करनाल पुलिस ने रूप्ये दोगुने करने का लालच दे कर ठगी करने वाले तीन आरोपी किये गिरफ्तार।
May 26th, 2021 | Post by :- | 129 Views

करनाल, हरियाणा (रजत शर्मा)। दिनांक 22.05.2021 को पुलिस चौकी निलोखेडी की टीम को विश्वसनीय सूचना प्राप्त हुई कि चार लडके एक गाडी में सवार होकर लोगों को पैसे डबल बनाने का झांसा देकर धोखाधडी का धंधा करते हैं जो आज किसी के साथ धोखाधडी करने तरावडी की तरफ से निलोखेडी की तरफ आ रहे हैं। प्राप्त सूचना के आधार पर उप निरीक्षक कृष्ण कुमार इंचार्ज पुलिस चौकी निलोखेडी व उनकी सहयोगी टीम द्वारा जीटी रोड निलोखेडी पर नाकाबंदी की गई। दौराने नाकाबंदी एक गाडी वंहा आई और गाडी मे बैठे लोग पुलिस पार्टी को देखकर गाडी वापिस मोडकर भागने का प्रयास करने लगे।

इस प्रयास में गाडी में बैठे आरोपियों में से दो आरोपी भागने में सफल रहे व *दो आरोपियों 1. अरविंद कुमार पुत्र सुरजीत सिंह वासी गांव गनगौरी थाना लाडवा जिला कुरूक्षेत्र 2. करणपाल पुत्र देशराज वासी जयसिंह माजरा थाना रादौर जिला यमुनानगर* को पुलिस टीम द्वारा मौका से गिरफ्तार किया गया। *गाडी की तलाशी लेने पर गाडी में से कुल 8 लाख 94 हजार रूप्ये नगद व नोट नुमा कागज की गड्डियों से भरे दो बैग, एक नोट गिनने की मशीन बरामद की गई व EON गाडी को भी पुलिस टीम द्वारा कब्जे में लिया गया।* इस संबंध में उपरोक्त दोनों आरोपियों व उनके फरार दो अन्य साथियों के खिलाफ थाना बुटाना में 420 आईपीसी के तहत मामला दर्ज किया गया।

मामले की आगामी तफ्तीश उप निरीक्षक ईलम सिंह थाना बुटाना को सौंपी गई। दौराने तफ्तीश आरोपियों को दिनांक 23.05.2021 को पेश अदालत किया जाकर 03 दिन का रिमाण्ड हासिल किया गया। दौराने रिमाण्ड जांच में खुलासा हुआ कि आरोपियों द्वारा लोगों को अपने पास काफी मात्रा में 100, 200 व 500 के नोटों की गड्डियां होने की बात का विश्वास दिलाया जाता था और लोगों से बडे नोट लेने व बडे नोटों के बदले दो से तीन गुणा कीमत के छोटे नोट देने का लालच दिया जाता था।

लोगों को विश्वास में लेने के लिए आरोपियान पहले लोगों को कुछ छोटे नोटों की असली गड्डिया दे देते और कंही भी जाकर चैक कराने को कहा जाता था। चैक कराने पर नोट असली पाये जाते और आरोपियों व ठगी का शिकार होने वाले लोगों के बीच डील पक्की हो जाती थी। इसके बाद लेन-देन के लिए किसी एंकात जगह का चुनाव किया जाता था। आरोपियान अपने पास नोटों से भरे बैग रखते थे और बैग में ऊपर-2 असली नोटों की गड्डियां होती व नीचे बैग में नोट के आकार के कागज के टूकडों की गड्डियां होती थी और नोट के आकार के कागज के टूकडों की गड्डियों मे ऊपर-नीचे एक-2 नोट असली लगा हुआ होता जिससे देखने मे सारी गड्डियां असली नोटों की प्रतित होती थी।

आरोपीयान लोगों से बडे नोटों के रूप मे डील के अनुसार काफी नगद रकम ले लेेते और दोगुने व तीन गुणे रकम के छोटे नोटों से भरे बैग दे देते थे। इन बैगों मे उपर असली नोटों की गड्डियां होती थी और नीचे नोट के आकार के कागज के टुकडों की गड्डियां जिनमें ऊपर-नीचे एक-2 असली नोट लगा होता से भरे बैग थमा दिये जाते थे। जैसे ही लोग बैग को खोलकर चैक करने लगते तो आरोपियान योजना अनुसार उनको पुलिस की रैड पडने की बात कहकर डरा देते थे। जिसके कारण लोग पुलिस द्वारा पकडे जाने के डर से बैग को बिना चैक करे ही वंहा से निकल जाते थे। इस प्रकार लोग ठगी का शिकार हो जाते थे।

आरोपियों द्वारा खुलासा किया गया कि वह अपने दो साथियों को नकली पुलिस बना कर रखते थे और उन्हें मौके पर ही दूसरी जगह या दूसरे कमरे में बिठा कर रखते थे। जैसे ही आरोपियों को लगता कि कुछ गड़बड़ होने वाली हैै तो नकली पुलिस बने आरोपी मौके पर आकर रैड मार देते और लोग पुलिस के पकडे जाने के डर के कारण जैसे बैग मिलते वैसे ही लेकर वंहा से भाग जाते थे व डील करने वाले आरोपी भी दूसरी तरफ भाग जाते थे।

करनाल पुलिस की टीम द्वारा नकली पुलिस बनने वाले एक आरोपी करनैल सिंह पुत्र जोगिंदर सिंह वासी गांव दौलतपुर थाना सदर थानेसर जिला कुरूक्षेत्र* को पीपली के एरिया से गिरफ्तार किया गया है। *जिसके कब्जे से पुलिस की एक वर्दी बरामद की गई।* जांच में यह भी खुलासा कि इस तरह की ठगी की वारदातों को अंजाम देने में मुख्य भूमिका निभाने वाला सरगना ऋषिपाल पुत्र प्रेमसिंह वासी भूरा माजरा थाना रादौर जिला यमुनानगर है। जोकि आरोपी ऋषिपाल जिला यमुनानगर के एरिया में ऐसी करीब 8 वारदातों को अंजाम दे चुका है।

आरोपी ऋषिपाल के कुछ व्यक्ति अलग-2 जगहों पर औधोगिक क्षेत्रों के आस-पास घूमते रहते हैं वंहा पर रहकर लोगों को रूप्ये दोगुने या तीन गुने करने का लालच देकर ऋषिपाल सें संपर्क करने को कहते है। जब लोग ऋषिपाल से संपर्क करते है तो लेन-देन की रकम से लेकर जगह चुनने तक का प्लान ऋषिपाल ही तैयार करता है। तीनों आरोपियों को आज पेश अदालत किया जाकर जेल भेजा गया। मुख्य आरोपी ऋषिपाल व वारदात में शामिल अन्य आरोपियों की गिरफ्तारी के प्रयास जारी हैं।

कृपया अपनी खबरें, सूचनाएं या फिर शिकायतें सीधे editorlokhit@gmail.com पर भेजें। इस वेबसाइट पर प्रकाशित लेख लेखकों, ब्लॉगरों और संवाद सूत्रों के निजी विचार हैं। मीडिया के हर पहलू को जनता के दरबार में ला खड़ा करने के लिए यह एक सार्वजनिक मंच है।