खण्ड शिक्षाधिकारी जमुनहा अखिलेश यादव ने उच्च प्राथमिक व प्राथमिक विद्यालय परसोहना में औचक निरीक्षण किया।
September 20th, 2019 | Post by :- | 117 Views

श्रावस्ती,(नितिश कुमार तिवारी)

खण्ड शिक्षाधिकारी जमुनहा अखिलेश यादव ने उच्च प्राथमिक व प्राथमिक विद्यालय परसोहना में औचक निरीक्षण किया।

किसी कक्षा में ब्लैक बोर्ड, मारकर न होने पर नारजगी दिखाई वही हर कमरो में ब्लैकबोर्ड की व्यवस्था 3दिनों में करे।

प्राथमिक विद्यालय में रिक्त कक्ष 4 व उच्च प्राथमिक के 4 कमरे व बरामदे में टायल लगवाने को कहा। जिसपर ग्राम प्रधान इंद्रपाल वर्मा ने बताया कई दिनों बाद कार्य करूंगा।

एमडीएम चेक किया जो एमडीएम चूल्हे पर बना देखा जो प्रधान बताया गैस बुद्ववार को खत्म हुआ है आज गैस एजेंसी से मंगवाने भेजा है आ रहा होगा। मिन्यू के हिसाब से रोटी सब्जी बनना था वही चावल सब्जी बना इस पर बेईओ ने सख्त निर्देश दिया एमडीएम मिन्यू के हिसाब से बनना चाहिए।

बच्चो की नामांकन के हिसाब से बच्चे कम मिले उच्च प्राथमिक में 98 के सापेक्ष 30 बच्चे उपस्थिति मिले वही प्राथमिक विद्यालय में 155 के सापेक्ष 69 बच्चे रहे जिस पर बीईओ ने 3 दिनों में अभिभावकों से मिलकर 80 प्रतिशत बच्चो को उपस्थिति करें

अन्यथा 3 दिनों में सुधार नही हुआ बेतन रोकने की निर्देश जारी करूँगा। बच्चो की गुणवत्ता में जांची में कक्षा सात के विकास सोनी ने 18 तक का पहाड़ा पढ़कर सुनाया।

प्रधान शिक्षक बाबादीन, सहायक शिक्षक रमेश कुमार यादव, व्योम सहायक शिक्षक मेडिकल पर छुट्टी पर है।, शिक्षा   निर्मला सिंह व सन्तराम आदि उपस्थिति रहे।

वही प्राथमिक विद्यालय मनकौरा में मुकेश कुमार सहायक शिक्षक, सहायक शिक्षक योगेश कुमार व शिक्षमित्र रेनू सिंह उपस्थिति रहे। वही नामांकन 88 के सापेक्ष 42 बच्चे उपस्थिति मिले।एमडीएम लकड़ी के चूल्हे में बना है जो प्रधान ने बताया बुद्ववार को गैस खत्म हुआ है वही शुक्रवार को गैस पर एमडीएम बनेगा।

मेन्यू के हिसाब से रोटी सब्जी बनना था वही चावल सब्जी बना मिला और फल,दूध वितरण किया जा रहा था। अधिकांश बच्चे ड्रेस में नही मिले, एमडीएम के द्वारा भोजन खाने पर साबुन से हाथ धोकर तौलिया से पोछे जो विद्यालय में न साबुन न ही तौलिया मिला और कम बच्चो को अधिक से अधिक उपस्थिति करें।

कृपया अपनी खबरें, सूचनाएं या फिर शिकायतें सीधे editorlokhit@gmail.com पर भेजें। इस वेबसाइट पर प्रकाशित लेख लेखकों, ब्लॉगरों और संवाद सूत्रों के निजी विचार हैं। मीडिया के हर पहलू को जनता के दरबार में ला खड़ा करने के लिए यह एक सार्वजनिक मंच है।