रोग प्रतिरोधक क्षमता बढ़ाने को योग व प्राणायाम का सहारा लें : डॉ. आशा शर्मा
May 23rd, 2021 | Post by :- | 57 Views
बहादुरगढ़ लोकहित एक्सप्रेस ब्यूरो चीफ (गौरव शर्मा)
योग पखवाड़े से सैकड़ों लोगों को लाभान्वित करने में एन एस एस वॉलिंटियर्स ने निभाई अहम भूमिका : डॉ. आशा शर्मा
पूरी श्रद्धा व तन्मयता से  करें योग का निरंतर अभ्यास : वाई आर सी वॉलिंटियर दीपा अधारिका 
शरीर का शुद्धिकरण करता है प्राणायाम : डॉ. आशा शर्मा
 वैश्य बीएड कॉलेज द्वारा कोरोना  महामारी से बचने के लिए ऑनलाइन योग के माध्यम से 8 मई रेडक्रॉस दिवस से चलाए जा रहे पन्द्रह दिवसीय इम्यूनिटी बूस्टर अवेयरनेस प्रोग्राम में जिलेभर से सैकड़ों महिलाओं, बच्चों व योगाप्रेमियों ने लाभ उठाया।महाविद्यालय की वाईआर सी व एनएसएस वॉलिंटियर्स दीपा अधारिका ने  सभी प्रकार के आसन, प्राणायाम व योग की सूक्ष्म  क्रियाओं का निरंतर अभ्यास करवाया, जो आज के इस दौर में कोरोना महामारी से लड़ने के लिए रोग प्रतिरोधक क्षमता बढ़ाते हैं साथ ही इन आसनों के करने से दूर होने वाली बीमारियों और इनके लाभ के बारे में भी बताया गया। वॉलिंटियर दीपा ने कहा कि हमें निरंतर पूरी श्रद्धा के साथ योग करना चाहिए।प्राणायाम का मुख्य उद्देश्य शरीर में ऊर्जा वहन करने वाले मुख्य स्रोतों का शुद्धिकरण करना है। यह अभ्यास पूरे शरीर का पोषण भी करता है।हमें सुबह और शाम दोनों समय योग का अभ्यास करना चाहिए लेकिन सुबह का समय सबसे बढ़िया होता है, क्योंकि इस समय प्रकृति शांत होती है, जिससे ध्यान लगाने में सहायता मिलती है। महाविद्यालय की प्राचार्या डॉ.आशा शर्मा ने कहा कि योग का कंसेप्ट बहुत ही पुराना है। आज देश को योग की सबसे अधिक आवश्यकता है क्योंकि यह न सिर्फ शरीर को स्वस्थ रखने का विज्ञान शामिल है बल्कि मन को शांत रखने का उपाय भी मौजूद है।कोरोना काल के संकट से उभरने के लिए शारीरिक और मानसिक व्यायाम के रूप में योग पूरी दुनिया में जोर-शोर से अपनाया जा रहा है।  योग के लिए नियम और अनुशासन बेहद जरूरी हैं। नियमित रूप से और सही तरीके से योग करना सेहत के लिए न सिर्फ फायदेमंद होता है बल्कि कैंसर, हार्ट अटैक, स्ट्रोक्स जैसी घातक बीमारियों को खत्म करने में भी सहायता करता है। महाविद्यालय की वाईआरसी प्रभारी वह शारीरिक शिक्षा प्रवक्ता श्रीमती सुनीता रानी ने कहा कि योगासनों के अभ्यास से जहां शरीर में शक्ति, स्फूर्ति व  लचकता आती है वहीं प्राणायाम एकाग्रता बढ़ाने के साथ-साथ तनाव एवं चिंता के स्तर को कम करता है, जिसकी आज के वातावरण में नितांत आवश्यकता है। वाईआरसी प्रभारी व एनएसएस प्रोग्राम ऑफिसर श्रीमती दिव्या बंसल ने कहा कि शरीर में सारा खेल सांसो का है योग के माध्यम से हम अपनी  श्वास प्रश्वास  की प्रक्रिया को नियंत्रित कर सकते हैं, तथा इसे शरीर मन और आत्मा में तालमेल बनता है। आउटरीच प्रभारी सुश्री प्रीत कमल ने कहा कि योग से व्यक्ति में आत्मविश्वास व दृढ़ इच्छा शक्ति उत्पन्न होती है। योग पखवाड़े का लाभ उठाने वालों में राजकुमारी, चंद्रकला, संतोष, मीकू, वंदना शर्मा, सरला सैनी, पिंकी शर्मा, सरस्वती, पुष्पा शर्मा, गिन्नी, नेहा, पिनाक, संयम , कृष्णा, भूमि, अंश, कूकी, पार्थ, रेनू भारद्वाज, सीरत, ममता ,तनु, हंसिका, मान्या, छवि, वान्या, स्नेहा, कमला इत्यादि ने योग व रोगों से संबंधित विभिन्न प्रकार के डाउट क्लियर किए। इस कार्यक्रम का आयोजन यूथ रेड क्रॉस, एनएसएस व आउटरीच सेल द्वारा किया गया।

कृपया अपनी खबरें, सूचनाएं या फिर शिकायतें सीधे editorlokhit@gmail.com पर भेजें। इस वेबसाइट पर प्रकाशित लेख लेखकों, ब्लॉगरों और संवाद सूत्रों के निजी विचार हैं। मीडिया के हर पहलू को जनता के दरबार में ला खड़ा करने के लिए यह एक सार्वजनिक मंच है।