भाजपा बनी ‘‘भारतीय जन-लूट पार्टी’’ – तेल के दामों की बेइंतहाशा लूट से जनता त्रस्त : सुरजेवाला
June 11th, 2021 | Post by :- | 57 Views

कैथल(लोकहित एक्सप्रेस ब्यूरो चीफ विशाल चौधरी) पेट्रोल-डीजल के दामों में हो रही कमरतोड़ वृद्धि को प्रदेश और देश की जनता के लिए घातक बताते हुए वरिष्ठ कांग्रेस नेता और पार्टी के राष्ट्रीय महासचिव रणदीप सिंह सुरजेवाला ने कहा कि भाजपा अब सही मायनों में ‘भारतीय जन लूट पार्टी’ साबित हुई है।

पेट्रोल-डीज़ल-रसोई गैस की आसमान छूती कीमतों के खिलाफ कांग्रेस पार्टी द्वारा देश भर में विभिन्न शहरों में पेट्रोल पंपों के सामने आयोजित राष्ट्रव्यापी प्रतिकात्मक विरोध प्रदर्शन में शामिल हो सुरजेवाला ने कहा कि जनता की जेब काटने वाली इस लूट पर लगाम लगाना अब जरूरी हो गया है।

डीज़ल की बेइंतहाशा बढ़ती कीमतों पर ध्यान आकर्षित करने के लिए सुरजेवाला ने प्रतीकात्मक तौर से आज कैथल के पिहोवा चौंक से बैलगाड़ी के पीछे ट्रैक्टर बांधकर उसे पेट्रोल पंप तक लेकर आए ताकि किसानों की दुर्दशा की ओर सरकार का ध्यान आकर्षित हो सके।

सुरजेवाला ने कहा कि भाजपा सरकार की जनविरोधी नीतियों के चलते पिछले 13 माह में ही पेट्रोल की कीमतों में ₹रु.26.26 और डीज़ल की कीमतों में ₹रु.24.47 की अभूतपूर्व बढ़ोत्तरी हुई है। 1 जनवरी से 11 जून, 2021 के पाँच महीनों में ही पेट्रोल-डीज़ल के दाम 45 बार बढ़े हैं। जन-लूट का इससे बड़ा उदाहरण क्या हो सकता है।

सुरजेवाला ने बताया कि जब हरियाणा प्रदेश में कांग्रेस ने 2014 में सरकार छोड़ी, तो पेट्रोल पर वैट 21 प्रतिशत था जो अब भाजपा-जजपा सरकार में बढ़कर 30 प्रतिशत हो गया है। डीज़ल पर वैट 9.24 प्रतिशत था, जो अब बढ़कर 21.40 प्रतिशत हो गया है। इनसे ही खट्टर सरकार ने पिछले छः साल में हरियाणा की जनता से रु.₹50,000 करोड़ से ज्यादा वसूले हैं।

 

उन्होंने कहा कि मोदी सरकार जब मई 2014 में सत्ता में आई तो पेट्रोल पर एक्साईज़ ड्यूटी केवल ₹रु.9.20 प्रति लीटर थी। मोदी सरकार ने इस पर रु.₹23.78 प्रति लीटर अतिरिक्त एक्साईज़ ड्यूटी लगा दी, जो 258 प्रतिशत की वृद्धि है। इसी प्रकार, जब कांग्रेस ने मई, 2014 में सरकार छोड़ी, तो डीज़ल पर एक्साईज़ ड्यूटी ₹रु.3.46 प्रति लीटर थी। मोदी सरकार ने इस पर ₹रु.28.37 प्रति लीटर अतिरिक्त एक्साईज़ ड्यूटी लगा दी, जो 820 प्रतिशत की बढ़ोत्तरी है। इस प्रकार मोदी सरकार ने सात साल में पेट्रोल-डीज़ल पर एक्साईज़ ड्यूटी बढ़ाकर जनता की जेब से ₹रु.22 लाख करोड़ लूटा है।

