अवैध खनन पर पर रोक लगाने के लिए पुलिस व खनन विभाग मिलकर करेंगे दोहरी मार
September 22nd, 2019 | Post by :- | 277 Views

    (   लोकहित एक्सप्रेस )

   पलवल / प्रवीण आहूजा

जिले में खनन माफिया पर सख्ती से नकेल कसने के लिए अब पुलिस विभाग व खनन विभाग मिलकर खनन माफिया को रोकने का काम करेंगे। इससे पूर्व यह दोनों विभाग पहले अलग-अलग कार्रवाई किया करते थे जिस कारण खनन माफिया पर पूरी तरह से रोक लग नहीं पाई थी लेकिन आप दोनों विभाग के संयुक्त रूप से काम करने पर खनन माफिया पर खनन को रोकने के लिए सख्ती से कार्रवाई शुरू कर दी गई है ज्ञात हो कि उच्च न्यायालय ने यमुना नदी में रेत पर पूरी तरह से प्रतिबंध लगाया हुआ था बावजूद इसके खनन माफिया चोरी छुपे अपने निजी वाहनों से रेता भर के अन्य इलाकों में बेचने से बाज नहीं आ रहे थे ।खनन के दौरान खनन माफिया पुलिस पर हमला करने से नहीं चूकते थे जिसे लेकर कई बार बड़ी वारदातें हो चुकी हैं हालांकि पिछले छह माह में काफी हद तक अवैध खनन पर रोक लग पाई है लेकिन पुलिस ने खनन माफिया पर शिकंजा कसने के लिए कार्रवाई शुरू कर दी है जिसको लेकर प्रशासन काफी समय से इस मामले में सख्ती करने के लिए कार्रवाई की योजना बना रहा था लेकिन अब दोहरी मार पड़ने लगी है।

खनन माफिया पर दोहरी मार करते हुए पलवल पुलिस ने हाल ही में प्रदेश के मुख्यमंत्री द्वारा नियुक्त किए गए माइनिंग डायरेक्टर ऑफ आईपीएस अधिकारी अमिताभ ढिल्लों की कार्यशैली पर चलते हुए एक नई योजना तैयार की है पहले पुलिस खनन करने वाले वाहनों को जप्त करके एफ आई आर दर्ज कर कानूनी कार्रवाई कर दिया करती थी तथा आरोपी पर अदालती कार्रवाई करती थी अब नई योजना के तहत पुलिस अवैध खनन करने वाले वाहनों को जप्त कर रिपोर्ट लिखते हुए उन्हें माइनिंग विभाग के साथ अटैच करेगी। माइनिंग विभाग के द्वारा  गाड़ियों को सील कर उन पर जुर्माना लगाया जायेगा। पहली बार पकड़े जाने पर वाहन पर जुर्माने की राशि वाहन की पंजीकृत कीमत की आधी राशि होगी दूसरी बार यह 70 फ़ीसदी तथा तीसरी बार पकड़ा गया तो वाहन को जप्त कर लिया जाएगा और उसके खिलाफ सख्त कानूनी कार्रवाई भी की जाएगी । देखना यह है कि आने वाले समय में दोनों विभाग मिलकर किस तरह अवैध खनन पर रोक लगा पाते हैं अवैध खनन से सरकार के राजस्व में काफी घाटा हो रहा है।

 

 

कृपया अपनी खबरें, सूचनाएं या फिर शिकायतें सीधे editorlokhit@gmail.com पर भेजें। इस वेबसाइट पर प्रकाशित लेख लेखकों, ब्लॉगरों और संवाद सूत्रों के निजी विचार हैं। मीडिया के हर पहलू को जनता के दरबार में ला खड़ा करने के लिए यह एक सार्वजनिक मंच है।