13 से 21 अप्रैल 2021 तक आयोजित होने वाले चै़त्र नवरात्र मेला के सफल आयोजन को लेकर उपायुक्त श्री मुकुल कुमार ने प्रबंधों की समीक्षा की।
April 7th, 2021 | Post by :- | 43 Views

पंचकूला।(मनीषा) आगामी 13 से 21 अप्रैल 2021 तक श्री माता मनसा देवी मंदिर पंचकूला व काली माता मंदिर कालका में आयोजित होने वाले चै़त्र नवरात्र मेला के सफल आयोजन को लेकर आज जिला सचिवालय के सभागार में उपायुक्त एवं श्री माता मनसा देवी श्राईन बोर्ड के मुख्य प्रशासक श्री मुकुल कुमार की अध्यक्षता में एक बैठक आयोजित की गई।
बैठक में निर्णय लिया गया कि कोविड-19 के बढ़ते मामलों के मद्देनजर सीमित संख्या में ही श्रद्धालुओं को माता के दर्शन की अनुमति प्रदान की जायेगी। श्री माता मनसा देवी मंदिर पंचकूला में 15 मिनट में 180 के हिसाब से श्रद्धालु दर्शन कर सकेंगे जबकि काली माता मंदिर कालका में 15 मिनट में 120 श्रद्धालुओं के दर्शन करने की व्यवस्था की जायेगी। इसके अलावा जो श्रद्धालु माता मनसा देवी मंदिर में लिफ्ट एंट्री के माध्यम से प्रेफरेंशियल दर्शन करने के इच्छुक है, वे 50 रुपये प्रति श्रद्धालु आॅन लाईन रजिस्ट्रेशन करवा सकते है। श्रद्धालु एक साथ अधिकतम 10 व्यक्तियों का रजिस्ट्रेशन करवाया सकता है। हालांकि फिलहाल एक घंटे में लिफ्ट द्वार के माध्यम से 100 श्रद्धालुओं के दर्शन की व्यवस्था की गई है।
बैठक में यह भी निर्णय लिया गया कि पिछले वर्ष की भांति इस वर्ष भी श्राईंन बोर्ड द्वारा माता के दर्शन के लिये ई-टोकन की व्यवस्था की गई है। टोकन प्राप्त करने के लिये इच्छुक श्रद्धालुओं को केवल बोर्ड की वैब साईट
 www.mansadevi.org.in   पर साधारण सी जानकारी उपलब्ध करवानी होगी, जिसके तुरंत पश्चात उनके मोबाईल नंबर पर एक ई-टोकन भेजा जायेगा, जिसे दिखाकर वे माता के दर्शन कर सकेंगे।
उपायुक्त एवं श्री माता मनसा देवी श्राईन बोर्ड के मुख्य प्रशासक श्री मुकुल कुमार ने कहा कि श्री माता मनसा देवी में लोगों की आस्था को देखते हुए कोविड-19 के दिशा-निर्देशा का पालन करते हुए मेले का आयोजन किया जा रहा है। उन्होंने कहा कि मेले के दौरान माता के दर्शन को छोड़कर भंडारा, सांस्कृतिक कार्यक्रम व मनोरंजन जैसी गतिविधियां पूर्ण रूप से प्रतिबंधित रहेगी। इसके अलावा मंदिर परिसर में सड़क किनारे लगने वाली प्रसाद व अन्य सामान की दुकानों को भी अनुमति नहीं दी जायेगी। उन्होंने बताया कि बोर्ड द्वारा श्रद्धालुओं के लिये रियायती दामों पर 100 और 50 रुपये में प्रसाद की व्यवस्था की जायेगी।
श्री मुकुल कुमार ने लोगों से अपील की है कि वे कोविड-19 महामारी को ध्यान में रखते हुए माता के दर्शन करते समय कोविड-19 नियमों व दिशा निर्देशों जैसे सामाजिक दूरी, मास्क व सेनीटाईजर का प्रयोग अवश्य करें। उन्होंने कहा कि श्राईंन बोर्ड द्वारा श्रद्धालुओं के लिये माता के लाईव दर्शन की भी व्यवस्था की गई है। वे फेसबुक पेज जय माता मनसा देवी और यूट्यूब के माध्यम से माता के लाईव दर्शन कर सकेंगे।
उपायुक्त ने नगर निगम के कार्यकारी अधिकारियों को निर्देश दिये कि वे श्री माता मनसा देवी पंचकूला व काली माता मंदिर कालका में प्रतिदिन फोगिंग, सेनीटाईजेशन और समुचित साफ-सफाई की व्यवस्था सुनिश्चित करेंगे। उन्होंने ये भी निर्देश दिये कि मेले के दौरान आने वाले श्रद्धालुओं के लिये पर्याप्त संख्या में मोबाईल शौचालयों की व्यवस्था भी की जाये। इसके अलावा सीएमओ पंचकूला मेले के दौरान सभी दिन चैबीस घंटे पर्याप्त संख्या में मैडिकल टीम की व्यवस्था सुनिश्चित करेंगे।
श्री मुकुल कुमार ने पुलिस विभाग के अधिकारियों को निर्देश दिये कि वे मेले के दौरान श्रद्धालुओं की सुविधा को ध्यान में रखते हुए पर्याप्त कानून एवं व्यवस्था सुनिश्चित करें। उन्होंने कहा कि मेले के दौरान कड़ी सुरक्षा की दृष्टि से अतिरिक्त संख्या में सीसीटीवी कैमरे लगाये जायें ताकि असामाजिक तत्वों पर निगरानी रखी जा सके। इसके लिये उन्होंने पुलिस अधिकारियों को ऐसी जगहों की पहचान करने के निर्देश दिये, जहां ये सीसीटीवी कैमरे लगाये जाने की आवश्यकता है। उन्होंने कहा कि मेले के दौरान वाहनों की पार्किंग की समुचित व्यवस्था रेडक्राॅस सोसायटी के माध्यम से की जायेगी।
इस अवसर पर एसडीएम पंचकूला रिचा राठी, एसडीएम कालका राकेश संधु, नगराधीश सिमरनजीत कौर, सीएमओ जसजीत कौर, एसीपी पंचकूला उमेद सिंह, नगर निगम पंचकूला के कार्यकारी अधिकारी राजन मित्तल व कालका की कार्यकारी अधिकारी निशा शर्मा, श्री माता मनसा देवी श्राईंन बोर्ड की सचिव श्रीमती शारदा प्रजापति, माता मनसा देवी श्राईन बोर्ड के मुख्य कार्यकारी एमएस यादव, काली माता मंदिर के सचिव श्री पृथ्वीराज सहित संबंधित विभागों के अधिकारी उपस्थित थे।

कृपया अपनी खबरें, सूचनाएं या फिर शिकायतें सीधे editorlokhit@gmail.com पर भेजें। इस वेबसाइट पर प्रकाशित लेख लेखकों, ब्लॉगरों और संवाद सूत्रों के निजी विचार हैं। मीडिया के हर पहलू को जनता के दरबार में ला खड़ा करने के लिए यह एक सार्वजनिक मंच है।