मौसम के आधार पर किसान अपने खेतों में फसलों का करें प्रबंधन
July 16th, 2021 | Post by :- | 84 Views

मौसम के आधार पर किसान अपने खेतों में फसलों का करें प्रबंधन

कांकेर जिले में हो रही खंड वर्षा के कारण फसल प्रभावित हो सकती है और उत्पादन भी प्रभावित होता है। मौसम में असामयिक परिवर्तन को ध्यान में रखते हुए किसान आर्थिक जोखिम को कम करने के लिए धान फसल के साथ साथ अन्य कम पानी चाहने वाली फसलों को भी प्राथमिकता देवें, साथ ही मेड़ो पर लताओं वाली सब्जिवर्गीय, कन्द्वर्गीय फसलों पुष्पीय पौधों छोटे फलदार पौधों जैसे पपीता केला आदि का भी उत्पादन कर सकते हैं, इसके साथ स्थान को ध्यान में रखते हुए पशुपालन, मुर्गीपालन तथा मत्स्य पालन भी कर सकते हैं लगातार एक ही फसल पर आश्रित रहने पर वित्तीय जोखिम की समस्या उत्पन्न होती है इसके लिए अपने खेत के रकबे या उपलब्ध स्थान के आधार पर अन्य कृषिगत कार्यों पर भी ध्यान देवें। मौसम आधारित फसलो का बीमा अवश्य करवाए, जल संरक्षण हेतु खेतो के मेड़ो को बांधकर रखे जल संरक्षण के अन्य उपायों जैसे जल संभरण, डबरी, कुआँ निर्माण को भी अपनाये मौसम विज्ञान विभाग और कृषि विज्ञान केंद्र कांकेर द्वारा जारी मध्यावधि मौसम पूर्वानुमान के अनुसार कांकेर जिले के कुछ स्थानों पर हल्की से मध्यम बारिश की संभावना है, आगामी 5 दिवसों में आसमान में आंशिक रूप से बादल छाये रहने के साथ अधिकतम तापमान 33.0-35.0 डिग्री से. और न्यूनतम तापमान 25.0-26.0 डिग्री से., सुबह की हवा में 85-90, आर्द्रता और शाम की हवा में 60-70, आर्द्रता तथा आने वाले दिनों में हवा दक्षिण, पश्चिम दिशाओं से औसतन 4.0-6.0 किमी प्रति घंटे की गति से चलने की संभावना है।

आप अपने क्षेत्र के समाचार पढ़ने के लिए वैबसाईट को लॉगिन करें :-
https://www.lokhitexpress.com

“लोकहित एक्सप्रेस” फेसबुक लिंक क्लिक आगे शेयर जरूर करें ताकि सभी समाचार आपके फेसबुक पर आए।
https://www.facebook.com/Lokhitexpress/

“लोकहित एक्सप्रेस” YouTube चैनल सब्सक्राईब करें :-
https://www.youtube.com/lokhitexpress

“लोकहित एक्सप्रेस” समाचार पत्र को अपने सुझाव देने के लिए क्लिक करें :-
https://g.page/r/CTBc6pA5p0bxEAg/review