गौ माता की सेवा सबसे बड़ी सेवा : पूर्व चेयरमैन कर्मवीर राठी
February 20th, 2021 | Post by :- | 217 Views
बहादुरगढ़ लोकहित एक्सप्रेस ब्यूरो चीफ (गौरव शर्मा)
पूर्व चेयरमैन कर्मवीर राठी ने गौधन सेवा समिति को अपनी नेक कमाई से 51 हजार का किया दान
बहादुरगढ़। गौधन सेवा समिति द्वारा आयोजित 7वां वार्षिक तीन दिवसीय गौ सेवार्थ समर्पण महोत्सव एवं हवन यज्ञ का आयोजन 19 फरवरी से 21 फरवरी तक नेशनल हाइवे-10 गांव जाखोदा मेन रोहतक रोड़ पर किया जा रहा हैं। कार्यक्रम के दूसरे दिन में बतौर मुख्यअतिथि पूर्व चेयरमैन कर्मवीर राठी ने शिरकत की। समिति पदाधिकारियों ने पूर्व चेयरमैन कर्मवीर राठी का फूल माला, पटका पहनाकर व स्मृति चिह्न भेंट करके स्वागत किया गया। उन्होंने अपनी नेक कमाई से 51,000 रुपये दान स्वरूप समिति को दिए।
पूर्व चेयरमैन कर्मवीर राठी ने कहा कि गौ माता की सेवा में कई सेवाओं का लाभ छूपा है। धरती पर गौ सेवा करने से बड़ी कोई सेवा नहीं है। उन्होंने कहा कि गौ सेवा करने वाला व्यक्ति जन्म-जन्म तक पाप मुक्त हो जाता है। इसलिए हमें गौ सेवा के इस पुण्य कार्य में बढ़चढ़कर सहयोग करना चाहिए। कर्मवीर राठी ने कहा कि हर वर्ष की भांति गौधन सेवा समिति धार्मिक व सामाजिक कार्यक्रम करती रहती है। उन्होंने कहा कि इस तरह के कार्यक्रमो से भाईचारा बढ़ता है। कर्मवीर राठी ने कहा कि बेसहारा पीड़ित गौवंश एवं वन्य जीव उपचार संरक्षण हेतु सराहनीय कार्य रही है।
गऊसेवा, गरीब तथा असहाय मनुष्यों की सेवा करना ही सबसे बड़ा मानव धर्म : कर्मवीर राठी
कर्मवीर राठी ने कहा कि जो व्यक्ति गौमाता व अपने माता-पिता की सेवा करता है वह प्रभु का सबसे प्रिय जीव होता है। कर्मवीर राठी ने कहा कि शास्त्रों में भी लिखा है कि जहां गाय व नारी की पूजा होती है वहां प्रभु स्वयं वास करते हैं। उन्होंने कहा कि आज के इस युग में गऊसेवा, गरीब तथा असहाय मनुष्यों की सेवा करना ही सबसे बड़ा मानव धर्म है। गऊसेवा को हमारे समाज में आदि काल से ही सर्वोत्तम सेवा माना गया है। इस अवसर पर समिति प्रधान रमेश राठी, कृष्ण चावला, संदीप आर्य, बिजेंद्र राठी, अमित आर्य, सुनील छिल्लर, सोनू बंसल, ललित आर्य, नीतीश गौड़, संजीव मलिक, राजा जून, हरिप्रकाश गौतम, कमल रोहिल्ला आदि मौजूद रहें।

कृपया अपनी खबरें, सूचनाएं या फिर शिकायतें सीधे editorlokhit@gmail.com पर भेजें। इस वेबसाइट पर प्रकाशित लेख लेखकों, ब्लॉगरों और संवाद सूत्रों के निजी विचार हैं। मीडिया के हर पहलू को जनता के दरबार में ला खड़ा करने के लिए यह एक सार्वजनिक मंच है।