करसोग में गहराया पेयजल संकट, मूसलाधार बरसात की भेंट चढ़ी 84 पेयजल योजनाएं, पौने 2 करोड़ के नुक़सान का अनुमान ,
August 20th, 2019 | Post by :- | 180 Views

मंडी,करसोग (मोहन शर्मा):  करसोग में पिछले दो दिन हुई भारी बरिश लोगों पर कहर बनकर टूटी है।मूसलाधार  बारिश से आईपीएच विभाग की 84 पेयजल योजनाओं सहित 9 सिंचाई योजनाएं ध्वस्त हो गई है। जिससे कई क्षेत्रों में भरी बरसात में पेयजल संकट पैदा हो गया है। हालांकि विभाग ने कुछ पेजजल योजनाओं को  टेंपरेरी तौर पर शुरू करने का दावा किया है। उधर खड्डों में बारिश के कारण आई गाद से उठाऊ पेयजल योजनाएं भी प्रभावित हुई है। चुराग सब डिवीजन की बात करें तो अकेले यहां 12 उठाऊ पेयजल योजनाएं खड्डों में गाद आने के बाद बंद की गई है। इस कारण चुराग सहित अन्य क्षेत्रों में पिछले दो दिनों से लोगों  को पानी की सप्लाई नहीं दी गई है। इन सभी उठाऊ पेयजल योजनाओं से करीब 3 हज़ार घरों को पानी की आपूर्ति की जाती है। आईपीएच विभाग को बारिश से हुए नुकसान की रिपोर्ट फील्ड से प्राप्त हो गई है, जिसे अब सरकार भेजा गया है।

 

आईपीएच को पौने दो करोड़ का नुकसान:

करसोग में हुई भारी बारिश से जनजीवन पूरी  तरह से प्रभावित हुआ है। 16 और 17 अगस्त को हुई बारिश से आईपीएच विभाग को पौने दो करोड़ का नुकसान उठाना पड़ा है। इसमें पेयजल योजनाओं को 1.49 करोड़ और सिचाई  योजनाओं को 26 करोड़ का नुकसान हुआ है। आईपीएच को सभी सब डिवीजनों से रिपोर्ट प्राप्त हो गई है। कई जगहों पर तो खड्डों में बनी पेयजल योजनाओं को पानी का तेज बहाव अपने साथ उखाड़ कर ले गया। कुछ स्थानों में भूस्खलन के कारण पेयजल लाइनें टूट गई है। लोगों को अधिक दिनों तक पेयजल संकट से न जूझना पड़े इसके लिए विभाग ने टेंपरेरी तौर पर लाइनों को जोड़ने का कार्य शुरू कर गया

आईपीएच डिवीजन करसोग के अधीक्षक बलराम वर्मा का कहना है कि दो दिन की बारिश से आईपीएच को पौने दो करोड़ का नुकसान हुआ है। इसकी रिपोर्ट सरकार को भेजी गई है।

कृपया अपनी खबरें, सूचनाएं या फिर शिकायतें सीधे editorlokhit@gmail.com पर भेजें। इस वेबसाइट पर प्रकाशित लेख लेखकों, ब्लॉगरों और संवाद सूत्रों के निजी विचार हैं। मीडिया के हर पहलू को जनता के दरबार में ला खड़ा करने के लिए यह एक सार्वजनिक मंच है।