जिले की अनाज़ मंडी में खरीददारी व कामकाज बंद कर आढतियों ने की हडताल |
September 24th, 2019 | Post by :- | 136 Views
हसनपुर पलवल  (मुकेश वशिष्ट) :-  सरकार की कार्यप्रणाली से नाराज हसनपुर अनाज मंडी के आढतियों ने प्रदेश व्यापारी हडताल में शामिल होते हुए मंगलवार को खरीददारी व कामकाज बंद कर पूरी तरह से हड़ताल पर रहे। आढतियों ने सरकार द्वारा लिए गए फैसले के विरोध में नारेबाजी भी की। आढतियों के इस विरोध प्रदर्शन कर नेतृत्व मंडी के प्रधान संजय सरपंच कर रहे थे।

मंगलवार को हसनपुर अनाज मंडी के आढती खरीददारी व अन्य कामकाज को बंद कर पूरी तरह से हडताल पर रहे। हडताल कर रहे मंडी के आढती संजय, दुर्गीप्रसाद, सतीस जैन, महेंद्र भगत, फूलसिंह, राधारमण, मोहनसिंह, बनेसिंह, धर्मबीर ने बताया कि यह हडताल सरकार की खरीद नीतियों के विरोध में की गई है। उन्होंने बताया कि सरकार व्यापारियों पर तरह-तरह की नीतियां व्यापारियों को पूरी तरह से तबाह करने में लगी है। उन्होंने कहा कि सरकार ने जो ई-टैंडरिंग प्रणाली लागू की है इससे आढती व व्यापारी पूरी तरह से दुखी है। सरकार ने जो किसानों के खातों में फसल का मूल्य डालने की योजना बना रही है वह भी व्यापारियों के विरोध में है।
इसके अलावा सरकार की जो किसानों के रजिस्ट्रेशन करने की प्रणाली है वह व्यापारियों के खिलाफ है। इसके अलावा हमारे पडोसी राज्य उत्तरप्रदेश से किसान फसल खरीदने की मना कर रही है जिससे आढतियों को काफी नुकसान होगा वहीं किसानों को भी उनकी फसल का अच्छा मूल्य नहीं मिल सकेगा। उन्होंने कहा कि उत्तरप्रदेश के किसानों से हमारा अच्छा भाईचारा है और यह उनकी फसल की खरीदने करने से इंकार कर रहे हैं।
ज्यादातर यूपी का किसान अपनी फसल को हरियाणा मंडियों में बेचता है जिससे की उसे अपनी फसल का अच्छा मूल्य मिल सके। इससे हमारे भाईचारे में दरार आएगी और आढतियों को काफी नुकसान झेलना पड़ेगा। आढतियों ने यहां सराकर के विरोध में नारेबाजी करते हुए कहा कि अगर सरकार ने व्यापारियों व आढतियों के हक में फैसला नहीं लिया तो एक दिन की हड़ताल अनिश्चितकालीन हडताल में तब्दिल हो जाएगी। विरोध प्रदर्शन के दौरान आढतियों में सरकार के खिलाफ भारी रोष व्याप्त था।

कृपया अपनी खबरें, सूचनाएं या फिर शिकायतें सीधे editorlokhit@gmail.com पर भेजें। इस वेबसाइट पर प्रकाशित लेख लेखकों, ब्लॉगरों और संवाद सूत्रों के निजी विचार हैं। मीडिया के हर पहलू को जनता के दरबार में ला खड़ा करने के लिए यह एक सार्वजनिक मंच है।