श्री श्याम लोकहित समिति ने मनाई महाराणा प्रताप की जयंती : समाजसेवी नरेश कौशिक
May 9th, 2021 | Post by :- | 93 Views

बहादुरगढ़ लोकहित एक्सप्रेस ब्यूरो चीफ (गौरव शर्मा)

गुभाना में श्री श्याम लोकहित समिति ने महाराणा प्रताप की जयंती पर पुष्प अर्पित किए गोपाल कृष्ण गोखले को भी किया याद गांव गुभाना स्थित प्रसिद्ध एवं समाजसेवी संस्था श्री श्याम लोकहित समिति के पदाधिकारियों ने महाराणा प्रताप व गोपाल कृष्ण गोखले की जयंती पर उन्हें याद करते हुए पुष्प अर्पित किए श्री श्याम पुस्तकालय में समिति के पदाधिकारियों कार्यकर्ताओं एवं ग्रामीणों ने उन्हें अपने श्रद्धा सुमन भेट करते हुए नमन किया इस अवसर पर समिति के अध्यक्ष नरेश कौशिक ने महाराणा प्रताप के जीवन परिचय पर प्रकाश डालते हुए बताया कि उनका जन्म 9 मई 1540 को मेवाड़ के उदयपुर में हुआ वे सिसोदिया राजपूत वंश के राजा थे जिनका नाम इतिहास में वीरता और दृढ़ प्रण के लिए अमर है उन्होंने अपने जीवन काल में कभी मुगलों की अधीनता स्वीकार नहीं की बल्कि मुगलों के साथ कई बार युद्ध करते हुए उन्हें मुंहतोड़ जवाब दिया और हराया युद्ध में हमेशा उनके साथ उनका सबसे प्रिय घोड़ा जिसका नाम चेतक था वह रहता था और वह हमेशा युद्ध में उनका साथ देता था इसके साथ ही नरेश कौशिक ने गोपाल कृष्ण गोखले के जीवन पर प्रकाश डालते हुए बताया कि गोपाल कृष्ण गोखले का जन्म 9 मई 1866 को महाराष्ट्र के कोल्हापुर में हुआ था वे एक भारतीय स्वतंत्रता सेनानी थे जिन्होंने देश की आजादी के लिए बहुत बड़ा योगदान दिया था उन्होंने बताया कि गोपाल कृष्ण गोखले एक भारतीय स्वतंत्रता सेनानी होने के साथ-साथ एक समाजसेवी विचारक एवं समाज सुधारक थे जिन्होंने समाज कल्याण हित में भी अनेकों कार्य कि वह उस समय के नरमपंथी दल से संबंध रखते थे और हिंसा के खिलाफ थे स्वतंत्रता सेनानियों के बीच उन्हें पाल नाम से जाना जाता था इस अवसर पर समिति के पदाधिकारी दुष्यन्त कौशिक , रामकुमार कौशिक , श्रीभगवान , प्रवीन कुमार, हिमांशू, भोला आदि सहित दर्जनों की संख्या में गणमान्य व्यक्ति उपस्थित रहे और सभी ने कोरोना नियमों की पालना करते हुए मुंह पर मास्क लगाकर 2 गज की दूरी रखते हुए बारी बारी उन्हें अपने श्रद्धासुमन भेंट किए

कृपया अपनी खबरें, सूचनाएं या फिर शिकायतें सीधे editorlokhit@gmail.com पर भेजें। इस वेबसाइट पर प्रकाशित लेख लेखकों, ब्लॉगरों और संवाद सूत्रों के निजी विचार हैं। मीडिया के हर पहलू को जनता के दरबार में ला खड़ा करने के लिए यह एक सार्वजनिक मंच है।