देहाती पुलिस द्वारा 22 पैकेट हेरोइन ,2 ए के 47समेत 4 मैगज़ीन और 45 ज़िंदा रौंद ,एक मोबाइल फोन एक प्लास्टिक और पाकिस्तान करंसी बरामद हुई ।
April 7th, 2021 | Post by :- | 111 Views
देहाती पुलिस द्वारा 22 पैकेट हेरोइन ,2 ए के 47 समेत 4 मैगज़ीन और 45 ज़िंदा रौंद , एक मोबाइल फोन ,एक प्लास्टिक और पाकिस्तान करंसी बरामद ।
जंडियाला गुरु कुलजीत सिंह
एस एस पी देहाती ध्रुव दहिया द्वारा समाज के विरोधी अनसरों के खिलाफ विशेष मुहिम चलाई गई है। देहाती पुलिस द्वारा जुर्म करने वालों के खिलाफ जीरो टॉलरेंस  नीति अपनाई जा रही है।
एस एस पी देहाती को गुप्त सूचना मिली थी कि कुछ अज्ञात पाकिस्तान स्मगलरों द्वारा बी ओ पी कक्कड़ थाना लोपोके के नज़दीक से हेरोइन लाकर और हथियारों की खेप भारतीय स्मगलरों को करनी थी ।इस पर एस एस पी देहाती द्वारा तुरंत एक्शन लेते हुए एक विशेष टीम तैयार की गई ,जिसमें गुरविंदरपाल सिंह डी एस पी (डी)और अभिमन्यु राणा ए सी पी मजीठा शामिल थे ।या टीम की अगुवाई एस एस पी देहाती द्वारा खुद की गई और इस टीम द्वारा मुखबर की बताई हुई जगह पर बी एस एफ के साथ सांझा ऑपरेशन चलाया गया। इसमें एक पाकिस्तानी स्मगलर मारा गया ,जिससे 22 पैकेट हेरोइन ,ए के 47 राइफल समेत 4 मैगजीन और 45 ज़िंदा रौंद ,एक मोबाइल फोन ,एक प्लास्टिक पाइप और 210 पाकिस्तान करंसी बरामद की गई ।इस मामले में थाना लोपोके में 21 ,23 ,27 ए 29 /61 /85 एन डी पी एस एक्ट  और 25 ,27 ,54 ,59 आर्म्स एक्ट  के तहत दर्ज किया गया। जांच में यह बात सामने आई है कि उक्त पाकिस्तान स्मगलर के सबंध में जगदीश भूरा और जसपाल सिंह पुत्र करतार सिंह निवासी गट्टी राजोके जिला गुरदासपुर के साथ पाए गए हैं। जगदीश भूरा जो कि इस समय बेल्जियम में है और भारत विरोधी आंतकवाद गतिविधियों में शामिल रहा है और जसपाल सिंह के पाकिस्तान के खुफिया एजेंसी आई एस आई के साथ सबंध है और वह पाकिस्तान से हेरोइन और हथियार लाकर भारतीय स्मगलरों को सप्लाई करता है। इसके खिलाफ पहले भी थाना एन डी पी एस एक्ट के तहत मामला फिरोजपुर में दर्ज है। उन्होंने ने बताया कि पाकिस्तान व्यक्ति के अन्य भारतीय लिंको को गहराई से खंगाला जा रहा है। यह पता लगाने की कोशिश की जा रही है कि यह खेप किसके लिए आई थी और इसका इस्तेमाल क्या किया जाना था। पुलिस को इस मामले में बड़े खुलासे होने की उम्मीद है।

कृपया अपनी खबरें, सूचनाएं या फिर शिकायतें सीधे editorlokhit@gmail.com पर भेजें। इस वेबसाइट पर प्रकाशित लेख लेखकों, ब्लॉगरों और संवाद सूत्रों के निजी विचार हैं। मीडिया के हर पहलू को जनता के दरबार में ला खड़ा करने के लिए यह एक सार्वजनिक मंच है।