संजीवनी परियोजना के तहत खर्च किए 5 करोड़ रुपये -उपायुक्त निशांत कुमार यादव।
May 25th, 2021 | Post by :- | 89 Views

करनाल, हरियाणा (रजत शर्मा)। कोविड महामारी के प्रकोप को रोकने के लिए जहां हर क्षेत्र में काम किया जा रहा है वहीं करनाल ने एक नई परियोजना संजीवनी को अमलीजामा पहनाया है। समाज के आम और खास लोग इस पहल की प्रशंसा कर रहे हैं। मुख्यमंत्री मनोहर लाल ने इस परियोजना का शुभारंभ किया और यह परियोजना आम आदमी के स्वास्थ्य के लिए वरदान साबित होगी। इस परियोजना में वह सब होगा जो एक मरीज को अपने स्वास्थ्य के लिए चाहिए तभी उपायुक्त निशांत कुमार यादव ने इस परियोजना का नाम स्वस्थ करनाल – बनेगा मिसाल, हारेगा कोरोना – जीतेगा हरियाणा नाम दिया है। इसके लिए जिला प्रशासन काम भी कर रहा है। इस संजीवनी परियोजना में 5 करोड़ रुपये के ऐसे कार्य किए जा रहे हैं जो कोविड के मरीजों को नया जीवन देने में सहयोगी होंगे।

इस परियोजना पर शिक्षा मंत्री व करनाल जिला के प्रभारी कंवरपाल गुर्जर, सांसद संजय भाटिया, एसीएस देवेन्द्र सिंह, उपायुक्त निशांत कुमार यादव ने 10 मई को विचार करना शुरू किया और सोमवार 24 मई को अंतिम रूप देकर जिले के लोगों को समर्पित कर दिया। जबकि इसको पूरा करने का लक्ष्य 4 सप्ताह तक था। सहयोगी कंपनी डिलोयट इंडिया के अधिकारियों ने भी जिला प्रशासन की चारों ओर प्रशंसा की और मुख्यमंत्री मनोहर लाल ने जिला की टीम को सराहा। संजीवनी परियोजना में ग्रामीण क्षेत्रों के लिए एक नई ऊर्जा देने का काम किया है। संजीवनी परियोजना शुरू होने से ग्रामीण क्षेत्रों के कोविड ग्रस्त मरीज अब चिंतित नहीं बल्कि आत्मविश्वासी हो गए हैं, होए भी क्यों न, उनके घर पर एमबीबीएस डाक्टर दिन में दो बार उनका हालचाल जानें और जिला प्रशासन द्वारा भेजी गई स्वास्थ्य किटों में जरूरी दवाईयां व ऑक्सीजन व बुखार मापने का यंत्र तथा जरूरत पडऩे पर भांप लेने का यंत्र भी दिया गया है। ग्रामीण क्षेत्र में सीएचसी पर 8 एडवांस लाईफ स्पोर्ट एम्बुलैंस की भी व्यवस्था की गई हैं। जब मरीज को जरूरत पड़े तो 24 घंटे यह मरीज को अस्पताल में निशुल्क पहुंचा रही हैं।

उपायुक्त निशांत कुमार यादव ने बताया कि संजीवनी परियोजना से करनाल जिले में कोविड स्वास्थ्य सुविधाओं के लिए एक नई पहल है। जब कोरोना का संक्रमण ज्यादा था तो काफी असुविधा देखी गई, मरीजों में भय का माहौल था लेकिन मुख्यमंत्री मनोहर लाल ने पूरे प्रदेश के मरीजों को ऑक्सीजन उपलब्ध करवाई, आज करनाल सहित सभी जगह ऑक्सीजन मिल रही है। करनाल में पर्याप्त मात्रा में आईसीयू व ऑक्सीजन बैड हैं। ग्रामीण क्षेत्र में संजीवनी परियोजना के तहत आईसोलेशन सैंटर बनाए गए हैं, सीएचसी पर कोविड फील्ड अस्पताल बनाना अपने आप में एक बड़ी पहल है। यह पहल पूरे देश के लिए अनुकरणीय है। इस पहल से करनाल स्वस्थ बनेगा और मिसाल स्थापित करेगा।

कृपया अपनी खबरें, सूचनाएं या फिर शिकायतें सीधे editorlokhit@gmail.com पर भेजें। इस वेबसाइट पर प्रकाशित लेख लेखकों, ब्लॉगरों और संवाद सूत्रों के निजी विचार हैं। मीडिया के हर पहलू को जनता के दरबार में ला खड़ा करने के लिए यह एक सार्वजनिक मंच है।