हिंडौन के खेड़ा में राज्यस्तरीय क्रिकेट एवं सूरौठ में हाॅकी प्रतियोगिता का खाद्य मंत्री रमेश मीना ने किया उदघाटन: कहा- शरीर को स्वस्थ रखने के लिए खेलना बहुत जरूरी है जो बच्चे खेलते नहीं हैं उनकी आंखों पर बहुत कम उम्र में ही चश्में लग जाते हैं
September 21st, 2019 | Post by :- | 169 Views

हिंडौन सिटी,(सीताराम गर्ग)। गांव खेडा में राज्यस्तरीय क्रिकेट प्रतियोगिता एवं सूरौठ में हॉकी प्रतियोगिता का उदघाटन खाद्यमंत्री रमेश मीना ने किया। खेड़ा स्थित सौरव एजुकेशन कैंपस में शनिवार को ६४वीं राज्य स्तरीय क्रिकेट प्रतियोगिता के उद्घाटन समारोह के दौरान मुख्य अतिथि के रूप में खिलाडियों को संबोधित करते हुए खाद्य एवं नागरिक आपूर्ति मंत्री रमेश मीणा ने जीवन में खेलों के महत्व पर प्रकाश डालते हुए कहा कि अगर स्वस्थ रहना है तो खेल जैसी गतिविधियों में भाग लेना जरूरी है। साथ ही खेल से शारीरिक व मानसिक विकास होने की भी बात कही।
उदघाटन समारोह के दौरान मुख्य अतिथि के रूप में उपस्थित खाद्य एवं नागरिक आपूर्ति मंत्री मीणा ने विभिन्न जिलों से आई टीमों की ओर से दी गई मार्च पास्ट की सलामी ली। इसके बाद प्रतियोगिता के ध्वज को चढाकर विधिवत उदघाटन की घोषणा की। इस दौरान उन्होंने संबोधित करते हुए कहा कि शिक्षा विभाग की ओर से आयोजित खेल प्रतियोगिताएं खिलाडियों को आगे बढ़ने का अवसर प्रदान करती हैं। वहीं खेलों से विद्यार्थी को स्वस्थ बनाकर उसे शिक्षा के क्षेत्र में भी आगे बढ़ाने मदद मिलती है। उन्होंने कहा कि जिस तरह जीवन में शिक्षा भी जरूरी है उसी तरह खेल भी बहुत जरूरी है। विद्यार्थी खेल और शिक्षा दोनों को अपने जीवन का महत्वपूर्ण हिस्सा मानकर बराबर महत्व देते हुए आगे बढ़े। इस दौरान उन्होंने संबोधित करते हुए कहा कि खेल प्रतिभाओं को तराशने का काम कर रहे खेल प्रशिक्षक व शारीरिक शिक्षक अपना कार्य मेहनत व ईमानदारी से करें। जिससे क्षेत्र की खेल प्रतिभाओं को आगे बढ़ने का अवसर मिले और खेल जगत में क्षेत्र का नाम रोशन हो। उन्होंने खेल भावना को आगे बढ़ाने की बात भी कही जिसमें क्रिकेट के इतिहास पर प्रकाश डालते हुए कहा कि जब १९८३ में विश्वकप जीतकर क्रिकेट का सिरमौर बनने के बाद भारतीय टीम ने पूरे दुनिया में क्रिकेट का सरताज बनने का सौभाग्य प्राप्त हुआ। उसके बाद से देश में क्रिकेट के प्रति रुचि और ज्यादा बढ़ गई आज पूरे दुनिया में भारतीय क्रिकेट टीम अपना विशिष्ट स्थान रखती है। इसी दौरान उन्होंने क्रिकेट जगत के सम्राट सचिन तेंदुलकर और महेंद्र सिंह धोनी की खिलाडियों से प्रेरणा लेकर आगे बढ़कर इस दुनिया में क्षेत्र का नाम रोशन करने की बात कही। इस अवसर पर उन्होंने खिलाडियों को और खेल प्रेमियों को आश्वासन देते हुए यह भी कहा कि राजस्थान के मुख्यमंत्री अशोक गहलोत से मिलकर खेलों को विशेष महत्व देने के मामले को लेकर चर्चा कर चुके हैं और जैसे ही कैबिनेट की बैठक होगी उसमें खेलों के आयोजन में खिलाडियों