लोगों को करना होगा प्रशासन का सहयोग, जिले में ऑक्सीजन, दवाई, बैडों की कोई कमी नहीं, अफवाहों से रहें दूर -मंत्री कंवरपाल गुर्जर।
May 21st, 2021 | Post by :- | 178 Views

करनाल, हरियाणा (रजत शर्मा)। शिक्षा मंत्री कंवरपाल गुर्जर ने कहा कि कोविड महामारी पर बहुत कम समय में करनाल जिले ने बेहतर प्रबंध करके काबू पाया है। जिले में ऑक्सीजन, दवाई, बैडों की कोई कमी नहीं है, गांव-गांव में आईसोलेशन सैंटर खोले जा रहे हैं और पहले से ज्यादा टैस्टिंग बढ़ाई जा रही है जिसके परिणामस्वरूप करनाल जिले का रिकवरी रेट 90 प्रतिशत के करीब हो गया है।
मंत्री वीरवार को लघु सचिवालय के सभागार में जिला सलाहकार समिति की बैठक को संबोधित कर रहे थे।

उन्होंने कहा कि जिला प्रशासन ने कोरोना पर अंकुश लगाने के लिए जो प्रबंध किए हैं वह सराहनीय हैं। पिछले सप्ताह जिले की स्थिति काफी नाजुक थी, स्थिति में काफी सुधार आया है, किसी को भी पैनिक होने की जरूरत नहीं, जिले में पर्याप्त मात्रा में बैड ऑक्सीजन युक्त 475 बैड हैं जिनमें से 122 खाली हैं तथा आईसीयू के 258 बैड हैं जिनमें से 26 खाली हैं।

उन्होंने कहा कि अभी समस्या समाप्त नहीं हुई है, लोगों को कोरोना प्रोटोकॉल का ध्यान रखना होगा। उन्होंने कहा कि तीसरी लहर के लिए भी प्रशासन ने तैयारी की है। हमारा मानना है कि यदि जनता का सहयोग रहा तो तीसरी लहर हरियाणा में नहीं आएगी। उन्होंने कहा कि गांव स्तर पर आईसोलेशन सैंटर बनाए गए हैं जिस कोरोना संक्रमित व्यक्ति की घर पर सुविधा नहीं है, उसके लिए गांव में ही आईसोलेशन सैंटर बनाए गए हैं जहां पर सभी सुविधाएं मिलेंगी।

जो पॉजिटिव आता है उसके लिए स्वास्थ्य किट तैयार की गई है जिसमें दवाई, थर्मामीटर, ऑक्सीमीटर, स्टीमर शामिल है। केसीजीएमसी के छात्रों द्वारा मरीजों का दिन में दो बार स्वास्थ्य के बारे में जानकारी ली जाती है। किसी भी मरीज को गांव से दूर नहीं जाना पड़े इसके लिए सीएचसी स्तर पर 20 बैड के कोविड केयर सैंटर स्थापित किए गए हैं। उन्होंने कहा कि सभी को मिलजुल कर काम करने की जरूरत है जिसके बेहतर परिणाम होंगे।

इस मौके पर भाजपा के जिलाध्यक्ष योगेन्द्र राणा, मेयर रेनू बाला गुप्ता, मुख्यमंत्री के प्रतिनिधि संजय बठला, एसपी गंगाराम पुनिया, नगरनिगम आयुक्त विक्रम, एसीयूटी प्रदीप सिंह, जिला सह कार्यवाहक महेन्द्र नरवाल, जिला प्रचारक अनिल कुमार उपस्थित रहे।

कृपया अपनी खबरें, सूचनाएं या फिर शिकायतें सीधे editorlokhit@gmail.com पर भेजें। इस वेबसाइट पर प्रकाशित लेख लेखकों, ब्लॉगरों और संवाद सूत्रों के निजी विचार हैं। मीडिया के हर पहलू को जनता के दरबार में ला खड़ा करने के लिए यह एक सार्वजनिक मंच है।