हरियाणा पुलिस ने एक बार फिर बढाया प्रदेश का मान, दुर्गा शक्ति ऐप फिर राष्ट्रीय स्तर पर सम्मानित, मुम्बई में मिला आईटी उत्कृष्टता पुरस्कार
September 19th, 2019 | Post by :- | 129 Views

चंडीगढ़, ( महिन्द्र पाल सिंहमार ) ।     हरियाणा पुलिस की ‘दुर्गा शक्ति ऐप‘ को केवल 18 दिनों के अंतराल के बाद एक बार फिर महिलाओं की सुरक्षा सुनिश्चित करने वाली सर्वश्रेष्ठ ई-पहल मानते हुए मुम्बई में आयोजित एक कार्यक्रम में आईटी उत्कृष्टता पुरस्कार से सम्मानित किया गया है।

हरियाणा पुलिस के प्रवक्ता ने आज इस संबंध में जानकारी देते हुए बताया कि गुप्तचर विभाग के प्रमुख व अतिरिक्त पुलिस महानिदेशक श्री अनिल कुमार राव ने बॉम्बे एग्जीबिशन सेंटर, मुंबई में आयोजित इन्फोकॉम इवेंट के दौरान हरियाणा पुलिस की ओर से यह प्रतिष्ठित सम्मान प्राप्त किया।

उल्लेखनीय है कि गत 30 अगस्त को नई दिल्ली में आयोजित स्काॅच समिट-2019 के दौरान ‘दुर्गा शक्ति ऐप‘ को स्काॅच गवर्नेंस अवार्ड से सम्मानित किया गया था। इससे पहले भी अगस्त माह में ही, प्रशिक्षण, क्षमता निर्माण और सामुदायिक पुलिसिंग के क्षेत्र में उल्लेखनीय पहल के लिए हरियाणा पुलिस को फिक्की स्मार्ट पुलिसिंग अवार्ड से नवाजा गया था।
दो प्रतिष्ठित पुरस्कारों से नवाजे जाने पर पुलिस अधिकारियों को बधाई देते हुए, पुलिस महानिदेशक (डीजीपी), श्री मनोज यादव ने कहा कि यह बहुत गर्व की बात है कि राज्य पुलिस द्वारा किए जा रहे विभिन्न प्रयासों को राष्ट्रीय स्तर पर सराहा जा रहा है।  उन्होने दुर्गा शक्ति टीम को भी बधाई दी।

मुख्यमंत्री श्री मनोहर लाल द्वारा 12 जुलाई, 2018 को दुर्गा शक्ति रैपिड एक्शन फोर्स के साथ इस ऐप को लॉन्च किया गया था। महिलाएं इस ऐप के माध्यम से प्राप्त जानकारी पर की गई पुलिस की त्वरित कार्रवाई में अपना विश्वास जता रही हैं। 31 अगस्त तक, राज्य भर में 1,57,000 से अधिक महिलाओं द्वारा ऐप डाउनलोड किया गया है। ऐप पर प्राप्त 791 संदेशों व कॉलों के आधार पर 53 प्राथमिकी दर्ज कर 31 निवारक कार्रवाई की गई हैं और इस ऐप पर रिपोर्ट किए जाने के बाद 707 मामलों को सौहार्दपूर्वक तरीके से हल किया गया है। ऐप गूगल तथा एप्पल पले स्टोर दोनों पर उपलब्ध है और इसे मुफ्त में डाउनलोड किया जा सकता है।

कृपया अपनी खबरें, सूचनाएं या फिर शिकायतें सीधे editorlokhit@gmail.com पर भेजें। इस वेबसाइट पर प्रकाशित लेख लेखकों, ब्लॉगरों और संवाद सूत्रों के निजी विचार हैं। मीडिया के हर पहलू को जनता के दरबार में ला खड़ा करने के लिए यह एक सार्वजनिक मंच है।