के बजट में बढ़ोतरी करने का प्रस्ताव लिया जाएगा। वहीं खिलाडियों को विभिन्न सरकारी नौकरियों में विशेष कोटा देने की बात कही। इसी दौरान करौली विधायक लाखन सिंह मीणा ने अपने संबोधन में सौरव कैंपस के प्रबंधन को धन्यवाद ज्ञापित करते हुए कहा कि शिक्षा विभाग की ओर से आयोजित होने वाले खेल व अन्य गतिविधियों में जिस तरह सक्रिय रुप से सहयोग किया जाता है। उसके लिए सौरव कैंपस के सभी पदाधिकारी और सदस्य धन्यवाद के पात्र हैं। वहीं उन्होंने खेल को खेल की भावना से खेलकर अपने लक्ष्य की ओर आगे बढ़ने की नसीहत दी। इसी दौरान विधायक भरोसी लाल जाटव ने भी खिलाडियों को संबोधित करते हुए वैमनस्यता से दूर रहकर खेल मैदान में उतरने की बात कही। इसी दौरान पूर्व प्रधान व राजस्थान दिल्ली एजुकेशन सोसायटी के चेयरमैन कृपाल सिंह मीणा ने अपने संबोधन में कहा कि जिस गांव के विद्यालय में उन्होंने जीवन की प्रारंभिक शिक्षा ग्रहण की और उसकी माटी में खेलकर बड़े हुए आज उसी गांव के विद्यालय की ओर से आयोजित होने वाले राज्य स्तरीय प्रतियोगिता का आयोजन करने का जो ने सौभाग्य प्राप्त हुआ है उससे वे गौरवान्वित है। इस दौरान उन्होंने सभी खिलाडियों व प्रशिक्षकों सहित कैंपस में उपस्थित सभी लोगों के लिए भोजन व्यवस्था करने की घोषणा की। इसी दौरान जिला शिक्षा अधिकारी भरत लाल मीणा ने प्रतिवेदन पढ़ते हुए बताया कि जिले के सभी ३३ जिलों के अलावा जयपुर द्वितीय व सादुल स्पोट्र्स स्कूल बीकानेर से भी खिलाडियों की टीम उपस्थित हुई है। इस तरह कुल ३५ टीमों के ५५४ खिलाड़ी इस प्रतियोगिता में भाग ले रहे हैं। जिनके साथ ७८ दल प्रभारी जलाधि पति व प्रशिक्षक उपस्थित हुए हैं। प्रतियोगिता के सफल संचालन के लिए २७ सारे शिक्षक २५ प्रधानाचार्य व्याख्याता, वरिष्ठ अध्यापकों को विभाग की ओर से नियुक्त किया गया है। २६ सितंबर तक आयोजित होने वाली इस प्रतियोगिता के संचालन के लिए चार खेल मैदानों की व्यवस्था की गई है। इसी दौरान शारीरिक शिक्षा के उप जिला शिक्षा अधिकारी मानसिंह मीणा ने उद्घाटन कार्यक्रम के बाद आयोजित होने वाले मैचों की घोषणा की। जिसमें बताया कि जालौर व नागौर के बीच, बूंदी व राजसमंद के बीच, बांरा व दौसा के बीच, प्रतापगढ व सवाईमाधोपुर के बीच, झूंझुनू व चूरू के बीच कुल पांच मैचे खेल जावेंगे। कार्यक्रम का संचालन शारीरिक शिक्षक प्रियाकांत बेनीवाल और वेदरत्न जैमिनी ने किया। वहीं प्रतियोगिता के आयोजन में शारीरिक शिक्षा के व्याख्याता मुरारीलाल शाक्यवार, महेंद्र गौतम, योगेंद्र सिंह, अटल भारद्वाज, अनिल भारद्वाज, ओमप्रकाश जाट, देवीसहाय शर्मा, उत्तम सिंह, कुंवर सिंह आदि ने व्यवस्थाओं में सहयोग दिया।

कृपया अपनी खबरें, सूचनाएं या फिर शिकायतें सीधे editorlokhit@gmail.com पर भेजें। इस वेबसाइट पर प्रकाशित लेख लेखकों, ब्लॉगरों और संवाद सूत्रों के निजी विचार हैं। मीडिया के हर पहलू को जनता के दरबार में ला खड़ा करने के लिए यह एक सार्वजनिक मंच है।