कृषि विभाग के कर्मचारी के लिए कृषि तथा कल्याण विभाग द्वारा एक दिवसीय प्रशिक्षण शिविर का आयोजन किया गया।
March 6th, 2021 | Post by :- | 64 Views

अम्बाला:अशोक शर्मा
ई-गिरदावरी विषय को लेकर शनिवार पंचायत भवन के सभागार में जिला अम्बाला के ग्राम सचिव, कैनाल पटवारी, कृषि विभाग के कर्मचारी के लिए कृषि तथा कल्याण विभाग द्वारा एक दिवसीय प्रशिक्षण शिविर का आयोजन किया गया। इस मौके पर प्रैजेन्टेशन के माध्यम से उपस्थित सभी को ई-गिरदावरी के कार्य को किस प्रकार करना है उस बारे विस्तार से जानकारी दी गई।
कृषि विभाग के उपनिदेशक डॉ गिरीश नागपाल ने उपस्थित कर्मचारियों को सम्बोधित करते हुए बताया कि राजस्व विभाग के पटवारियों द्वारा ई-गिरदावरी का कार्य जिले में किया गया है और उसे ऑनलाईन भी दर्ज कर लिया गया हैं। सरकार के दिशा निर्देशानुसार ई-गिरदावरी विषय को लेकर राजस्व विभाग के पटवारियों द्वारा जो यह कार्य किया गया है, नम्बरदार, ग्राम सचिव, कैनाल पटवारी बेहतर समन्व्य के साथ उस गिरदावरी का पुन:रीक्षण का कार्य करें। उन्होंने कहा कि यह कार्य इसलिये किया जा रहा है कि राजस्व पटवारियों द्वारा किसानो ने जो भूमि जोत के लिये दर्शाई है, वही गिरदावरी में दर्ज है, इसका आंकलन करना है। उन्होंने बताया कि जिले में इस कार्य को 12 मार्च तक शत प्रतिशत सुनिश्चित करना हैं। इसी के लिए आज इस प्रशिक्षण कार्यक्रम का आयोजन किया गया हैं। बैठक के दौरान सम्बधिंत कर्मचारियों द्वारा इस विषय को लेकर जो उनकी शंकाएं थी उन्हें भी दूर करने का काम किया गया।
बैठक में गिरीश नागपाल ने यह भी बताया कि सम्बधिंत कर्मचारियों को उनकी पोस्टिंग के स्थान के अनुसार गांव आबंटित कर इस कार्य को करने के निर्देश दिए गए हैं। इसलिए सभी कर्मचारी बेहतर समन्व्य के साथ इस कार्य को करना सुनिश्चित करें और प्रतिदिन किए जाने वाले गिरदावरी की रिपोर्ट उप कृषि निदेशक कार्यालय में देना सुनिश्चित करें, ताकि यह रिपोर्ट उपायुक्त के माध्यम से मुख्यालय को भिजवाई जा सकें। उन्होनें यह भी कहा कि इस विषय से जुड़े सम्बधिंत कर्मचारी व अधिकारी निर्धारित मापदण्डों के तहत समय अवधि के तहत इस कार्य को करें। बैठक में एएसओ मनजीत कौर, एसडीओ रोशन लाल, एसडीओ विरेन्द्र कुमार, आईटी कर्मचारी मनदीप के साथ-साथ सम्बधिंत विभाग के अधिकारीगण मौजूद रहें।

कृपया अपनी खबरें, सूचनाएं या फिर शिकायतें सीधे editorlokhit@gmail.com पर भेजें। इस वेबसाइट पर प्रकाशित लेख लेखकों, ब्लॉगरों और संवाद सूत्रों के निजी विचार हैं। मीडिया के हर पहलू को जनता के दरबार में ला खड़ा करने के लिए यह एक सार्वजनिक मंच है।