यह सब तब हो रहा है, जब कच्चे तेल की कीमत अंतर्राष्ट्रीय बाजार में आधी रह गई है। सुरजेवाला ने बताया कि 26 मई, 2014 को जब भाजपा ने केंद्र में सत्ता सम्हाली, तो भारत की तेल कंपनियों द्वारा खरीदे जाने वाले कच्चे तेल की कीमत USD 108 प्रति बैरल थी, जो उस समय के डॉलर-रुपया की अंतर्राष्ट्रीय कीमत के अनुसार ₹रु.6,330 प्रति बैरल बनता है। इसके विपरीत, 10 जून, 2021 को कच्चे तेल का अंतर्राष्ट्रीय भाव USD 71.28 प्रति बैरल था, जो डॉलर रुपये भाव के अनुसार ₹रु.5,202 बनता है, यानि कुल ₹रु.33 प्रति लीटर। ₹रु.33 प्रति लीटर के तेल को मोदी सरकार बढ़ाकर पेट्रोल ₹रु.93.21 प्रति लीटर और डीज़ल ₹रु.86.90 प्रति लीटर बेच रही है।

पेट्रोल व डीज़ल के दामों में लगातार बढ़ोत्तरी से जहां किसान-मजदूर-गरीब पिस रहा है, वहां महंगाई आसमान को छू रही है और जनता की जेब काटी जा रही है।

सुरजेवाला ने मोदी व खट्टर सरकार से मांग करते हुए कहा कि उनके द्वारा ‘जजिया कर’ की तरह वसूले जा रहे पेट्रोल-डीज़ल की एक्साईज़ ड्यूटी और वैट में की गई बढ़ोत्तरियों को वापस लिया जाए, वरना भाजपा सरकार को एक क्षण भी गद्दी पर बने रहने का अधिकार नहीं है।
इस अवसर पर सुदीप सुरजेवाला, पूर्व मंत्री रामभज लोधर, सतबीर भाणा, कविराज शर्मा, ईश्वर नैन, रामनिवास मित्तल, पवन थरेजा, कांग्रेस सेवादल अध्यक्षा पूनम चौहान, सेवादल महासचिव सुनीता शर्मा, अश्विनी शोरेवाला, सुरेंद्र रांझा, सुरेश रोड, बहादुर सैनी, विक्की शर्मा, दर्शन खनौदा, सोनू सेठ, रामचंद्र गुर्जर ढांड, रामफल मोहना, पी.एल.भारद्वाज, महेश गोगिया,सुरजीत बैनीवाल, रणबीर गुर्जर,मदन साम्पन खेडी, राकेश खानपुर, सतपाल शर्मा, नाजर सिह, विनोद बाल्मिकी,विनोद चहल, अनिल गुर्जर, प्रवीन नैन, जसबीर खनौदा, बिल्लू सैनी, राजपाल पुनिया, मोहन शर्मा क्योडक, जयपाल शर्मा, पार्षद मोहन शर्मा, दिक्षित गर्ग, कविश मिड्डा, बृजपाल राणा, मुनीश सिक्का, रज्जी मित्तल, यशपाल जसवंती, रामफल नौच, राजपाल राजराणा, सुभाष आंधली, प्रमोद शर्मा, जसवंत सजुमा, ऋषि गढी, जरनैल मालखेडी, रामनिवास दिल्लोवाली, ओमप्रकाश शर्मा, रणधीर शर्मा, रतन शर्मा, दिलबाग जेई,नीटू तंवर, राजेंद्र तंवर, सुनील सरपंच,विक्की सरपंच,चंदमणी शर्मा, बख्खा मालखेडी, नरेश सिरटा, चाँदीराम वर्मा व मीडिया प्रभारी राजेंद्र शर्मा बलवंती आदि गणमान्य लोग मौजूद रहे।

कृपया अपनी खबरें, सूचनाएं या फिर शिकायतें सीधे editorlokhit@gmail.com पर भेजें। इस वेबसाइट पर प्रकाशित लेख लेखकों, ब्लॉगरों और संवाद सूत्रों के निजी विचार हैं। मीडिया के हर पहलू को जनता के दरबार में ला खड़ा करने के लिए यह एक सार्वजनिक मंच है।