सर्व समाज कल्याण सेवा समिति ने एलएनजेपी अस्पताल के ब्लड बैंक में लगाया 143वा रक्तदान शिविर, रक्तदाताओं को भेंट किये पौधे
June 5th, 2021 | Post by :- | 155 Views

कुरुक्षेत्र। विश्व पर्यावरण दिवस के अवसर पर सर्व समाज कल्याण सेवा समिति द्वारा लोकनायक जयप्रकाश नागरिक अस्पताल के ब्लड बैंक में 143वां रक्तदान शिविर लगाया गया। समिति के प्रदेशाध्यक्ष रामेश्वर सैनी व संरक्षक नरेश सैनी ने बताया कि संस्था द्वारा कोरोना काल मे रक्त की कमी को देखते हुए निरन्तर रक्तदान शिविरों का आयोजन किया जा रहा है।

संस्था द्वारा 13 व 14 जून को भी रक्तदान शिविर का आयोजन किया जाएगा। शिविर में कुरूक्षेत्र विश्वविद्यालय के सेनेटरी इंचार्ज डा. अजय जांगड़ा बतौर मुख्य अतिथि मौजूद रहे व आयुर्वेदिक चिकित्सा अधिकारी डॉ कुलवंत सिंह ने शिविर की अध्यक्षता की। मुख्यातिथि अजय जांगड़ा ने कहा कि रक्तदान कर आप दूसरे की अनमोल जिंदगी को बचा रहे हैं इसलिए हर पात्र व्यक्ति को रक्तदान करना चाहिए। कोरोना काल में रक्तदान कैंप लगाना बहुत ही सरहानीय कार्य है। उन्होंने युवाओं से आह्वान किया कि वे वैक्सीन लगवाने से पहले रक्तदान करे। अजय जांगडाने स्वयं भी रक्तदान किया। इस अवसर पर समिति के प्रधान रामेश्वर सैनी, संरक्षक नरेश सैनी, मीडिया प्रभारी तरुण कुमार व समाजसेविका अविनाश कौर ने रक्तदाताओं को एक-एक पौधा भेंट किया। डॉ कुलदीप सिंह ने कहा कि रक्तदान से शरीर में कमजोरी नही आती है अपितु शरीर में नई ऊर्जा का संचार होता है। समिति के मीडिया प्रभारी तरुण कुमार व समाजसेविका अविनाश कौर ने कहा कि ब्लड बैंक में रक्त की भारी कमी चल रही है इसलिए हर स्वस्थ व्यक्ति को कम से कम 3 माह के अंतराल में एक बार रक्तदान जरूरी करना चाहिए। शिविर में ब्लड बैंक के प्रभारी डा विनोद तंवर व डॉ रमा के नेतृत्व में टीम ने रक्त एकत्रित किया। शिविर में सुधीर कुमार ने 28वी बार रक्तदान किया।

शिविर में मुख्य तकनीकी अधिकारी कर्मवीर सैनी व चिराग सैनी भी मौजूद रहे। संरक्षक नरेश सैनी ने पर्यावरण को बचाने के लिए पौधारोपण करने का आह्वान किया। शिविर में जसदीप, विकास, रिंकू, करतार, रघुवीर, राजेश, अनुराग,  अनुज, अजय, सतबीर, देव कृष्ण, अजय जांगड़ा, संदीप, अमित व सुधीर कुमार ने रक्तदान किया।

 

कृपया अपनी खबरें, सूचनाएं या फिर शिकायतें सीधे editorlokhit@gmail.com पर भेजें। इस वेबसाइट पर प्रकाशित लेख लेखकों, ब्लॉगरों और संवाद सूत्रों के निजी विचार हैं। मीडिया के हर पहलू को जनता के दरबार में ला खड़ा करने के लिए यह एक सार्वजनिक मंच है।