फेसबुक पर धोखाधड़ी करके रुपए ऐठने वाला नाइजीरियन चढ़ा सीआईए के हत्थे
February 19th, 2021 | Post by :- | 85 Views

होडल, (मधुसूदन भारद्वाज), पुलिस अधीक्षक पलवल दीपक गहलावत के कुशल मार्गदर्शन में कार्य करते हुए सीआईए पुलिस ने साइबर सेल की मदद से फेसबुक के जरिए धोखाधड़ी करके रुपए ठगने वाला एक नाइजीरियन को गिरफ्तार करने में सफलता हासिल की है। पुलिस ने आरोपी के कब्जे से वारदात में प्रयोग 3 मोबाइल तथा एक मॉडम को भी बरामद किए है। आरोपी को पेश अदालत करके 3 दिन के पुलिस रिमांड पर लिया गया है
सीआईए पलवल प्रभारी निरीक्षक अशोक कुमार ने जानकारी देते हुए बताया कि 2 फरवरी 2021 को गुलावत गांव निवासी कृष्ण कुमार ने थाना हसनपुर में शिकायत दर्ज कराई कि जुलाई 2019 में उसकी दोस्ती फेसबुक के जरिए एक विदेशी से हुई थी, जिसने उसे अगस्त 2019 में दिल्ली आकर सोने का व्यापार करने की सलाह दी और कहा कि वह उसे एयरपोर्ट पर आने के बाद फोन करेगी। उसने एयरपोर्ट पर एक फोन के जरिए कहा कि उसे कस्टम ऑफिसर ने पकड़ लिया है ओर उसने कस्टम ऑफिसर से बात कराई और उससे ₹900000 देने के बाद उसके विदेशी मित्र को छोड़ने बारे कहा, जिसको पीड़ित ने उसके द्वारा दिए गए अकाउंट में ₹900000 रुपए जमा कर दिए। बाद में उन्होंने कहा कि ₹300000 और देने होंगे तभी इस को छोड़ा जाएगा, जिस पर अगले दिन पीड़ित ने फोन किया तो उन्होंने आगे से कोई फोन ना करने का कहा। उसके बाद उसका विदेशी मित्र अलग-अलग नामों से फेसबुक अकाउंट यूज करने लगा। बाद में अपने साथ हुई इस धोखाधड़ी के संबंध में थाना हसनपुर में मुकदमा दर्ज कराया।
प्रभारी ने बताया कि इस संबंध में साइबर सेल प्रभारी विनोद कुमार की मदद से एक आरोपी को 18 फरवरी 2021 को कृष्णा पार्क देवली रोड नई दिल्ली से गिरफ्तार किया गया है। उन्होंने बताया कि आरोपी की पहचान Ebuka Prince S/o Okafor निवासी नाइजीरिया के रूप में हुई है। पुलिस ने आरोपी से अभी तक वारदात में प्रयोग 3 मोबाइल तथा एक मॉडम बरामद किया है। आरोपी को अदालत में पेश करके 3 दिन के पुलिस रिमांड पर लिया गया है। आरोपी से ₹900000 रुपए, वारदात में प्रयुक्त अन्य मोबाइल तथा कंप्यूटर की बरामदगी एवं सह आरोपियों की गिरफ्तारी के प्रयास किए जाएंगे। आरोपी से गहनता से पूछताछ जारी है

कृपया अपनी खबरें, सूचनाएं या फिर शिकायतें सीधे editorlokhit@gmail.com पर भेजें। इस वेबसाइट पर प्रकाशित लेख लेखकों, ब्लॉगरों और संवाद सूत्रों के निजी विचार हैं। मीडिया के हर पहलू को जनता के दरबार में ला खड़ा करने के लिए यह एक सार्वजनिक मंच है।