कलेक्टर ने बोरगांव, मसोरा, कुम्हारपारा के हॉटस्पॉटों एवं फरसगांव कोविड केयर सेंटर का किया दौरा
May 4th, 2021 | Post by :- | 40 Views

कोंडागांव(नरेश जैन)—-रविवार को कलेक्टर पुष्पेंद्र कुमार मीणा द्वारा फरसगांव स्थित कोविड केयर सेंटर का दौरा कर वहां की व्यवस्थाओं का निरीक्षण किया गया। इस दौरान कलेक्टर ने कोविड केयर सेंटर में मरीजों के लिए की गई व्यवस्थाओं को देखा तथा कोविड केयर सेंटर के कंट्रोल रूम में कार्यरत डॉक्टरों से कोविड केयर सेंटर में व्यवस्थाओं पर चर्चा की एवं नर्सिंग स्टाफ से भी व्यवस्थओं के संबंध में जाना एवं व्यवस्थाओं को बेहतर बनाने के लिए उनसे राय ली साथ ही सीसीटीवी द्वारा मरीजों की मॉनिटरिंग को देखा।
इसके पश्चात कलेक्टर ने विकासखंड फरसगांव स्थित कोरोना के हॉटस्पॉट स्थल बन चुके बोरगांव का दौरा किया। इस दौरान उन्होंने कंटेनमेंट जोन निर्माण एवं उनके अंदर व्यवस्थाओं के संबंध में अधिकारियों से चर्चा की। ज्ञात हो कि बोरगांव में अब तक 81 लोग कोरोना से संक्रमित पाए गए हैं। इस संबंध में विकासखण्ड चिकित्सा अधिकारी ने बताया कि अधिक गंभीर मरीजों को बेहतर इलाज के लिए कोविड हॉस्पिटल में रखा गया है एवं सभी की टेस्टिंग की जा चुकी है। इन मरीजों की बेहतर ईलाज के लिए उन्होंने निर्देशित किया। इसके अतिरिक्त उन्होंने कोण्डागांव विकासखण्ड में विवाहों में भीड़ द्वारा कोरोना फैलाव के कारण हॉटस्पॉट बने कुम्हारपारा एवं मसोरा का दौरा किया। यहां अधिकारियों द्वारा बताया गया कि अब तक सभी घरों में कोरोना जांच पूरी कर ली गयी है। ज्ञात हो कि कोरोना संक्रमितों को अलग-अलग अस्थायी आइसोलेशन व्यवस्थओं में रखा गया है ताकि कोरोना से संक्रमित हुए मरीजों को अन्य लोगों से अलग रखा जा सके। जिसके लिए मसोरा के मरीजों को साथी नामक संस्था के सहयोग से सखी सेंटर में अस्थाई आइसोलेशन सेंटर बना कर रखा गया है तथा कुम्हारपारा के 61 मरीजों को आईटीआई में अस्थाई आइसोलेशन सेंटर में रखा गया है। ऐसे व्यक्ति जो गंभीर थे उन्हें हॉस्पिटल में बेहतर ईलाज के लिए भेज दिया गया है। इस पर कलेक्टर द्वारा सभी कोरोना नेगेटिव मरीजों को भी संक्रमित होने से बचाने के लिए मसोरा एवं कुम्हारपारा में सभी लोगों को प्रोफाइल एक्सिस दवाइयां खिलाने के निर्देश दिए हैं।

कृपया अपनी खबरें, सूचनाएं या फिर शिकायतें सीधे editorlokhit@gmail.com पर भेजें। इस वेबसाइट पर प्रकाशित लेख लेखकों, ब्लॉगरों और संवाद सूत्रों के निजी विचार हैं। मीडिया के हर पहलू को जनता के दरबार में ला खड़ा करने के लिए यह एक सार्वजनिक मंच है।