जानिए इस IAS अधिकारी के बारे में : जिन्होंने अपनी शादी पर लिए 8 फेरे, खाई रिश्वत ना लेने की कसम
July 30th, 2021 | Post by :- | 124 Views
नई दिल्ली। दुनिया में अधिकतर लोग ऐसे होते हैं, जिनका सपना होता है एक अच्छी सी नौकरी, सुंदर पत्नी और सुखी परिवार की कामना । वह अच्छी नौकरी पाने के लिए दिन रात मेहनत करते हैं, तब जाकर इस मुकाम पर पहुंचते हैं। इसके बाद वह काफी सारा पैसा कमाने की धुन में लग जाते हैं, ताकि जब पत्नी आए तो उसे बढिय़ा रहन सहन और सभी सुख सुविधाएं उपलब्ध करवा सकें। इसके लिए वह कई तरह के काम भी करते हैं, मगर आज हम आपको एक ऐसे शख्स से मिलाने जा रहे हैं, जोकि अच्छी पत्नी और सुखी जीवन की कामना तो करता है,मगर अधिक पैसा कमाने की लालसा उसमें बिल्कुल भी नहीं है। यह शख्स आज एक ऐसे मुकाम पर है, जहां पहुंचने के लिए देश के लाखों लोग दिन रात मेहनत करते हैं, इसके बावजूद वह अपने सपने को सफल नहीं बना पाते।
जानिए आईएएस प्रशांत नागर की कहानी
इस शख्स का नाम है प्रशांत नागर, जोकि उत्तर प्रदेश कैडर के आईएएस अफसर हैं। मगर मूल रूप से वह हरियाणा के फरीदाबाद शहर के गांव तिगांव के रहने वाले हैं। प्रशांत नागर ने आईएएस बनने के बाद हर आदमी की तरह अपना परिवार बढ़ाने की परंपरा का निर्वाह किया। इसके लिए उन्होंने दिल्ली के रहने वाले परिवार की डाक्टर बिटिया मनीषा भंडारी से शादी की। मगर उन्होंने ना तो अपनी शादी में कोई दिखावा किया और ना ही दान दहेज का लालच दिखाया, बल्कि शगुन के तौर पर प्रशांत ने मात्र 101 रुपए स्वीकार किए।
लिए आठ फेरे और खाई रिश्वत ना लेने की कसम
प्रशांत नागर ने अपने विवाह के जरिए आज के तडक़ भडक़ भरे माहौल में रहने वाले देश के युवाओं को ऐसा संदेश दिया है, जिसे शायद ही लोग भुला पाएं। उन्होंने अपना विवाह तो सादगी भरे तरीके से किया ही, साथ ही अपने विवाह का आठवां फेरा भी लिया। यह जानकार आप हैरान रह जाएंगे कि विवाह में वर और वधू सात फेरे लेते हैं। जिसके बाद दोनों परिवारों में जीवन भर का रिश्ता कायम हो जाता है। मगर प्रशांत ने सात की बजाए आठ फेरे लिए और इस अतिरिक्त फेरे के जरिए भी उन्होंने सरकारी महकमे में काम कर रहे उन लोगों को कड़ा संदेश दिया, जोकि सरकारी नौकरी में आने के बाद रुपए कमाने के लिए जमकर रिश्वत लेते हैं।
प्रशांत ने कहा, कभी नहीं लेंगे रिश्वत
आईएएस अधिकारी प्रशांत नागर ने आठवां फेरा लेते हुए कसम खाई कि वह अपने जीवन में कभी भी रिश्वत नहीं लेंगे। यह देखकर वहां मौजूद लोगों के दिल में प्रशांत की इज्जत और बढ़ गई। पहले इस विवाह की केवल यही चर्चा थी कि आईएएस अधिकारी होने के बावजूद प्रशांत ने अपनी शादी बिना दान दहेज के की है, बल्कि शगुन के तौर पर महज 101 रुपए ही लिए थे। जबकि प्रशांत नागर जिस समुदाय से ताल्लुक रखते हैं, उस समाज को अपने शाही विवाह और शानदार पार्टियों में पैसा पानी की तरह खर्च करने के लिए जाना जाता है।
दहेज प्रथा के खिलाफ हैं प्रशांत के पिताजी
प्रशांत नागर जैसे साकारात्मक सोच के अधिकारी इस देश में बहुत कम हैं। जोकि इतनी आदर्श व्यक्तित्व का संदेश समाज को देने का दम रखते हैं। वह अपने इस विवाह और उसमें आठवें फेरे को लेकर खासी चर्चाओं में हैं। सोशल मीडिया पर उनके विवाह की जमकर चर्चा हो रही है। प्रशांत के पिताजी रणजीत नागर भी दहेज प्रथा के सख्त खिलाफ हैं और यही संस्कार उन्होंने अपने बेटे को भी दिए। जिसके परिणाम स्वरूप आज प्रशांत ने भी बिना दहेज की शादी कर रिश्वत ना लेने का जो संकल्प लिया है, वह अपने आप में अजूबा ही कहा जाएगा।
मां के देहांत से दुखी हैं प्रशांत
बता दें कि प्रशांत और डा.मनीषा का विवाह लॉकडाऊन के दौरान हुआ था। दोनों परिवारों ने ही लॉकडाऊन के नियमों का पालन किया और विवाह में मात्र 11 लोग ही शामिल किए गए थे। बाकि सभी दोस्त और परिवारजनों को सोशल मीडिया के जरिए रस्मों में शामिल किया गया था। बीते मई महीने में प्रशांत नागर की माता जी का देहांत हो गया था। वह अपनी मां के काफी करीब थे, जिसकी वजह से उन्हें अपनी मां का देहांत हो जाने पर गहरा सदमा लगा था। मां के जाने के बाद वह भावनात्मक रूप से काफी कमजोर महसूस करने लगे थे। मगर अपने उच्च सिद्वांतों के बल पर उन्होंने यह साबित कर दिया कि उनके परिवार ने उन्हें उच्च कोटि के संस्कार दिए हैं।

आप अपने क्षेत्र के समाचार पढ़ने के लिए वैबसाईट को लॉगिन करें :-
https://www.lokhitexpress.com

“लोकहित एक्सप्रेस” फेसबुक लिंक क्लिक आगे शेयर जरूर करें ताकि सभी समाचार आपके फेसबुक पर आए।
https://www.facebook.com/Lokhitexpress/

“लोकहित एक्सप्रेस” YouTube चैनल सब्सक्राईब करें :-
https://www.youtube.com/lokhitexpress

“लोकहित एक्सप्रेस” समाचार पत्र को अपने सुझाव देने के लिए क्लिक करें :-
https://g.page/r/CTBc6pA5p0bxEAg/review