सीधे editorlokhit@gmail.com पर भेजें। इस वेबसाइट पर प्रकाशित लेख लेखकों, ब्लॉगरों और संवाद सूत्रों के निजी विचार हैं। मीडिया के हर पहलू को जनता के दरबार में ला खड़ा करने के लिए यह एक सार्वजनिक मंच है।

कृपया Lokhit Express YouTube चैनल को Like & Share अवश्य करें 

लाखों रुपए का बनाया गया गौठान में आपको शायद ही गाय नजर आएंगे मगर सड़कों पर हर दो 4 किलोमीटर के बाद गाय सड़क पर खड़े नजर आएंगे छत्तीसगढ़ शासन द्वारा गायों की देखभाल के लिए तरह-तरह के योजनाएं निकाले जा रहे हैं मगर इस योजनाओं पर पतीला लगाने वाले बहुत से लोग खड़े हैं शासन की इस महत्वकांक्षी गौठान योजना को कुछ सरपंचों द्वारा ठेंगा दिखाते हुए गायों को गौठान में रखने के बजाय सड़कों पर घूमने दिया जाता है। अगर गायों को गौठानो पर रखा जाता तो बहुत से गायों की जाने बचाया जा सकता है साथ ही सड़क पर बैठे गायों से टकराकर किसी को घायल होना नहीं पड़ता एक गौठान बनाने में ग्राम पंचायत को करीब 13 से 1400000 रुपए तक की स्वीकृति दी जाती है इसके बाद गौठानो पर गायों के लिए चारा नहीं मिल पाता ना गौठानो पर गाय नजर आते हैं। एक ओर गाय को गौमाता माना जाता है दूसरी ओर गौ माता के निर्जीव शरीर को दफनाने में जिम्मेदार लोग सामने नहीं आते।

 

आप अपने क्षेत्र के समाचार पढ़ने के लिए वैबसाईट को लॉगिन करें :-
https://www.lokhitexpress.com

“लोकहित एक्सप्रेस” फेसबुक लिंक क्लिक आगे शेयर जरूर करें ताकि सभी समाचार आपके फेसबुक पर आए।
https://www.facebook.com/Lokhitexpress/

“लोकहित एक्सप्रेस” YouTube चैनल सब्सक्राईब करें :-
https://www.youtube.com/lokhitexpress

“लोकहित एक्सप्रेस” समाचार पत्र को अपने सुझाव देने के लिए क्लिक करें :-
https://g.page/r/CTBc6pA5p0bxEAg/review