संत शिरोमणि श्री गुरु रविदास विश्व महापीठ (भारत) ने चतुर्थ राष्ट्रीय अधिवेशन कार्यक्रम आयोजित किया
February 23rd, 2021 | Post by :- | 204 Views

चंडीगढ़ (मनोज शर्मा) नई दिल्ली स्थित विज्ञान भवन में श्री गुरु रविदास जी के 644वें जन्मदिवस के शुभ अवसर पर संत शिरोमणि श्री गुरु रविदास विश्व महापीठ (भारत) का चतुर्थ राष्ट्रीय अधिवेशन कार्यक्रम आयोजित किया गया । कार्यक्रम में महामहिम राष्ट्रपति रामनाथ कोविंद  मुख्य अतिथि के रूप में उपस्थित रहे ।  हरियाणा के राज्यपाल सत्यनारायण आर्य व उत्तराखण्ड के राज्यपाल श्रीमती बेबी रानी मौर्य भी विशिष्ट अतिथि के तौर पर उपस्थित रहे।

संत शिरोमणि श्री गुरु रविदास विश्व महापीठ (भारत) के चण्डीगढ़ प्रेस सचिव जसपाल सिंह ने बताया कि कार्यक्रम में महामहिम राष्ट्रपति, संत शिरोमणि श्री गुरु रविदास विश्व महापीठ के अंतरराष्ट्रीय अध्यक्ष राज्यसभा सदस्य दुष्यंत गौतम, राष्ट्रीय अध्यक्ष रविदासचार्य सुरेश राठौर, अनुसूचित जाति राष्ट्रीय आयोग के चेयरमैन विजय सांपला, पीठ के राष्ट्रीय अध्यक्ष रविदासचर्य सुरेश राठौर, अनुसूचित जाति आयोग पंजाब के पूर्व चेयरमैन पीठ के राष्ट्रीय महामंत्री राजेश बाघा, पीठ के राष्ट्रीय महामंत्री  सूरज कटारिया व सभी वक्ताओं ने कहा कि सन्त शिरोमणि श्री गुरु रविदास जी ने पूरी मानवता के कल्याण के लिए काम किया व शिक्षा दी ।

ऐसा चाहूँ राज मै, जहाँ मिले सबन को अन्न ।  छोटे बड़े सम बसे रविदास रहे प्रसन्नं : संत शिरोमणि श्री गुरु रविदास जी
उनके अनुयायियों में मीरा बाई, सुल्तान सिकन्दर लोदी, राणा सांगा, राजा भोजराज, राजा बैन सिंह सहित अनेक राजा व सभी जातियों के अनुयायी थे । संत शिरोमणि श्री गुरु रविदास जी ने ” ऐसा चाहूँ राज मै, जहाँ मिले सबन को अन्न ।  छोटे बड़े सम बसे रविदास रहे प्रसन्नं । ” शब्दों द्वारा सबके  कल्याण की बात की है ।

चंडीगढ़ से जसबीर सिंह मेहता अध्यक्ष चंडीगढ़ ,  किशन दास उपाध्यक्ष, डॉ.सूरेंदर पाल चौहान महामंत्री,  सुरमुख सिंह उपाध्यक्ष, जसविंदर कौर महामंत्री , गुरबाक्स सिंह, सचिव जगतपाल सचिव , सरबजीत कौर सचिव,  केवल सिंह विशेष आमंत्रित, बलबीर कौर,राजिंदर कौर,जयकरन , बलविंदर कुमार और जसपाल सिंह प्रेस सचिव ने उपरोक्त कार्यक्रम में भाग लिया ।

कृपया अपनी खबरें, सूचनाएं या फिर शिकायतें सीधे editorlokhit@gmail.com पर भेजें। इस वेबसाइट पर प्रकाशित लेख लेखकों, ब्लॉगरों और संवाद सूत्रों के निजी विचार हैं। मीडिया के हर पहलू को जनता के दरबार में ला खड़ा करने के लिए यह एक सार्वजनिक मंच है।