स्व. राधेश्याम कालडा के निधन पर श्रद्धांजली सभा का आयोजन
April 8th, 2021 | Post by :- | 43 Views

होडल, (मधुसूदन भारद्वाज): पुरानी जी टी रोड स्थित गोविंदम पैलेस में बुधवार को भाजपा के वरिष्ठ नेता रहे स्व. राधेश्याम कालड़ा के निधन पर श्रद्धांजलि सभा का आयोजन किया गया, जिसमें विभिन्न पार्टियों के राजनेताओं, व्यापारियों ,दर्जनों सामाजिक एवं शिक्षण संस्थाओं के पदाधिकारियों व प्रबंधकों ने हिस्सा लिया और स्व. राधेश्याम कालड़ा की तस्वीर पर पुष्प अर्पित कर उन्हें श्रद्धांजलि दी। श्रद्धांजलि सभा में स्वामी धर्मदेव महाराज, स्वामी श्रद्धानंद महाराज, विधायक जगदीश नायर, पूर्व मंत्री सुभाष कत्याल,पूर्व विधायक उदयभान,डा हरेंद्रपाल राणा,नगर परिषद् की अध्यक्षता आशा रानी तायल,राजकुमार तायल, प्रवीण ग्रोवर, वीरपाल दीक्षित, उदयसिंह सौरोत,देवेन्द्र सौरोत, ताहिर हुसैन,जगमोहन गोयल, राजेंद्र पहलवान,हरीशचंद् गर्ग, डा नवीन रोहिल्ला, विष्णु गौड़, बृजेश शर्मा, योगेश सौरोत, रूपा ठुकराल, नवीन कत्याल, श्याम कालड़ा,पुनीत कालड़ा,मोहित कालड़ा, प्रेम कालड़ा, रमनलाल कालड़ा सहित कोसीकला , नूंह, पुनहाना,फिरोजपुर झिरका, रेवाड़ी,पलवल,रेवाडी,फरीदाबाद, दिल्ली के अलावा कई अन्य शहरों के सैकड़ों व्यापारियों ने स्व. कालड़ा की तस्वीर पर पुष्प अर्पित कर उन्हें श्रद्धांजलि अर्पित की। इस अवसर पर विधायक जगदीश नायर ने कहा कि स्वर्गीय राधेश्याम कालडा पार्टी के कर्मठ एवं जुझारू नेता रहे। वह राजनीति के साथ-साथ समाज सेवा के कार्य में सबसे आगे रहते थे। उनके निधन से समाज और राजनीति को जो क्षति हुई है,उसे कभी पूरा नहीं किया जा सकता। उन्होंने स्व. कालडा के परिवार को ढांढस बंघाया और उनके द्वारा छोडे गए कार्यों को पूरा करने का आह्वान किया। सभा में स्वामी श्रद्धानंद महाराज ने कहा कि जिस प्रकार स्व. राधेश्याम कालडा के माता पिता ने उन्हें अच्छे संस्कार दिए,उसी प्रकार अन्य लोगों को भी अपने बच्चों को अच्छे संस्कार देने चाहिएं ताकि वह समाजसेवा के कार्यों में बढचढकर हिस्सा ले सकें। सभा में स्वामी धर्मदेव ने कहा कि राधेश्याम कालड़ा ओर उनके परिवार से उनका आत्मिक रिश्ता है। कालडा ने अपना पूरा जीवन समाज सेवा के कार्यों में व्यतीत किया।

कृपया अपनी खबरें, सूचनाएं या फिर शिकायतें सीधे editorlokhit@gmail.com पर भेजें। इस वेबसाइट पर प्रकाशित लेख लेखकों, ब्लॉगरों और संवाद सूत्रों के निजी विचार हैं। मीडिया के हर पहलू को जनता के दरबार में ला खड़ा करने के लिए यह एक सार्वजनिक मंच है।