पार्षद डा. नीना सतपाल राठी ने निजी अस्पताल में पहुंचकर दिया पौष्टिक भोजन
May 26th, 2021 | Post by :- | 91 Views
बहादुरगढ़ लोकहित एक्सप्रेस ब्यूरो चीफ (गौरव शर्मा)
भाजपा महिला मोर्चा झज्जर की अध्यक्ष एवं नगर पार्षद डा. नीना सतपाल राठी के कार्यालय पर बुद्ध पूर्णिमा के अवसर पर भगवान बुद्ध को याद किया। उन्होंने कहा कि सुख, शांति, समाधान, श्रद्धा और अहिंसा के दूत को हमें याद करते उनके दिखाए सद्मार्ग पर चलना चाहिए। भगवान बुद्ध ने अपने संदेश में कहा था कि सुख और दु:ख जीवन के रंग हैं। हमें इनसे घबराना नहीं चाहिए। बल्कि सत्य व शांति के मार्ग पर चलकर सेवा भाव से कार्य करते रहना चाहिए। कोरोना महामारी के इस दौर में घर में रहकर ही लोगों ने बुद्ध पूर्णिमा मनाई और उनकी पूजा अर्चना भी की। भगवान बुद्ध ने ज्ञान प्राप्ति के बाद अपने अनुयाइयों को चार आर्य सत्य नाम का जो पहला उपदेश दिया वह संदेश आज भी उतना ही सार्थक और प्रासंगिक है। उन्होंने कहा कि मनुष्य के जीवन में दु:ख दर्द, उतार चढ़ाव आते रहते हैं। उनसे घराबना नहीं चाहिए बल्कि सकारात्मक सोच के साथ आगे बढऩा चाहिए।
निजी अस्पताल में पहुंचकर दिया पौष्टिक भोजन
भाजपा महिला मोर्चा झज्जर की अध्यक्ष एवं नगर पार्षद डा. नीना सतपाल राठी की ओर से चलाए जा रहे वैदिक सेवा रसोई अभियान के तहत अस्पतालों में भर्ती व होम आइसोलेशन में रहने वाले अनेक मरीजों के लिए पौष्टिक भोजन उपलब्ध कराया जा रहा है। बुद्ध पूर्णिमा के दिन भी उन्होंने सेवाभाव के तहत कार्य करते हुए शहर के ब्रह्मशक्ति संजीवनी अस्पताल में पहुंचकर यहां कार्यरत स्वास्थ्य कर्मियों को कोरोना संक्रमितों के लिए पौष्टिक भोजन की 16 थाली भेंट की। साथ में उनके लिए स्वच्छ पेयजल , लस्सी समेत अन्य चीजें भी उपलब्ध कराई। इसके अलावा उनकी टीम ने सैक्टर-15 में होम आइसोलेशन में रह रहे 10 संक्रमितों के लिए भी भोजना भेजा। उन्होंने कोरोना महामारी के दौरान संकट के समय दिन-रात मरीजों की सेवा में लगातार जुटे डाक्टर, स्टाफ नर्स, पैरामेडिकल स्टॉफ, एम्बुलेंस चालक, स्वच्छता कर्मचारियों के कार्य की जमकर प्रशंसा की। डा. नीना सतपाल राठी ने कहा कि वे कोरोना योद्धा हैं और समर्पण भाव से मरीजों की सेवा में लगे हैं। कोविड-19 महामारी के दौरान अग्रिम मोर्चे पर डटे स्वास्थ्यकर्मियों ने महत्वपूर्ण भूमिका निभाई है और कोरोना काल में अपने कर्तव्यों को समझते हुए उसकी पूरी निष्ठा और लगन के साथ निर्वाह किया है। वे अपने और परिवार की परवाह किए बिना लोगों की जान बचाने में लगे हुए हैं। उनका यह सेवा भाव काबिल ए तारिफ है। उन्होंने कहा कि कोरोना वॉरियर्स का सम्मान करना चाहिए और उनका हौसला भी बढ़ाना चाहिए।

कृपया अपनी खबरें, सूचनाएं या फिर शिकायतें सीधे editorlokhit@gmail.com पर भेजें। इस वेबसाइट पर प्रकाशित लेख लेखकों, ब्लॉगरों और संवाद सूत्रों के निजी विचार हैं। मीडिया के हर पहलू को जनता के दरबार में ला खड़ा करने के लिए यह एक सार्वजनिक मंच है।