कोरोना मरीजो के लिए निःशुल्क स्वास्थ्य वर्धक रेसिपी रामबाण सिद्ध होगी-अध्यक्ष सतीश छिकारा
May 21st, 2021 | Post by :- | 255 Views
बहादुरगढ़ लोकहित एक्सप्रेस ब्यूरो चीफ (गौरव शर्मा)
कोरोना बीमारी से जूझ रहे मरीजो को विश्वास, अपनत्व व हौंसला बढ़ाने की जरूरत : सतीश छिकारा
बहादुरगढ़। कोरोना वैश्विक महामारी में रिसालों देवी फाउंडेशन (एसआरडीएफबी.इन) व सेवाभारती द्वारा कोरोना मरीजो के लिए अनूठी पहल करते हुए निःशुल्क स्वास्थ्य वर्धक रेसिपी रामबाण सिद्ध होगी। यह बात फाउंडेशन अध्यक्ष सतीश छिकारा ने पत्रकारों से बातचीत करते हुए कहीं। उन्होंने बताया कि कोरोना मरीजों के लिए सुबह 8 बजे आयुर्वेदिक काढ़ा दिया जाएगा। और शाम को 8 बजे हल्दी, अदरक, लोंग, ईलायची का मिश्रित गाय का दूध दिया जाएगा। तथा पक्का हुआ फल, आंवला अजवाईन मिला करके  दिया जाएगा। सतीश छिकारा ने कहा कि इस तरह की स्वास्थ्य वर्धक रेसिपी से मरीज को ताकत मिलेगी और वह जल्दी से जल्दी ठीक हो जायेगा।
उन्होंने कहा कि इस महामारी से मानव जाति पर विशेष संकट हैं और इसके लिए जो स्वस्थ है उन्हें आगे बढ़कर सेवा कार्य करने चाहिए। ऐसे दौर में खुद को सुरक्षित रखकर अपना व दूसरों का जीवन बचाना बहुत बड़ी उपलब्धि है। सतीश छिकारा ने कहा कि खासतौर से कोरोना बीमारी से जूझ रहे मरीजो को विश्वास, अपनत्व व हौंसला बढ़ाने की जरूरत है। अगर मरीज को लगेगा कि उसके पीछे देखभाल के लिए समाज खड़ा है तो निश्चित तौर पर मरीज की आत्मशक्ति बढ़ेगी और बीमारी से लड़ने की शक्ति भी बढ़ेगी।
डॉक्टर कपिल, डॉक्टर उरेंद्र सिंह, नर्सिंग  स्टाफ  स्वाती, नर्स अंजू, वॉलंटियर्स निखिल आदि ने फाउंडेशन के कार्यो की सराहना की। वही सेवा भारती जिला सचिव झज्जर डॉक्टर रमेश लाठर ने कहा कि राष्ट्र ने हमको सबकुछ दिया हम भी कुछ देना सीखे। इस महामारी में सभी का फर्ज बनता है देश के कोरोना मरीजो व जरूरतमंदों की तन मन धन से सेवा करे। इस अवसर पर पार्षद सत्यप्रकाश छिकारा, रामफूल एडवोकेट, राजसिंह दलाल, मास्टर पुरुषोत्तम छिकारा, स्वयंसेवक व शिक्षाविद दीपक श्रीवास्तव, समाजसेवी कमल रोहिल्ला, सुनील अहलावत, संजय कुमार, मास्टर सुरेंद्र छिल्लर, विजय कुमार, सरवर फौजी, वेद सुहाग, बिट्टू सैनी, नीरज डागर आदि मौजूद रहे।

कृपया अपनी खबरें, सूचनाएं या फिर शिकायतें सीधे editorlokhit@gmail.com पर भेजें। इस वेबसाइट पर प्रकाशित लेख लेखकों, ब्लॉगरों और संवाद सूत्रों के निजी विचार हैं। मीडिया के हर पहलू को जनता के दरबार में ला खड़ा करने के लिए यह एक सार्वजनिक मंच है।