बदलते परिवेश में देखा जाए तो कोरोना समूची दूनिया में महामारी का रूप धारण का चुका है। डाक्टरों की टीमें इसके संक्रमण को रोकने में भरकस प्रयास कर रही हैं। इन्हें अग्रिम पंक्ति के जांबाज योद्घा भी कहा गया है।
May 10th, 2021 | Post by :- | 148 Views

अम्बाला: अशोक शर्मा
जब भी किसी बीमारी का नाम आता है तो डाक्टरों का नाम जुबां पर आना स्वभाविक है। डाक्टर एक ऐसी ताकत है जो बीमारियों के फन कुचलने में उनके संक्रमण को रोकने में आगे आकर काम करती हैं।
अम्बाला का जिक्र करें तो पिछले एक वर्ष से भी अधिक समय से कोरोना हम सबके लिए एक चुनौती बना हुआ है। ऐसे में डाक्टर ही कोरोना की चुनौती को धराशाही करने के लिए अपने-अपने क्षेत्रों में अपनी-अपनी टीमों के साथ अग्रिम मोर्चे पर लड़ाई लड़ रहे हैं। कोरोना के विरूद्घ लडाई में सफाई कर्मी, पुलिस कर्मी, मीडिया, अन्य सम्बन्धित विभाग अपने-अपने क्षेत्र में अपनी उपस्थिति का एहसास करवा रहे हैं। जहां तक डाक्टरों और नर्सों का सवाल है इनका सीधे ही कोरोना से मुकाबला है। अपनी जान पर खेलकर ये सभी कोरोना को मात देने में लगे हैं। सरकार के निर्देशों की पालना करते हुए हर क्षेत्र में अपनी उपस्थिति का एहसास करवाए हुए है।
सिविल सर्जन डा0 कुलदीप सिंह का कहना है कि कोरोना के खिलाफ हमारी जंग निर्णायक दौर में है, हमारा प्रयास कोरोना को हराना है और इसके लिए हम भरकस प्रयत्न कर रहे हैं। बस जरूरत इस बात की है कि जनता सरकार द्वारा जारी नियमों की पालना करें तो यह जंग हमारे लिए आसान हो जायेगी। अब मास्क हमारा गहना बन गया है, इसे पहनकर हम कोरोना से बचे रहेंगे। हमें सामाजिक दूरी और सफाई का भी विशेष ध्यान रखना है। ऑक्सीजन मैनेजमैंट और ओवर आल रिपोर्टिंग के अधिकारी डा0 सुखप्रीत का कहना है कि समय बहुत टेढा चल रहा है, लेकिन हम भी कोरोना का फन कुचलने के लिए अपने प्रयासों में तेजी लाए हुए हैं। किसी को भी ऑक्सीजन की कमी न खले, इसके लिए जिला में ऑक्सीजन की प्रर्याप्त व्यवस्था के लिए काम जारी है। नागरिक अस्पताल अम्बाला शहर से ऑक्सीजन सप्लाई का काम शुरू हो चुका है। होम आईसोलेशन टीम के इंचार्ज डा0 राजेन्द्र राय ने कहा कि लोगों को होम आईसोलेशन के लिए प्रेरित किया जा रहा है। उनको टीम के सदस्यों द्वारा घर-घर जाकर दवाओं की किटें भी दी जा रही हैं। लोगों का रिस्पोंस भी अच्छा मिल रहा है, लेकिन फिर भी हमें सजग रहने की जरूरत है।
डा0 संगीता गोयल, एनएचएम ने कहा कि वर्तमान में देखा जाए तो कोरोना पीक पर है, लेकिन यह वक्त भी चला जायेगा, हम अपने प्रयास जारी रखे हुए हैं। समय-समय पर जो निर्देश मिलते है उनको कार्यरूम में परिणित करते रहते हैं। वैक्सीनेशन की मैडिकल ऑफिसर डा0 सुनिधि ने कहा कि सरकार की हिदायतों के अनुसार टीकाकरण जारी है। पहले 45 से उपर आयु वर्ग के लोगों को वैक्सीनेशन दी जा रही थी। अब 18 वर्ष की आयु से अधिक आयु वर्ग के युवा भी वैक्सीनेशन ले रहे हैं। आने वाले समय में अच्छे समय की उम्मीद की जा रही है। डा0 बलविन्द्र कौर ने कहा कि कुछ भी हो हमें कोरोना के खिलाफ जंग लडनी है और हम इसे हराकर ही दम लेंगे। पंजोखरा में तैनात डा0 जसविन्द्र कौर ने कहा कि डयूटी तो डयूटी होती है और इसका निर्वाह हम पूरी सजगता के साथ कर रहे हैं। कोरोना को हराना ही हमारा मुख्य लक्ष्य है। डा0 परविन्द्र, एएनएम रजनी, फार्मासिस्ट सुमन का कहना है कि हम अपनी डयूटी पूरे जज्बे और जनून के साथ कर रहे हैं। जनता के सहयोग के साथ कोरोना को पछाडकर ही दम लेेगें।

कृपया अपनी खबरें, सूचनाएं या फिर शिकायतें सीधे editorlokhit@gmail.com पर भेजें। इस वेबसाइट पर प्रकाशित लेख लेखकों, ब्लॉगरों और संवाद सूत्रों के निजी विचार हैं। मीडिया के हर पहलू को जनता के दरबार में ला खड़ा करने के लिए यह एक सार्वजनिक मंच है।