कुरुक्षेत्र के लिए सुखद है कोरोना पाजिटिव मरीजों को घटता आकंड़ा
June 1st, 2021 | Post by :- | 66 Views
कुरुक्षेत्र 1 जून कुरुक्षेत्र में कोरोना से को हराने वालों की संख्या में लगातार इजाफा हो रहा है। इस जिले के नागरिक कोरोना को हराने में प्रशासन का पूरा सहयोग कर रहे है। जिसके परिणाम स्वरुप इस जिले में कोरोना रिकवरी का आंकड़ा बढक़र 96.10 फीसदी पर पहुंच चुका है। इतना ही नहीं एक ही दिन में 123 संक्रमित मरीज ठीक होकर अपने घर पहुंच गए है, इस जिले में अब तक 20742 संक्रमित मरीज ठीक हो चुके है, जो कि कुरुक्षेत्र जिले के लिए एक सुखद समाचार है। इस समय कुरुक्षेत्र में कोरोना सैम्पल पाजिटिव दर का आकंड़ा, 6.10 फीसदी है। कुरुक्षेत्र में कोरोना के मरीज तेजी के साथ ठीक होकर घर जा रहे है, इस जिले में इस समय जिले में महज 521 मरीज ही एक्टिव है।
जिला सिविल सर्जन डा. संत लाल वर्मा ने कहा कि कुरुक्षेत्र में कोरोना की जंग जीतने वाले लोगों की संख्या लगातार बढ़ रही है, इससे कोरोना से रिकवरी केसों में सुधार में बढौतरी हो रही है। इस समय कुरुक्षेत्र में 96.10 फीसदी मरीज ठीक होकर घर जा चुके है। इतना ही नहीं कुरुक्षेत्र में सैम्पल पाजिविटी रेट 6.10 फीसदी है। इसके साथ-साथ कुरुक्षेत्र से 123 मरीजों को ठीक होने पर अस्पताल से डिस्चार्ज कर दिया गया है। इसके साथ-साथ कुरुक्षेत्र में कोरोना से संक्रमित 39 नए केस सामने आए है। इतना ही नहीं कुरुक्षेत्र में कोरोना वायरस से संक्रमित अब तक 20742 मरीज ठीक होकर घर लौट गए है। अहम पहलू यह है कि अभी तक लिए गए 354929 में से 332460 सैम्पलों की रिपोर्ट नेगटिव आ चुकी है।
उन्होंने कहा कि कोरोना पाजिटिव वार्ड-11 धन्ना पट्टïी अजराना कलां निवासी 60 वर्षीय बुजुर्ग व्यक्ति, सैक्टर-13 निवासी 85 वर्षीय बुजुर्ग व्यक्ति और गांव कतलाहेरी शाहबाद निवासी 60 वर्षीय बुजुर्ग व्यक्ति की मृत्यु हो गई है। इस जिले में अब तक 21583 पॉजिटिव केस सामने आ चुके है। कोरोना वायरस की जांच के लिए इस जिले से अब तक 354929 में से 332460 सैम्पल की रिपोर्ट नेगटिव आ चुकी है। इनमें से 20742 मरीज ठीक होकर घर जा चुके है और 320 कोरोना पाजिटिव मरीजों की मृत्यु हो चुकी है। इस प्रकार कुरुक्षेत्र में कोरोना वायरस के 521 एक्टीव केस है।

कृपया अपनी खबरें, सूचनाएं या फिर शिकायतें सीधे editorlokhit@gmail.com पर भेजें। इस वेबसाइट पर प्रकाशित लेख लेखकों, ब्लॉगरों और संवाद सूत्रों के निजी विचार हैं। मीडिया के हर पहलू को जनता के दरबार में ला खड़ा करने के लिए यह एक सार्वजनिक मंच है।