प्राधिकरण द्वारा द लिविंग स्टार अभियान के अन्तर्गत विशेष कानूनी जागरूकता शिविर का आयोजन |
September 20th, 2019 | Post by :- | 29 Views

हसनपुर पलवल (मुकेश वशिष्ट) :- जिला विधिक सेवाएँ प्राधिकरण के तत्वावधान में माननीय जिला एवं सत्र न्यायाधीश एंव चेयरमैन अशोक कुमार वर्मा व माननीय मुख्य न्यायिक मजिस्ट्रेट एंव सचिव पीयूष शर्मा के मार्गदर्शन में आज राजकीय वरिष्ठ माध्यमिक विद्यालय बाल पलवल में मानसिक दिव्यांगों के अधिकारों के संरक्षण के लिए द लिविंग स्टार अभियान के अन्तर्गत विशेष कानूनी जागरूकता शिविर का आयोजन पैनल अधिवक्ता जगत सिंह रावत व इंद्रजीत पीएलवी द्वारा किया गया ।

जागरूकता शिविर में अध्यक्षता प्रधानाचार्य एंव समन्वयक दिव्यांग बच्चों के लिए समावेशी शिक्षा विभाग राजवीर सिंह व मंच संचालन डी पी रविंद्र द्वारा किया गया।

शिविर में पैनल अधिवक्ता जगत सिंह रावत ने छात्रों व दिव्यांगों को द लिविंग स्टार अभियान के बारे में जागरूक किया। उन्होंने मानसिक रूप से दिव्यांग एंव मानसिक रूप से बीमार व्यक्तियों को कानूनी सेवाएं नालसा योजना तथा मानसिक स्वास्थ्य अधिनियम 1987 के विशेष प्रावधानों के बारे में भी जानकारी प्रदान की । उन्होंने नाबालिग बच्चों, महिलाओं, बुजुर्गों, दिव्यांगों, श्रमिकों, पीडितों, संबंधी विशेष संवैधानिक अधिकारों के बारे में जागरूक किया।

उन्होंने कहा कि मानसिक दिव्यांग सरकारी हस्पताल से असमर्थता प्रमाण-पत्र जारी करवा सकते हैं, असमर्थता प्रमाण-पत्र के आधार पर निशक्त पैंशन व छात्रवृत्ति योजना का लाभ, कृत्रिम अंग लगवाने का लाभ प्राप्त कर सकते हैं। मानसिक दिव्यांग के साथ घरेलू हिंसा व संबंधित सुविधाओं से वंचित करना, यौन शोषण, भेदभाव करना, अपमानजनक व्यवहार करना कानूनी अपराध है। उन्होंने बताया कि समाज में कहीं भी लावारिस मानसिक दिव्यांग देखते ही, संबंधित पुलिस थाना या पुलिस चौकी में सूचित कर सकते हैं। पुलिस अधिकारी के कर्तव्य हैं, कि उस मानसिक दिव्यांग को चिकित्सा सहायता, काउंसलिंग, दिव्यांग के परिजनों को ढूंढने का प्रयास, इलाका मजिस्ट्रेट के सम्मुख पेश करना आदि सुविधाएं प्रदान करवाएंगे।

मानसिक दिव्यांग को प्राधिकरण से मुफ्त कानूनी सहायता प्राप्त करने का अधिकार भी प्राप्त है। उक्त अभियान का उद्देश्य मानसिक दिव्यांगों की पहचान करके, उन्हें विभिन्न सरकारी कल्याणकारी योजनाओं का लाभ प्रदान करवाना है। शिविर के माध्यम से एक मानसिक दिव्यांग की पहचान की गयी। उन्होंने प्राधिकरण की हेल्पलाइन नंबर 01275 298003, महिला हेल्प लाइन 1091, बाल हेल्पलाइन 1098, पुलिस हेल्पलाइन 100 के बारे में भी जानकारी प्रदान की।

शिविर में प्रधानाचार्य राजवीर सिंह व शारदा पाराशर शिक्षिका ने भी विचार व्यक्त किए। शिविर में प्रधानाचार्य एंव समन्वयक  दिव्यांग बच्चों के लिए समावेशी शिक्षा विभाग से रजनीकांत सिंह, अनिल शर्मा, विनोद कुमार शर्मा, यशवीर सिंह व स्कूल के जगदीश गुप्ता, धर्मवीर, बने सिंह, प्रीतम सिंह, गोपी चंद, राजवीर शर्मा, मुकेश कुमार, सूरजमल डागर, भरत सिंह डागर आदि शिक्षकगण सहित करीब एक हजार छात्रों ने भाग लिया।

कृपया अपनी खबरें, सूचनाएं या फिर शिकायतें सीधे editorlokhit@gmail.com पर भेजें। इस वेबसाइट पर प्रकाशित लेख लेखकों, ब्लॉगरों और संवाद सूत्रों के निजी विचार हैं। मीडिया के हर पहलू को जनता के दरबार में ला खड़ा करने के लिए यह एक सार्वजनिक मंच है।